नालंदा दर्पण (रंजीत)। मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के तहत हर घर जल और नल का व्यवस्था सरकार द्वारा किया जा रहा है, लेकिन बेन प्रखंड के आट पंचायत के माड़ी गांव के वार्ड नंबर 14 के अंतर्गत वार्ड सदस्य रीतू देवी एवं सचिव द्वारा बोरिंग का कार्य कराया गया था, लेकिन एक वर्ष बीत जाने के बाद भी उक्त वार्ड में नल का टोटी घर तक नही पहुंच सका है।

ग्रामीणों ने वार्ड सदस्य के विरोध में मुंह खोलना मुनासिब नहीं समझते, लेकिन दबी जुबान से बताते है कि उस बोरिंग से खेत पटाने के कार्य किया जाता है, जिसमे गांव के एक दबंग व्यक्ति द्वारा समरसेबुल डाल कर उक्त बोरे से ढका हुआ बोरिंग का इस्तेमाल कर फिर बोरिंग को बोरे से ढक दिया जाता है।

इस तरह मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना का माड़ी गांव के 14 नंबर वार्ड में धज्जियां उड़ाया जा रहा है। इससे उक्त गांव में पानी पीने की समस्या ग्रामीणों के बीच उत्पन्न हो गयी है।

इस प्रचंड गर्मी में भी सात निश्चय राशि का दुरुपयोग किया जा रहा है और कोई पदाधिकारी का ध्यान पानी की समस्या की ओर नहीं रहा है।

इस बाबत पंचायत के मुखिया कारू ताती से संपर्क किया गया तो इस मामले पर चुप्पी साधते हुए बाद में बात करने की बात कही। पंचायत कर्मी भी अपने ऊपर से इस मामले को लेकर पल्ला झाड़ रहे हैं।

इधर दो दिनों से 13 नंबर वार्ड माड़ी में ट्रांसफार्मर खराब पड़ा है। जिससे इस वार्ड में पानी के लिए हाहाकार मचा हुआ है। बिजली विभाग के कर्मचारी की उदासीनता से ग्रामीणों में भारी गुस्सा व्याप्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here