बोले नालंदा डीएम- बच्चों को प्रेशर कुकर न बनाएं, उन पर अपनी कुंठा न थोपें

Share Button

“घर में कोई मैट्रिक से ज्यादा पढ़े नहीं थे। इसलिए जुनून था कि उच्च शिक्षा हासिल करके परिवार का मान-सम्मान बढ़ाना है। मुङो अंक तो उस चीज के मिले, जिसकी मैंने पढ़ाई की।”

नालंदा दर्पण। खुद की सफलता के बारे में यूपीएससी की परीक्षा पास कर सीधे आईएएस के लिए चुने गए नालंदा के युवा डीएम योगेन्द्र सिंह ने उक्त बातें स्थानीय हिन्दी दैनिक जागरण से कही और बताया, “मैं सरकारी स्कूल में पढ़ा, कभी भी 70 फीसद से अधिक अंक नहीं आए, न मैं किसी कोचिंग में गया और न ही यूपीएससी की कोचिंग की, फिर भी आइएएस बना। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि मेरा लक्ष्य कभी अंक रहा ही नहीं। मैंने पढ़ाई ज्ञान (नॉलेज) के लिए की। खोने के लिए कुछ था नहीं और जो पाया उसे ही सफलता समझा।”

उन्होंने कहा कि  ध्यान यह देना है कि पढ़ाई से मुझमें ओवर ऑल डेवलपमेंट क्या हुआ। आज अंक, परसेंट और परसेंटाइल की अंधी दौड़ लाखों मेधावियों के मन में निराशा का भाव पैदा कर रहा है। यह कहीं से ठीक नहीं है।

डीएम ने कहा कि आज जिसे देखो वह अंक के पीछे दौड़ रहे हैं, जबकि जिंदगी की दौड़ में यह ज्यादा मायने नहीं रखता। पढ़ाई के बाद आपका ओवरऑल डेवलपमेंट काउंट करता है। प्रारंभिक शिक्षा अपने गांव यूपी के उन्नाव जिले के हरयपुर से पूरी की। संसाधन बेहतर नहीं थे, फिर भी उसका मलाल नहीं रहा।

” मैंने अपने जीवन में कभी अपनी तुलना किसी से नहीं की। हमेशा अपनी सकरात्मक व रचनात्मक सोच से आगे बढ़ता गया। अंक हमेशा 65 व 70 के बीच में ही रहा। घर में लोग ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं थे। इसलिए जो मिला उसे ही सफलता की सीढ़ी मानकर चढ़ता गया”।

आइएएस योगेन्द्र सिंह ने कहा कि आज के बच्चे अपने अरमान पूरा करने में नहीं, बल्कि अभिभावकों की उम्मीदों पर खरा उतरने में जुटे हैं। इसलिए अधिक से अधिक अंक हासिल करने की होड़ में लगे रहते है। उनका मानना है कि बच्चों को स्वतंत्र छोड़ दें। उन्हें वह करने दें, जो वह चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि अक्सर देखने को मिलता है कि अभिभावक जो खुद नहीं कर पाए, उसे अपने बच्चों पर थोप देते है। इससे न केवल उनका करियर प्रभावित होता है, बल्कि व्यक्तिगत जीवन पर भी असर पड़ता है।

उन्होंने अधिकाधिक ज्ञान अर्जित करने पर बल देते हुए कहा कि बेहतर करियर के लिए भाग-दौड़ भले ही स्कूल के बाद शुरू होती हो, लेकिन नींव यहीं से मजबूत होती है। इस दौरान सबसे अधिक महत्वपूर्ण ज्ञान को आत्मसात करना होता है, जबकि वर्तमान शिक्षा पद्धति में न चाहते हुए भी बच्चे अंकों की दौड़ में शामिल हो जाते हैं।

इस क्रम में वे किताबी जानकार तो बन जाते हैं, लेकिन विषय की व्यापक जानकारी में कमी रह जाती है।

