नगरनौसा थानाध्यक्ष को शराब की तलाशी लेना पड़ा महंगा, एसपी से हुई झूठी शिकायत | Nalanda Darpan

नगरनौसा थानाध्यक्ष को शराब की तलाशी लेना पड़ा महंगा, एसपी से हुई झूठी शिकायत

Share Button

“इन दिनों प्रतिबंधित शराब को लेकर पुलिस दोहरा दबाव झेलते दिख रही है। एक तरफ जहां उन्हें आला अफसरों का हुक्म के पालन की खौफ है तो दूसरी तरफ उन्हें ग्रामीणों के भी कम दबाव नहीं झेलने पड़ रहे हैं…..”

नालंदा दर्पण। ताजा मामला नगरनौसा थाना पुलिस से जुड़ा है। सुलेमानचक गांव के कुछ महिला-पुरुष ने नालंदा एसपी नीलेश कुमार को एक शिकायत आवेदन दी है। आरोप है कि रविवार की शाम 10-15 पुलिसकर्मी सुरेश दास के घर शराब की तलाश में आई। लेकिन पुलिस को शराब हाथ नहीं लगा।

इसके बाद पुलिस ने घर की महिलाओं को गाली-गलौज करते हुए मारपीट की। घर के सामानों को भी नुकसान पहुंचाया। पहले गृहस्वामी के घर से कभी शराब की बरामदगी नहीं हुई। बावजूद इसके परिवार को परेशान कर प्रताड़ित किया गया।

इधर नगरनौसा थानाध्यक्ष कमलेश कुमार ने एसपी से हुई शिकायत के प्रति अनभिज्ञता प्रकट करते हुए कहा कि वे खुद ग्रामीणों की सूचना पर ही कथित घर में शराब की तलाशी लेने गए थे। उनके साथ 2 अन्य कनीय अफसर और 4 पुलिसकर्मी साथ थे। तलाशी लेने के बाद जब कुछ नहीं मिला तो वे वापस लौट आए। इस दौरान कोई भी पुलिसकर्मी मारपीट तो दूर किसी प्रकार के अपशब्द नहीं बोला।

इधर एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क की पड़ताल में भी यह बात सामने आई है कि पुलिस की टीम सुलेमानचक गांव में सुरेश दास के घर पहुंचकर तलाशी ली थी और शराब बरामद नहीं हुई। लेकिन पुलिस ने भी किसी के साथ कोई अभद्रता या मारपीट नहीं की है।

514

Related posts:

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: @सर्वाधिकार सुरक्षित