परिसीमन आयोग की भेंट चढ़े चंडी विधानसभा के स्वर्णिम अतीत का दुर्भाग्य

Share Button

“देश की प्रथम महिला केंद्रीय वित राज्य मंत्री तारकेश्वरी सिन्हा और सिने स्टार ‘बिहारी बाबू’ शत्रुहन सिन्हा के पूर्वजों की धरती चंडी विधानसभा का अपना एक गौरवशाली ऐतिहासिक और राजनीतिक इतिहास रहा है। यहाँ कभी चीनी यात्री फाहियान नालंदा जाने के दौरान ढिबरा पर रूके थे। यहां गुप्त काल के कई प्राचीन अवशेष बिखरे पड़े हैं….”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क डेस्क। देश का प्रथम आम चुनाव 1952 में हुआ था, तब से मतदाता नेताओं के भाग्य विधाता बनते रहे हैं। मतदाताओं ने जहाँ इतिहास रचा, वहीं नेताओं ने अपने निर्वाचन क्षेत्र को एक पहचान दी।

यूँ तो देश में जब तक लोकतंत्र रहेगा, तब तक मतदाता ही नेताओं के भाग्य का फैसला करेंगे। अलबत्ता चुनाव के साथ एक दिलचस्प पहलू जुड़ा हुआ है परिसीमन आयोग, जिसके कलम की नोक से नेताओं और उनके निर्वाचन क्षेत्र के हाथों की लकीर बदलती रही है।

नतीजतन कई नेता अपने परंपरागत और प्रिय निर्वाचन क्षेत्र से हाथ धो बैठते हैं और उन्हें मजबूरन नये ठिकाने तलाश करने पड़ते हैं। जाहिर है ऐसे में विछोह का दर्द बरसों -बरस उन लाखों मतदाताओं और नेताओं को खलता रहता होगा। कुछ यहीं दर्द 10 साल बाद भी नालंदा के विलोपित चंडी विधानसभा क्षेत्र की जनता को सालता रहा है।

चंडी विधानसभा क्षेत्र के 58 वर्ष का राजनीतिक इतिहास 10 साल पहले मिट गया। वर्ष 2010 का विधानसभा चुनाव में चंडी का अस्तित्व खत्म हो चुका था। अपने से कई साल छोटे हरनौत विधानसभा का अंग बन कर रह रहा है।

कभी विधानसभा के साथ अनुमंडल का सपना देखने वाला चंडी अब सिर्फ़ प्रखंड तक में सिमटा हुआ है। 2009 का लोकसभा चुनाव में पूरी तरह विलोपित चंडी की सिर्फ यादें ही रह गई ।

चंडी विधानसभा के 58 साल के इतिहास में यहां से सिर्फ़ अब तक पांच विधायक ही निर्वाचित हुए। जिनमें दो एक ही परिवार से पिता-पुत्र शामिल है। जबकि तीसरे हरिनारायण सिंह एकमात्र ऐसे विधायक हैं, जिन्होंने चंडी और हरनौत दोनों में 1977 से अपनी बादशाहत बरकरार रखे हुए हैं।

1952 में अस्तित्व में आएं चंडी विधानसभा के पहले विधायक धनराज शर्मा थे, जो चंडी के बेलछी के थे। जिन्होंने सोशलिस्ट पार्टी के मेजर देवलाल महतो को हराया था। 1957 में कांग्रेस के ही देवगण प्रसाद ने विजय पताका फहराया था।

1962 से लेकर चंडी विधानसभा की राजनीतिक एक ही जगह जाकर टिक गई। 1962से 1972 तक  बोधीबिगहा के डॉ रामराज सिंह का चार बार लगातार वर्चस्व बना रहा। श्री सिंह नालंदा के पहले ऐसे शख्स थे, जिन्होंने अमेरिका जाकर अपनी पढ़ाई पूरी की थी।

