नालन्दा:शैक्षणिक चेतना का प्रमुख पर्यटन स्थल

Share Button
विश् के प्राचीनतम विश्वविद्यालय के अवशेषों को अपने आंचल में समेटे नालन्दा बिहार का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां सुदूर देशों से छात्र अध्ययन के लिये भारत आते थे।नालन्दा विश्वविद्यालय के अवशेषों की खोज अलेक्जेंडर कनिंघम ने की थी। माना जाता है कि इस विश्वविद्यालय की स्थापना 450 में गुप् शासक कुमारगुप् ने की थी। इस विश्वविद्यालय को इसके बाद आने वाले सभी शासक वंशों का समर्थन मिला। बुद्ध और महावीर कई बार नालन्दा मे ठहरे थे। माना जाता है कि महावीर ने मोक्ष की प्राप्ति पावापुरी मे की थी, जो नालन्दा से क़रीब है गौतम बुद्ध के प्रमुख छात्रों मे से एक, शारिपुत्र, का जन्म नालन्दा में ही हुआ था। कहा जाता है कि 12‍वीं सदी में बंगाल पर क़ब्ज़ा करने वाले एख़्तेयारूद्दीन अहमद बिन बख्तियार खलजी ने इस विश्वविद्यालय को जला डाला। यहां पर्यटक विश्वविद्यालय के अवशेष, संग्रहालय, नव नालंदा महाविहार तथा ह्वेनसांग मेमोरियल हॉल देख सकते हैं। इसके अलावा इसके आसपास में भी घूमने के लिए बहुत से पर्यटक स्थल है। राजगीर, पावापुरी, गया तथा बोधगया यहां के नजदीकी पर्यटन स्थल है।
प्रमुख आकर्षणप्राचीन विश्वविद्यालय के अवशेषों का परिसर 14 हेक्टेयर क्षेत्र में इस विश्वविद्यालय के अवशेष मिले हैं। खुदाई में मिली सभी इमारतों का निर्माण लाल पत्थर से किया गया था। यह परिसर दक्षिण से उत्तर की ओर बना हुआ है। मठ या विहार इस परिसर के पूर्व दिशा में स्थित थे जबकि मंदिर या चैत् पश्चिम दिशा में। वर्तमान समय में भी यहां दो मंजिला इमारत मौजूद है। यह इमारत परिसर के मुख् आंगन के समीप बनी हुई है। संभवत: यहां ही शिक्षक अपने छात्रों को संबोधित किया करते थे। इस विहार में एक छोटा सा प्रार्थनालय भी अभी सुरक्षित अवस्था में बचा हुआ है। इस प्रार्थनालय में भगवान बुद्ध की प्रतिमा स्थापित है। यह प्रतिमा भग् अवस्था में है। यहां स्थित मंदिर नं 3 इस परिसर का सबसे बड़ा मंदिर है। इस मंदिर से समूचे क्षेत्र का विहंगम दृश् देखा जा सकता है। यह मंदिर कई छोटेबड़े स्तूपों से घिरा हुआ है। इन सभी स्तूपो में विभिन् मुद्राओं में भगवान बुद्ध की मूर्तियां बनी हुई है।

नालन्दा पुरातत्वीय संग्रहालयविश्विद्यालय परिसर के विपरीत दिशा में एक छोटा सा पुरातत्विक संग्रहालय बना हुआ है। इस संग्रहालय में खुदाई से प्राप् अवशेषों को रखा गया है। इसमें भगवान बुद्ध की विभिन् प्रकार की मूर्तियों का अच्छा संग्रहहै। साथ ही बुद्ध की टेराकोटा मूर्तियां और प्रथम शताब्दी के दो जार भी इस संग्रहालय में रखे हए हैं। इसके अलावा इस संग्रहालय में तांबे की प्लेट, पत्थर पर खुदा अभिलेख, सिक्के, बर्तन तथा 12वीं सदी के चावल के जले हुए दाने रखे हुए हैं। इसके खुलने का समय सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक है और शुक्रवार को यह बंद रहता है। नव नलन्दा महाविहारयह एक शिक्षा संस्थान है। इसमें पाली साहित् तथा बौद्ध धर्म की पढ़ाई तथा अनुसंधान होता है। यह एक नया संस्थान है। यहां दूसरे देशों के छात्र भी पढ़ाई के लिए ते हैं।

