नालन्दा:शैक्षणिक चेतना का प्रमुख पर्यटन स्थल

Share Button
विश् के प्राचीनतम विश्वविद्यालय के अवशेषों को अपने आंचल में समेटे नालन्दा बिहार का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां सुदूर देशों से छात्र अध्ययन के लिये भारत आते थे।नालन्दा विश्वविद्यालय के अवशेषों की खोज अलेक्जेंडर कनिंघम ने की थी। माना जाता है कि इस विश्वविद्यालय की स्थापना 450 में गुप् शासक कुमारगुप् ने की थी। इस विश्वविद्यालय को इसके बाद आने वाले सभी शासक वंशों का समर्थन मिला। बुद्ध और महावीर कई बार नालन्दा मे ठहरे थे। माना जाता है कि महावीर ने मोक्ष की प्राप्ति पावापुरी मे की थी, जो नालन्दा से क़रीब है गौतम बुद्ध के प्रमुख छात्रों मे से एक, शारिपुत्र, का जन्म नालन्दा में ही हुआ था। कहा जाता है कि 12‍वीं सदी में बंगाल पर क़ब्ज़ा करने वाले एख़्तेयारूद्दीन अहमद बिन बख्तियार खलजी ने इस विश्वविद्यालय को जला डाला। यहां पर्यटक विश्वविद्यालय के अवशेष, संग्रहालय, नव नालंदा महाविहार तथा ह्वेनसांग मेमोरियल हॉल देख सकते हैं। इसके अलावा इसके आसपास में भी घूमने के लिए बहुत से पर्यटक स्थल है। राजगीर, पावापुरी, गया तथा बोधगया यहां के नजदीकी पर्यटन स्थल है।
प्रमुख आकर्षणप्राचीन विश्वविद्यालय के अवशेषों का परिसर 14 हेक्टेयर क्षेत्र में इस विश्वविद्यालय के अवशेष मिले हैं। खुदाई में मिली सभी इमारतों का निर्माण लाल पत्थर से किया गया था। यह परिसर दक्षिण से उत्तर की ओर बना हुआ है। मठ या विहार इस परिसर के पूर्व दिशा में स्थित थे जबकि मंदिर या चैत् पश्चिम दिशा में। वर्तमान समय में भी यहां दो मंजिला इमारत मौजूद है। यह इमारत परिसर के मुख् आंगन के समीप बनी हुई है। संभवत: यहां ही शिक्षक अपने छात्रों को संबोधित किया करते थे। इस विहार में एक छोटा सा प्रार्थनालय भी अभी सुरक्षित अवस्था में बचा हुआ है। इस प्रार्थनालय में भगवान बुद्ध की प्रतिमा स्थापित है। यह प्रतिमा भग् अवस्था में है। यहां स्थित मंदिर नं 3 इस परिसर का सबसे बड़ा मंदिर है। इस मंदिर से समूचे क्षेत्र का विहंगम दृश् देखा जा सकता है। यह मंदिर कई छोटेबड़े स्तूपों से घिरा हुआ है। इन सभी स्तूपो में विभिन् मुद्राओं में भगवान बुद्ध की मूर्तियां बनी हुई है।

नालन्दा पुरातत्वीय संग्रहालयविश्विद्यालय परिसर के विपरीत दिशा में एक छोटा सा पुरातत्विक संग्रहालय बना हुआ है। इस संग्रहालय में खुदाई से प्राप् अवशेषों को रखा गया है। इसमें भगवान बुद्ध की विभिन् प्रकार की मूर्तियों का अच्छा संग्रहहै। साथ ही बुद्ध की टेराकोटा मूर्तियां और प्रथम शताब्दी के दो जार भी इस संग्रहालय में रखे हए हैं। इसके अलावा इस संग्रहालय में तांबे की प्लेट, पत्थर पर खुदा अभिलेख, सिक्के, बर्तन तथा 12वीं सदी के चावल के जले हुए दाने रखे हुए हैं। इसके खुलने का समय सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक है और शुक्रवार को यह बंद रहता है। नव नलन्दा महाविहारयह एक शिक्षा संस्थान है। इसमें पाली साहित् तथा बौद्ध धर्म की पढ़ाई तथा अनुसंधान होता है। यह एक नया संस्थान है। यहां दूसरे देशों के छात्र भी पढ़ाई के लिए ते हैं।

