संत रविदास की मूर्ति को लेकर गांव में तनाव, पुलिस कर रही कैंप | Nalanda Darpan

संत रविदास की मूर्ति को लेकर गांव में तनाव, पुलिस कर रही कैंप

Share Button

नालंदा जिले के एकंगरसराय थानान्तर्गत बरसीमा गांव में संत शिरोमणि जगत गुरु रविदास की मूर्ति स्थापना को लेकर दो गुटों के बीच तनाव की स्थिति उत्पन्न होने की सूचना है।

हालांकि कहा जा रहा है कि वहां मूर्ति को एक विरोधी समुदाय के लोगों  ने तोड़ दिया गया है, लेकिन पुलिस-प्रशासन ने ऐसी किसी भी घटना का खंडन किया है।

विश्वस्त सूत्रों के अनुसार वरसीमा गांव में एक जाति विशेष के लोग सार्वजनिक (सरकारी) भूमि पर संत शिरोमणि जगत गुरु रविदास की कच्ची मूर्ति बैठा कर पूजा करते आए हैं। लेकिन इस बार वहां एक पक्की मूर्ति बैठाई गई है और मंदिर निर्माण की तैयारी उभर कर सामने आई।

कहते हैं कि दूसरे समुदाय के लोग ऐसा होने देना नहीं चाहते हैं और सार्वजनिक-सरकारी भूमि होने के कारण विरोध करने लगे। इससे दोनों समुदाय के बीच तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई।

इसकी सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस-प्रशासन के लोग गांव पहुंचे और स्थिति को नियंत्रित किया। लेकिन अभी भी इस मामले को लेकर दो समुदाय के बीच अंदरुनी तनाव बनी हुई है।

इधर, हिलसा डीएसपी मुत्तफिक अहमद ने बताया कि कुछ लोगों द्वारा सन्त रविदास की प्रतिमा को खंडित किये जाने की झूठी अफवाफ फैलाया जा रहा है। प्रतिमा पूरी तरह से सुरक्षित है।

डीएसपी ने कहा कि इस सम्वन्ध में एकंगरसराय के अंचलाधिकारी को अग्रेतर कारवाई करने का निर्देश दिया गया है। फिलहाल, बरसीमा गांव में पुलिस बल कैम्प कर रही है।

154

Related posts:

अनियंत्रित स्कार्पियों ने बच्चे को रौंदा, हालत गंभीर
वेतन नहीं मिला, धरना पर बैठे आयुद्ध निर्माणी के सुरक्षाकर्मी
राजगीर थाना के बगल से महुआ शराब जप्त, महिला समेत 3 धराए
...और नालंदा के इस छोटी अयोध्या ईशरामपुर को इस्लामपुर बना दिया
5 दिनों से हाजत में बंद नाबालिग, राजगीर SHO मांग रहा 30 हजार, विरोध में सड़क जाम
देश में जातीयता, धर्मांधता एवं उग्रवाद की जहरीली हवा :पूर्व विधायक सतीश
धान लदी टैक्टर बीच सड़क पलटी, यूं दबा मोची
शिक्षक संघ ने भी शहीद जवानों को दी श्रद्धांजलि
ऐ सीएम नीतीश का लक्की चंडी फील्ड, अब तेरे हाल पर रोना आया !
डॉक्टर से रंगदारी मांगने के आरोप में साला-बहनोई गिरफ्तार
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: @सर्वाधिकार सुरक्षित