ह्वेनसांग मेमोरियल हॉल—- यह एक नवर्निमित भवन है। यह भवन चीन के महान तीर्थयात्री ह्वेनसांग की याद में बनवाया गया है। इसमें ह्वेनसांग से संबंधित वस्तुओं तथा उनकी मूर्ति देखी जा सकता हैं। यहां का नजदीकी हवाई अड्डा पटना का जयप्रकाश नारायण हवाई अड्डा है जो यहां से 89 किलोमीटर दूर है। कोलकाता, रांची, मुंबई, दिल्ली तथा लखनऊ से पटना के लिए सीधी हवाई सेवा उपलब्ध है। नालन्दा में रेलवे स्टेशन भी है। लेकिन यहां का प्रमुख रेलवे स्टेशन राजगीर है। राजगीर जाने वाली सभी ट्रेने नालंदा होकर जाती हैं। नालंदा सड़क मार्ग द्वारा राजगीर (15 किमी), बोधगया (110 किमी), गया (95 किमी), पटना (90 किमी), पावापुरी (26 किमी) तथा बिहार शरीफ (13 किमी) से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। ज्यादातर पर्यटक राजगीर में ठहरना पसंद करते हैं। राजगीर में सामान्य दरों काफ़ी हॉटल मिल जाते हैं पर्यटक बिहार स्टेट टूरीज़म के बने 3गेस्ट हाउस (तथागत विहार, अजातशत्रु विहार और गौतम विहार) में भी ठहर सकते हैं। यहां की स्थानीय कला और कारीगरी, शिल्पकला और मधुबनी पेंटिंग बहुत मशहुर हैं। इनकी खरीदारी कुंड़ एरीया के मेन मार्केट की हैंडीक्राफट शॉप और एरीयल रोपवे से की जा सकती है।
Share Button

Related News:

जिलाध्यक्ष की कार्यशैली पर बरसे कौशलेन्द्र, बोले- अपनाया गया असंवैधानिक प्रोपगंडा
ससुराल वालों ने दहेज की खातिर विवाहिता को मार डाला!
ई कौन है जो राजगीर थाना में यूं बौराता है और कोई कुछ नहीं बोलता, देखिए वीडियो
प्रखंड कार्यालय में यूं जमी है जदयू नेता की शिक्षिका पत्नी,विभाग लापरवाह
पुलिस कस्टडी में मृत JDU नेता के पुत्र ने थानेदार समेत 4 के खिलाफ SC-ST थाना में दर्ज कराया मर्डर के...
5 महिलाओं से 62.60 लाख की ठगी, 7 पर एफआईआर, 2 गिरफ्तार
ग्रामीण विकास मंत्री के क्षेत्र के इस गांव में देखिए जल नल का हाल, जनप्रतिनिधि-अफसर सब नकारा
हिलसा सीओ-नाजिर पर गिरी डीएम की गाज, सड़क हादसा के बाद मची थी भारी उपद्रव
परबलपुर वासियों को झकझोर डाला ऐसे दो सगे भाई की मौत
सीएम-डीजीपी के इस सख्त आदेश के बाद नालंदा के नकारे थानेदारों के फुले हाथ-पैर
राजगीर थानाध्यक्ष ने जेनरेटर समेत धराए चोर को 2 दिन हाजत में रखने के बाद छोड़ दिया
बिहार शरीफ नहीं जनाब, यहां सिर्फ लुटेरे अफसर-ठेकेदार बन रहे हैं स्मार्ट
प्रेमिका के चक्कर में पत्नी को जिंदा जला कर मार डाला!
महान स्वतंत्रता सेनानी बाबू वीर कुंवर सिंह की जयंती मनाई
35 प्रत्याशी मैदान में, एक का नामांकन रद्द, 3 इवीएम की पड़ेगी जरुरत
पुलिस ने लूट के महज 4 घंटा बाद ही राशि, बाइक, हथियार समेत 9 को दबोचा !
हरनौत से बिहारशरीफ जा रहे शिक्षक को बेना थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े गोली मारी, हालत गंभीर
गंगा स्नान करने जा रही महिला को बस ने कुचला, मौत, बाइक चालक गंभीर,हिलसा-फतुहा मार्ग जाम
हम प्रत्याशी समर्थकों ने छोटे-छोटे बच्चों को चुनाव प्रचार में यूं लगाया
बुजुर्ग की हत्या से तनाव, बारिश का पानी को लेकर पहले हुई हिंसक झड़प
वोटिंग खत्म के साथ ही बदमाशों का बोलबाला
आपसी विवाद में गोलीबारी, पुलिस टीम पर भी गोलीबारी, दिव्यांग बच्चा को लगी गोली
सरकारी अस्पताल से नवजात  की चोरी के बाद हंगामा, आगजनी, सड़क जाम
वरेजा में आग लगने से करीब 5 लाख की मगही पान की फसल राख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
loading...
Don`t copy text!
» डीएम ने ई-गवर्नेंस की बैठक दिए ये अहम निर्देश, आप भी जानिए   » राजगीर बीच बाजार युवक को गोली मारी, पटना रेफर   » शासन की हस्तक्षेप से उपद्रवियों की मंशा पर फिरा पानी   » समस्याग्रस्त नगर में चल रहा मेयर-उप मेयर की घिनौनी राजनीति   » बाप को गोली मारने जा रहा बेटा हथियार समेत धराया   » पेयजल समस्या को लेकर ग्रामीणों ने 3 घंटा रखा इस्लामपुर-पटना मुख्य सड़क जाम   » फिर बौराई पुलिस, सेवानिवृत शिक्षक को शराब कारोबारी बना हाजत में किया बंद   » प्रेमिका के चक्कर में पत्नी को जिंदा जला कर मार डाला!   » मनरेगा में लाखों का फर्जीवाड़ा, विरोध में नगरनौसा थाना का घेराव!   » अब कानून की धज्जियां उड़ाने वाले बिहार थाना इंस्पेक्टर दीपक कुमार का नपना तय