उन्होंने कहा कि अच्छे अंक जरूरी हैं, लेकिन यही सफलता की गारंटी नहीं होती। छात्र की योग्यता, बुद्धिमत्ता एवं ज्ञान का आकलन 10वीं एवं 12वीं के प्राप्तांक से किया जा रहा है, जिनके अंक अधिक वही टॉपर। शिक्षण संस्थानों व मां-पिता को अब सोच बदलनी होगी। 99 फीसद लाने वाले बच्चे से ज्यादा बुद्धिमान 70-80 फीसद अंक लाने वाला बच्चा हो सकता है।

डीएम ने कहा कि आज हर हाथ में स्मार्ट फोन है। अभिभावक गूगल सर्च करें और विदेशों की शिक्षण प्रणाली देखें। वहां छात्रों की रूचि के हिसाब से पाठ्यक्रम निर्धारित किया जाता है। अगर वह संगीत में रूचि रखता है तो उसके लिए अलग अकादमी है। वहां पर बच्चों को स्पेस मिलता है।

आप अपने ही जिला में देख लें कि इतने सारे निजी स्कूल है लेकिन सभी ने मिलकर शहर को क्या दिया। न स्टेडियम है, न ही ढंग की लाइब्रेरी, न कोई संगीत विद्यालय। स्कूल सिलेबस के हिसाब से पढ़ाई पूरी करवाती है और काम खत्म।

उन्होंने कहा कि अंकों का भविष्य की सफलता से कोई सीधा नाता नहीं होता है। अच्छे अंक पाने वाले ही सफल हों, यह जरूरी नहीं। औसत या औसत से कम अंक पाने वाले भी जीवन में सफलता के नए आयाम लिखते हैं। हमारे आसपास ऐसे तमाम उदाहरण मौजूद हैं।

डीएम ने अभिभावकों से अपील की कि बच्चों को प्रेशर कुकर न बनाएं। अपनी अधूरी इच्छाओं को बच्चों के जरिए पूरी करने की कोशिश न करें। यहीं पर दो पीढ़ियों का टकराव भी उत्पन्न होता है।

उन्हें लगता है कि बच्चे ने यदि आइआइटी से नहीं पढ़ा तो कुछ नहीं कर सकेगा। डाक्टर या इंजीनियर नहीं बना तो जीवन में सफल नहीं होगा, इससे बचना चाहिए। माता-पिता बच्चों की योग्यता को देखते हुए उन्हें उनकी पसंद के करियर चुनाव में मदद करें।

उन्हें बताएं कि जो करियर वे चुन रहें हैं, उसमें उनके सामने किस प्रकार की चुनौतियां आएंगी। इससे बच्चे का आत्मविश्वास बढ़ता है और वे बेहतर तैयारी के साथ आगे बढ़ सकते हैं।

श्री योगेन्द्र सिंह ने कहा कि किसी भी छात्र को अपनी विशेष रुचि व अभिरुचि के बारे में बेहतर पता होता है। ऐसे में माता-पिता व शिक्षकों को सहयोग करना चाहिए। ताकि वे उसी अनुरूप अपने अध्ययन व करियर की दिशा चुन सकें। कार्य क्षेत्र में परिणाम, गुणवत्ता एवं नवीनीकरण ही व्यक्ति को सफल या असफल बनाता है।

उन्होंने कहा कि बदलते समय में बहुमुखी प्रतिभाएं विकसित हुई हैं। यदि बच्चा अपनी विशेष क्षमताओं के अनुरूप अध्ययन की दिशा का चुनाव करेगा तो न उसे नंबर का भय होगा और न ही साथियों से पिछड़ने की ग्लानि। बच्चे परिजनों का सपना टूटने के डर से गणित व विज्ञान जैसे विषयों के प्रति अपने डर को बयां नहीं कर पाते हैं।

परिजन बच्चों को अपना लक्ष्य स्वयं निर्धारित करने के लिए प्रेरित करें। तीन घंटे की परीक्षा उनकी प्रतिभा का पूरा मूल्यांकन नहीं बल्कि एक अंश मात्र है।

Share Button

Related News:

परियौना खंधा में अज्ञात युवक का शव मिला, हत्या की आशंका
प्रेमी की चाह में सल्फास की गोली ले यूं भटकती पहुंची नाबालिग युवती, बेन पुलिस ने किया मां के हवाले
जल शक्ति अभियान के क्रियान्वन को लेकर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन
जीविका दीदियों को यू कड़ी दोपहरी में दौड़ा रहे अफसर, कहां है डीएम का निषेधाज्ञा
नीतीश के घर में भीड़ नदारद, ममता ने बचाई लाज
हिलसा थानाध्यक्ष को लगी कोर्ट की फटकार, इस दुष्कर्म मामले में तुरंत करें एफआईआर⚖
इस्लामपुर उप डाकघर में हालात बेकाबू, दशहत में कर्मी, पुलिस वेवश, प्रशासन बेफिक्र
कंटेनर के बाद कार में पकड़ी गई अंग्रेजी शराब की खेप
बेवफा हुई नीतीश जी की नीरा, आसमान छू रहा ताड़ी का कारोबार
बैठक कर यूं बिफरे फुटपाथ दुकानदार अधिकार मंच के लोग
ई कौन है जो राजगीर थाना में यूं बौराता है और कोई कुछ नहीं बोलता, देखिए वीडियो
भूई के इस नृशंस हत्याकांड के 7 आरोपित धराए
हरनौत से बिहारशरीफ जा रहे शिक्षक को बेना थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े गोली मारी, हालत गंभीर
धमकी के अनुसार जेल से छूटने की अगली सुबह जमीन कारोबारी को गोली मारी, मौत
बिहार शरीफ में एक अप्रवासी भारतीय की गोली मारकर यूं हत्या
नालंदा जिला लोक शिकायत पदाधिकारी और सहायक खनन निदेशक को 1-1 हजार का अर्थदंड, वेतन से होगी राशि वसूली
आज नगरनौसा में पेयजल को लेकर महिलाओं ने की सड़क जाम, खाली बर्तन रख जताया आक्रोश
ऐसे में आदर्श आचार संहिता या निष्पक्ष चुनाव के ढिंढोरे का क्या है मायने
महिला ने की जहर खाकर आत्महत्या, परिजन ने लगाया हत्या का आरोप
बुजुर्ग को गोली मारी, अस्पताल में भर्ती, रहुई थानेदार ने नहीं ली थी विवाद का संज्ञान
जागरूकता कार्यक्रमः हम है मतदाता राष्ट्र का निर्माता
नालंदा जिला भाजपाः कमाए लंगोटी, खाए धोती!
बेन हलके में जदयू-हम के बीच कांटे की टक्कर के आसार !         
मनरेगा में लाखों का फर्जीवाड़ा, विरोध में नगरनौसा थाना का घेराव!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
loading...

You may have missed

Don`t copy text!
» राजगीर में पुलिस-ग्रामीणों के बीच गोलीबारी, 3 पुलिसकर्मी जख्मी, एक रेफर    » दहेज की रकम वापस मांगी तो दामाद ने ससुर की गोली मार कर दी हत्या   » मंत्री,पूर्व विधायक-पार्षद की तिकड़म से बिहार शरीफ महापौर की कुर्सी बरकरार   » जेल में घंटो खाक छाने अफसर,लेकिन नहीं मिला कोई आपत्तिजनक चीजें   » अखिल भारतीय जरासंध अखाड़ा परिषद की महत्वपूर्ण बैठक में उभरी यूं चिंताएं   » हिलसा कोर्ट में पुलिस अभिरक्षा से फरार कैदी पेड़ के नीचे बैठे धराया   » हिलसा कोर्ट में पुलिस अभिरक्षा से एक कैदी हथकड़ी सरका कर फरार   » पुलिस हाजत में जदयू नेता की हत्या को लेकर बिहार रविदास विकास संघ तेवर तल्ख, किया DM का घेराव, कहा-SP-DSP पर हो केस   » मोबाइल छीन भाग रहे झपट्टामार गिरोह के 4 बदमाश मॉबलीचिंग से यूं बचे   » उप मेयर का चयन अब त्रिकोणीय होने के आसार