ह्वेनसांग मेमोरियल हॉल—- यह एक नवर्निमित भवन है। यह भवन चीन के महान तीर्थयात्री ह्वेनसांग की याद में बनवाया गया है। इसमें ह्वेनसांग से संबंधित वस्तुओं तथा उनकी मूर्ति देखी जा सकता हैं। यहां का नजदीकी हवाई अड्डा पटना का जयप्रकाश नारायण हवाई अड्डा है जो यहां से 89 किलोमीटर दूर है। कोलकाता, रांची, मुंबई, दिल्ली तथा लखनऊ से पटना के लिए सीधी हवाई सेवा उपलब्ध है। नालन्दा में रेलवे स्टेशन भी है। लेकिन यहां का प्रमुख रेलवे स्टेशन राजगीर है। राजगीर जाने वाली सभी ट्रेने नालंदा होकर जाती हैं। नालंदा सड़क मार्ग द्वारा राजगीर (15 किमी), बोधगया (110 किमी), गया (95 किमी), पटना (90 किमी), पावापुरी (26 किमी) तथा बिहार शरीफ (13 किमी) से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। ज्यादातर पर्यटक राजगीर में ठहरना पसंद करते हैं। राजगीर में सामान्य दरों काफ़ी हॉटल मिल जाते हैं पर्यटक बिहार स्टेट टूरीज़म के बने 3गेस्ट हाउस (तथागत विहार, अजातशत्रु विहार और गौतम विहार) में भी ठहर सकते हैं। यहां की स्थानीय कला और कारीगरी, शिल्पकला और मधुबनी पेंटिंग बहुत मशहुर हैं। इनकी खरीदारी कुंड़ एरीया के मेन मार्केट की हैंडीक्राफट शॉप और एरीयल रोपवे से की जा सकती है।
Share Button

Related News:

ऑटो-बाइक की टक्कर में 2 अधिवक्ता समेत 6 घायल, 4 की हालत गंभीर 
गैंग रेप पीड़ित छात्रा-परिवार से मिले नालंदा के विधान पार्षद रीना यादव
मॉब लिचिंग के हत्थे चढा विक्षिप्त युवक, पुलिस ने बचाई जान
सुरेन्द्र के हत्यारों को दबोच कड़ी सजा देने की मांग को लेकर माले का प्रदर्शन
भारी मात्रा में शराब बरामद, धराया एक धंधेबाज
लू को लेकर नालंदा में भी धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू, पुलिस-प्रशासन चौकस
बाइक सवार को बचाने में पलटी मछली वाहन, 5 घायल, लोग मछली लूट भागे
बुद्धा इंटरनेशनल स्कूल चंडी के बच्चों ने यूं उकेरी मोहक रंगोली
कल सिनेमा घरों में रिलीज होगी शिक्षा माफिया पर आधारित फिल्म सेटर
 डीएम की अध्यक्षता में सड़क सुरक्षा समिति की बैठक, दिए ये निर्देश
नालंदा को उमस भरी गर्मी से मिली बड़ी राहत
शराब पीकर चालक ने चरही घाटी में बस पलटी, 3 महिला समेत 4 की मौत, 15 घायल, 4 गंभीर, रिम्स रेफर
किराना स्टोर में बिक रही थी शराब, कारोबारी पिता-पुत्र समेत 3 धराए
जिला निर्वाचन पदाधिकारी योगेन्द्र सिंह ने बैठक में दिए अहम निर्देश
जब नालंदा की जमीं चंडी में पहली बार उतरा रामगढ़ महाराज का हेलिकॉप्टर!
पुलिस ने मॉब लीचिंग से विक्षिप्त महिला की बचाई जान
नाबालिग-अनाड़ी ऑटो चालक यूं लील रहे जिंदगी, शिक्षक की भी मौत
राजगीर नगर पंचायत उपाध्यक्ष पर अविश्वास प्रस्ताव, लगाया गंदी राजनीति, निजी स्वार्थ, मनमानी का आरोप
ससुराल लाकर युवक को यूं बेरहमी से काट कर मार डाला !
यहां आकर्षण का मुख्य केंद्र बना भगवान भास्कर की प्रतिमा
सीएम-डीजीपी के इस सख्त आदेश के बाद नालंदा के नकारे थानेदारों के फुले हाथ-पैर
नगरनौसा जेई की काली करतूत, खुद की लापरवाही ब्लैकमेलिंग का जरिया न बना तो हाइवा को फंसा दिया
अदद पैक्स मेंबर बनने के लिए यूं भटक रहे किसान, उधर अफसर बने हैं लापरवाह
परिसीमन आयोग की भेंट चढ़े चंडी विधानसभा के स्वर्णिम अतीत का दुर्भाग्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...

You may have missed

Don`t copy text!
» पुलिस ने पकड़ी 3 वाहन समेत शराब की बड़ी खेप, लेकिन कारोबारी फरार   » 550वां प्रकाश पर्व पर 27-29 दिसंबर को होगी ये विशेष व्यवस्था   » नेहरू युवा केंद्र द्वारा पंडितपुर में फुटबॉल प्रतियोगिता, उदय क्लब ने आजाद युवा को 2-0 से हराया   » इसलामपुर में 35 कार्टून अंग्रेजी शराब बरामद, ट्रैक्टर टेलर व ट्वेटा वाहन जप्त, 2 धराए   » नंदकिशोर महिला इंटर कॉलेज में 6.06 लाख की गबन का FIR दर्ज   » स्कूली बच्चों के भोजन में मृत बिच्छू ! लापरवाही या साजिश? जांच का विषय   » निगरानी डीएसपी ने थरथरी प्रखंड आवास सहायक को 10 हजार घूस लेते रंगे हाथ यूं दबोचा   » राजगीर नगर पंचायतः पूर्व पार्षद की शिकायत पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने मुख्य सचिव से मांगी जांच रिपोर्ट   » कोर्ट के आदेश की अवहेलना- ‘लापरवाह जेलर हाजिर हो’   » पर्यवेक्षण गृह नहीं, पाठशाला !