1977 में हरिनारायण सिंह ने जनता पार्टी की टिकट पर चुनाव लड़ा और उन्होंने केश्वर यादव को 16 हजार मतों से हराकर चुनाव जीतकर कांग्रेस का किला ध्वस्त कर दिया। लेकिन 1980 के चुनाव में डॉ रामराज सिंह ने पुनः वापसी की और हरिनारायण सिंह अपनी सीट बचा नहीं पाएं।

1982 में डॉ रामराज सिंह के निधन के बाद 1983 में हुए उपचुनाव में डॉ रामराज सिंह की विरासत को संभालने उनके पुत्र अनिल कुमार चुनाव मैदान में आए। इस बार उनका मुकाबला हरिनारायण सिंह से था। अनिल सिंह को अपने पिता की सहानुभूति लहर का फायदा नहीं मिला और हरिनारायण सिंह ने जीत हासिल कर ली।

1983 में केरल के बाद बिहार के चंडी विधानसभा क्षेत्र के कई मतदान केंद्रों पर पहली बार ईवीएम का इस्तेमाल किया गया था।

1985 के चुनाव में अनिल कुमार कांग्रेस से पहली बार विधायक बने। लेकिन 1990 में हरिनारायण सिंह ने एक बार फिर वापसी की। इस बार उन्हें लालू प्रसाद मंत्रिमंडल में कृषि राज्य मंत्री बनाया गया।

जब 1994 में जार्ज फर्नांडीस और नीतीश कुमार ने समता पार्टी का गठन किया तब अनिल कुमार समता पार्टी में शामिल हो गए। 1995 के विधानसभा चुनाव में कड़े मुकाबले में अनिल कुमार ने अपने प्रतिद्वंद्वी हरिनारायण सिंह को हराने में कामयाब रहे।

वर्ष2000 के विधानसभा चुनाव के ठीक पहले हरिनारायण सिंह राजद छोड़ कर जदयू में शामिल हो गए। हरिनारायण सिंह का जदयू में आना अनिल कुमार के लिए अभिशाप बन गया। जहाँ से 19 साल बाद भी उन्हें कामयाबी हासिल नहीं हुई।

2005 में जदयू के हरिनारायण सिंह ने आखिरी बार चंडी विधानसभा क्षेत्र से जीत कर अपराजेय बने रहने का रिकॉर्ड बना डाला। इससे पहले डॉ रामराज सिंह 5 बार चुनाव जीत चुके थे। जबकि चंडी विधानसभा क्षेत्र से सबसे ज्यादा छह बार हरिनारायण सिंह विधायक रहे।

जब 2009 में परिसीमन आयोग की भेंट चढ़े चंडी विधानसभा 2010 में हरनौत विधानसभा का अंग बना तो हरिनारायण सिंह को ही टिकट मिला, जहाँ उन्होंने सातवीं जीत हासिल की। जहाँ उन्हें नीतीश मंत्रिमंडल में शिक्षा मंत्री बनने का सौभाग्य मिला।  2015 का विधानसभा चुनाव उनके राजनीतिक जीवन की आठवीं जीत थी।

नालंदा के ऐतिहासिक और राजनीतिक जमीं चंडी का एक गौरवशाली राजनीतिक अतीत रहा है। लेकिन दस साल पहले परिसीमन आयोग ने चंडी विधानसभा क्षेत्र को राजनीतिक मानचित्र से अलग कर दिया।

सबसे दुखद पहलू यह है कि इस लोकसभा चुनाव के दौरान किसी भी राजनीतिक दल का एक भी नेता वोट मांगने के लिए नहीं पहुँचा। कभी चुनाव के दौरान गुलजार रहने वाला चंडी अब राजनीतिक दलों के लिए ‘अछूत’ बन गया।

Share Button

Related News:

विधवा मां को 8 माह से नहीं मिला मुआवजा, सरकारी वेशर्मी की हद
चंडी थाना की गुंडा पंजी में दर्ज 36 लोगों ने दर्ज कराई अपनी उपस्थिति
हिरण्य पर्वत से संदिग्ध हालत में गिरी युवती,एक छात्र का यूं प्रयास भी बचा न सका, मौत
उपरौरा गांव के पास बिहार का पहला हॉट एंड कोल्ड स्मार्ट वाटर पार्क का निर्माण शुरु
गोलियां की तड़तड़ाहट से फिर दहला कबीरपुर, किशोर को लगी गोली, आपसी वर्चस्व में हो चुकी है कई हत्याएं
बिफरे मांझी- यहां लॉ एंड ऑर्डर फेल, पुलिस हाजत में महादलित नेता की हत्या की उठाएंगे आवाज
बेवफा हुई नीतीश जी की नीरा, आसमान छू रहा ताड़ी का कारोबार
जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने ईवीएम कोषांग का किया निरीक्षण
गली में यूं बह रहा नाली का गंदा पानी, देखने वाला कोई नहीं
सड़क लुटेरों ने राहगीर की पिटाई कर मोबाईल छीना
पेयजल की समस्या पर राजगीर एसडीओ तक नकारा
वेना थाना क्षेत्र में मिली लाश पटना से किडनैप प्रॉपर्टी डीलर की निकली
धमकी के अनुसार जेल से छूटने की अगली सुबह जमीन कारोबारी को गोली मारी, मौत
जदयू नेता का हत्यारोपी थानेदार समेत अन्य 3 भेजे गए जेल, 9 लोगों पर दर्ज हुई प्राथमिकी
शासन की हस्तक्षेप से उपद्रवियों की मंशा पर फिरा पानी
माधोपुर तीमुहानी डिवाइडर से टकराई पिकअप,3 की मौके पर मौत, 7 जख्मी, गंभीर हालत में 3 पटना रेफर
नालंदा जिला लोक शिकायत पदाधिकारी और सहायक खनन निदेशक को 1-1 हजार का अर्थदंड, वेतन से होगी राशि वसूली
चुनावी रंजिश में घर पर की रोड़ेबाजी, गोलीबारी और मारपीट, आधा दर्जन घायल, तनाव
30 साल पहले स्कूल भवन बना, लेकिन न शिक्षक न पढ़ाई, करेंगे वोट बहिष्कार
बेन हलके में जदयू-हम के बीच कांटे की टक्कर के आसार !         
किराना स्टोर में बिक रही थी शराब, कारोबारी पिता-पुत्र समेत 3 धराए
बैठक कर यूं बिफरे फुटपाथ दुकानदार अधिकार मंच के लोग
परबलपुर वासियों को झकझोर डाला ऐसे दो सगे भाई की मौत
बंधन बैंक के कलेक्शन एजेंट से हथियार के बल एक लाख की लूट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
loading...
Don`t copy text!
» डीएम ने ई-गवर्नेंस की बैठक दिए ये अहम निर्देश, आप भी जानिए   » राजगीर बीच बाजार युवक को गोली मारी, पटना रेफर   » शासन की हस्तक्षेप से उपद्रवियों की मंशा पर फिरा पानी   » समस्याग्रस्त नगर में चल रहा मेयर-उप मेयर की घिनौनी राजनीति   » बाप को गोली मारने जा रहा बेटा हथियार समेत धराया   » पेयजल समस्या को लेकर ग्रामीणों ने 3 घंटा रखा इस्लामपुर-पटना मुख्य सड़क जाम   » फिर बौराई पुलिस, सेवानिवृत शिक्षक को शराब कारोबारी बना हाजत में किया बंद   » प्रेमिका के चक्कर में पत्नी को जिंदा जला कर मार डाला!   » मनरेगा में लाखों का फर्जीवाड़ा, विरोध में नगरनौसा थाना का घेराव!   » अब कानून की धज्जियां उड़ाने वाले बिहार थाना इंस्पेक्टर दीपक कुमार का नपना तय