डीजीपी के आश्वासन के बाद पत्रकार मुकेश का आमरण अनशन खत्म, एसपी ने पिलाया जूस

Share Button

“पत्रकार मुकेश ने काफी मर्माहत लहजे में कहा कि शर्म आता है, जब पत्रकार को चौथा स्तंभ कहा जाता है। दूसरे को क्या न्याय दिला सकता है, जो खुद पुलिस-प्रशासन के आगे चापलूसी करते हैं। पहले यह बात जनता कहती थी, लेकिन आज हमें भी पूर्ण रूप से एहसास हो गया…”

नालंदा दर्पण। बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने सीएम नीतीश कुमार के गृह जिला नालंदा के निवास प्रखंड हरनौत में पिछले तीन दिनों से आमरण अनशन पर बैठे पत्रकार मुकेश कुमार की बिगड़ती हालत पर सीधे संज्ञान लिया और थानेदार पर कड़ी-जांच कार्रवाई का अश्वासन दिया। इसके बाद पत्रकार मुकेश ने अपना अनशन समाप्त कर दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछलें 3 दिनों से जांच-कार्रवाई की बाबत मामले को नजरअंदाज कर रहे नालंदा एसपी को भी डीजीपी ने सीधे निर्देश दिए। इसके बाद वे दौड़े-दौड़े आमरण स्थल पहुंचे और पीड़ित पत्रकार को जूस पिलाकर अनशन तोड़वाया।

अनशन तोड़ने के बाद पत्रकार मुकेश ने बताया कि बिहार के डीजीपी ने उन्हें फोन कर साफ तौर पर कहा कि हरनौत थानेदार के खिलाफ वे अपने स्तर से जांच कार्रवाई करवाएंगें और दोषी पाए जाने पर निलंबन क्या, वर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी।

इसके तुरंत बाद अचानक नालंदा एसपी नीलेश कुमार पहुंचे और पत्रकार मुकेश को जूस पिलाकर आमरण अनशन खत्म करवाया।

पत्रकार मुकेश ने दो टूक कहा कि उनकी सहयोगियों के साथ समीक्षा बैठक हुई। सबने स्पष्ट रूप से कहा कि यहां के प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लोग पीड़ित पत्रकार की जगह थानेदार के पक्ष में खुलकर कर सामने आये। जब पत्रकार के साथ ऐसा हो सकता है तो हम लोग क्या उम्मीद कर सकते हैं।  

उन्होंने कहा कि दूसरे मीडिया संस्थान की बात क्या करें। वे जिस अखबार के लिए खून-पसीना एक कर समाचार संकलन, लेखन व संप्रषण का काम करते हैं, वे भी साथ देते नजर नहीं आए। सोशल मीडिया ग्रुपों में प्रतिकूल टिप्पणी कर उल्टे उनकी सम्मान की लड़ाई को कमजोर करते दिखे।

बता दें कि पिछले दिनों हरनौत में आयोजित एक कार्यक्रम में बैठे पत्रकार मुकेश कुमार के साथ हरनौत थाने की पुलिस ने काफी अभद्र व्यवहार किया था। जिसकी शिकायत उन्होंने हरनौत थानाध्यक्ष से भी की।

लेकिन थानाध्यक्ष अपने मातहत पुलिस को डांटने के बजाय इस घटना पर चुटकी लेकर चलते बने। इससे आहत पत्रकार मुकेश कुमार ने वहीं धरने पर बैठ गए। उन्हें कई स्थानीय पत्रकारों-वुद्धिजीवियों का साथ मिला।

लेकिन दुखद बात यह रही कि मुकेश कुमार, जिस प्रतिष्ठित अखबार के लिए काम करते हैं, वो भी नजरें फेर लिया। दूसरे अखबारों के लिए इस तरह की घटना मजे और चटकारे लेने के लिए होता है। कभी कभार ऐसी खबरों पर एक दो लाइन चलाकर अपना फर्ज निभाते नजर आए।

वेशक यहां कहने को तो कई पत्रकार संगठन खड़े है, जो पत्रकारों के हक हकूक की दावे करती है। लेकिन जब इस पत्रकार की पीड़ा और सम्मान की बात सामने आई तो सब न्याय दिलाने में मुंह मोड़ लिया।

जबकि यहां किसी अखबार के ब्यूरो या कार्यालय प्रभारी के साथ कुछ होता है तो यही प्रखंडों के पत्रकार उनके साथ खड़े हो जाते हैं। पुलिस की लाठियां तक खाते हैं। लेकिन जब प्रखंड के पत्रकारों पर कोई जुल्म होता है तो उनके साथ खड़ा होना तो दूर उनके ही अखबार में एक लाइन की खबर तक नहीं होती है।

