अंततः हटाए गए पोरिका, 18 साल बाद पुलिस कप्तान बन लौटे नीलेश | Nalanda Darpan

अंततः हटाए गए पोरिका, 18 साल बाद पुलिस कप्तान बन लौटे नीलेश

Share Button

नालंदा दर्पण। अब तक के सार्वाधिक विवादास्पद छवि के पुलिस कप्तान रहे सुधीर कुमार पोरिका नालंदा से विदा हो गए।

बिहार सरकार ने भारतीय पुलिस सेवा के जिन 9 अधिकारियों का तबादला किया है। उसमें नालंदा के एसपी सुधीर कुमार पोरिका का भी तबादला हो गया है।

अब नालंदा के पुलिस कप्तान की कमान भारतीय पुलिस सेवा के नए अधिकारी निलेश कुमार संभालेंगे। बताया जाता है कि नालंदा के नये पुलिस कप्तान पूर्व में हिलसा डीएसपी के रूप में कार्य कर चुके हैं ।

बिहार पुलिस में सेवा देते हुए निलेश कुमार ने 16 दिसंबर वर्ष 1999  से 28  मार्च वर्ष 2001 तक हिलसा के डीएसपी के रूप में कार्य कर चुके हैं।

जानकार बताते हैं कि इस दौरान उनका कार्यकाल बेहतर रहा है और उनकी पहचान एक  कड़क मिजाज के पुलिस अफसर के रूप में रहा है।

हिलसा के डीएसपी का पदभार उन्होंने ऐसे समय में लिया था, जब उस समय हिलसा अनुमंडल क्षेत्र पूरी तरह से उग्रवाद प्रभावित के रूप में जाना जाता था।

हिलसा से सटे जहानाबाद तथा मसौढी का भी इलाकों में उग्रवादियों की हनक का असर हिलसा अनुमंडल थाना क्षेत्र में था।

उन्हें हर दिन नक्सली एवं सत्ता के संरक्षण में पल रहे अपराधियों से वास्ता पड़ता था। बावजूद तब उन्होंने हल्का-फुल्का विवादित मामलों को छोड़ अपना कार्य काफी सफलतापूर्वक निभाई।

एक बार फिर 18 साल बाद नीलेश कुमार नालंदा की शोभा बढायेगे लेकिन इस बार वें नालंदा के पुलिस कप्तान के रूप में।

नालंदा की जनता को नये एसपी से काफी उम्मीदें है। वही नालंदा में बढ़ते क्राइम कंट्रोल की भी चुनौती नये एसपी के समक्ष होगी।

277

Related posts:

सोशल साइट को यूं बनाएं कमाई का जरिया
घोड़ा कटोरा झीलः 22 करोड़ खर्च से 50 फीट ऊंची बुद्ध की मूर्ति निर्माण पूरा
चंडी में सरकारी अस्पताल ने भगाया, नीम हकीम ने ली जच्चा-बच्चा की जान, हंगामा
बिहार शरीफ में मिला डेंगू मरीज, दहशत
नालंदा के सभी 20 प्रखंडों में सुखाड़,  कृषि विभाग को भेजा जा रहा प्रतिवेदन
हरनौत में प्रखंड कार्यालय सहायक की गोली मार कर हत्या, लोगों में आक्रोश
लोजद की परिवर्तन रैली की तैयारियां पूरी, संरक्षक शरद यादव करेंगे उद्घाटन
राजगीर अंबेदकर चौक पर मना बाबा साहेब का महापरिनिर्वाण दिवस
राजगीर के ये 3 ABVP कार्यकर्ता बने प्रदेश कार्यसमिति सदस्य, हुआ अभिनंदन
नीतीश के गढ़ में गरजे मांझी- कुशासन की ओर बढ़ रहा बिहार
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: @सर्वाधिकार सुरक्षित