डीएम साहब, भीषण पेयजल संकट में देखिए चापा-नल का हाल !

“सरकारी महकमें में नीचे के लोग बिल्कुल थेथर हो गए हैं। आम जनों की लाख शिकायत के बाबजूद उनकी कान में जूं तक नहीं रेंगता। कितनी शर्मनाक स्थिति है कि एक अदद चापानल की मरम्मति की शिकायत भी लोगों को डीएम तक करनी पड़ती है……”

नालंदा दर्पण।  इस्लामपुर नगर पंचायत के वार्ड संख्या 7  में लोगों के पेयजल का एकमात्र सहारा चापाकल की दुर्दशा देखिए। स्थानीय स्तर पर लाख शिकायत के बाबजूद इसे ठीक नहीं किया गया।

मजबूरन लोगों ने नालंदा डीएम योगेन्द्र सिंह से चापाकल बनवाने के साथ नल से मिलने मिली जल की सुविधा उपलब्ध करवाने की मांग की है।

लोगों का कहना है कि बड़ी दुर्गा स्थान के पास सरकारी स्तर से एक चापाकल लगा है। उस चापाकल की पानी से आस पास के लोगों के साथ दुर दराज से आये राहगीर लोग प्यास वुझातें है और इस धर्मस्थल में भी इस चापाकल का पानी उपयोग किया जाता है।

लेकिन हालत यह है कि यह चापाकल खराब होकर पानी उगलना बंद कर दिया है। जिसके कारण आस पास के अलावे राहगीरों को प्यास बुझाने के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। हालांकि पानी के लिए नल भी लगा है। लेकिन पाइप लीकेज कारण नल से पानी नहीं गिरता है।

पानी के लिए परेशान आस पास के विनय कुमार गोस्वामी, मोजफर आलम, मो.गुलाम सरवर, मनोज कुमार, रामजी प्रसाद आदि ने नालंदा जिलाधिकारी से इस चापाकल को बनवाने के साथ नल से मिलने वाली जल की सुविधा उपलब्ध करवाने की मांग की है। ताकि लोगों को पेयजल की समस्या से राहत मिल सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here