पत्रकार मुकेश कुमार के इस कथन से भी एक बड़ी पीड़ा उभरती है कि उनका मीडिया और पत्रकार संगठनों पर से विश्वास खत्म हो गया है। उनकी लड़ाई अकेले ही जारी रहेगी। क्योंकि पुलिस-पत्रकार गठजोड़ की वजह से मुफ्सिल पत्रकारों के नाम पर सिर्फ राजनीति करने का प्रयास किया गया।

Share Button

Related News:

ट्रक की टक्कर से ट्रैक्टर चालक की मौत के बाद हंगामा, सड़क जाम
ट्रक की टक्कर से बाइक सवार 2 युवक की मौत, मातम में बदली शादी
सगी भतीजी संग शादीशुदा चाचा फरार, ऑनर किलिंग की फिराक में परिजन
मत प्रतिशत में 2014 के मुकाबले पिछड़ा एनडीए, महागठबंधन को 14 फीसदी की बढ़त
इधर अंचल में व्याप्त भ्रष्टाचार को लेकर किसानों का धरना, उधर कर्मी ले रहा था सरेआम घूस, वीडियो वायरल
दो बड़े सरकारी आयोजन, लेकिन देखिए सड़क निर्माण का हाल
सरकार की अनदेखी से हुई काजल की मौत, आक्रोशित करेगे आंदोलन
तेल्हाड़ा में शरद-मांझी-सहनी का मोदी-नीतीश पर कड़ा हमला
जीविका दीदियों को यू कड़ी दोपहरी में दौड़ा रहे अफसर, कहां है डीएम का निषेधाज्ञा
कल सिनेमा घरों में रिलीज होगी शिक्षा माफिया पर आधारित फिल्म सेटर
मंत्री,पूर्व विधायक-पार्षद की तिकड़म से बिहार शरीफ महापौर की कुर्सी बरकरार
महागठबंधन प्रत्याशी को मिला जीविका दीदियों का समर्थन
छेड़खानी को लेकर दो गांव में संग्राम, पथराव, फायरिंग, लाठी चार्ज, एक जवान समेत कई घायल
बिहार:गरीबों को टरकाते हैं हिलसा अनुमंडल के पदाधिकारी
हम प्रत्याशी समर्थकों ने छोटे-छोटे बच्चों को चुनाव प्रचार में यूं लगाया
यूं थोथी दलील पर उतरे नालंदा डीएम, चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था को झुठलाने का प्रयास
भूई के इस नृशंस हत्याकांड के 7 आरोपित धराए
वेतन न मिलने से खफा नियोजित शिक्षकों ने यूं जूता पॉलिश कर जताया विरोध
अस्पतालकर्मियों ने नहीं दी एम्बुलेंस, बाइक पर शव ले जाने को विवश हुए परिजन
यूं नहर में गिरी नई स्कार्पियो, सारे सवार शीशा तोड़ फरार
यूं चिढ़ियाए जदयू सांसद आरसीपी सिंह- 'वोट मांगने नहीं आए, मांगते भी नहीं, दें या न दें' !
बड़ी दरगाह-खानकाह मुअज्जम में करीब 4.85 करोड़ खर्च से बनेगा मुसाफिर खाना
ऑटो-बाइक की टक्कर में 2 अधिवक्ता समेत 6 घायल, 4 की हालत गंभीर 
चिराग तले अंधेरा वाली कहावत चरितार्थ है नालंदा जिला में.
Don`t copy text!
» बिहार शरीफ नगर निगम की खुली पोल, घरों में घुसे गंदे पानी, तालाब बने कई मोहल्ले   » नालंदा सांसद के रोपे पेड़ यूं चर गयी बकरी😳   » पुलिस को शराब की सूचना देने की शक में सुबेलाल की पीट-पीट कर हत्या   » प्रतिभा सम्मान समारोह में सम्मानित किए गए छात्र   » नालंदा में 2 लाख सक्रीय सदस्य बनाएगी तैलिक साहू समाज :रणविजय   » बोले नालंदा एसपी- ‘पैथोलॉजी के क्षेत्र में भी बड़े बदलाव की जरूरत’   » दहेज लोभी ससुराल वालों ने बेन की जूली को फांसी लगा मार डाला   » बिहार शरीफ जेल के सुरक्षाकर्मी पर बदमाशों का कातिलाना हमला, हवलदार को गोली मारने की धमकी   » एसयू कॉलेज में व्याप्त अनियमितता से नाराज छात्र संगठन का भड़का गुस्सा   » चचेरे भाई ने गोली मारी, हालत गंभीर, गांव वाले आपसी चंदा से करा रहे ईलाज