सीएम के हाथों उदघाटित शौचालय में एक साल से लटके हैं ताले और उधर खुले में शौच जाने को विवश हैं सैकड़ों तीर्थयात्री

राजगीर महोत्सव-2018 का सुंदर आकर्षक सुसज्जित मंच और उसी मंच से बिहार के सीएम नीतीश कुमार रिमोट दबाकर इस शौचालय का उदघाटन करते हैं। हज़ारो तालियां बजती है और कहा जाता है कि पर्यटकों के लिए एक बड़ा सौगात हैं ये शौचालय……”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। अंतर्राष्ट्रीय पर्यटक स्थल राजगीर के विरायतन मोड़ नगर पंचायत कार्यालय की ओर जाने वाली मुख्य सड़क पर बना यह शौचालय राजगीर महोत्सव के मंच से उदघाटन के बाद आज तक ताला नही खुल सका।

सार्वजनिक उपक्रम की कम्पनी पावर ग्रिड द्वारा अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन के लिए 4लाख 26 हज़ार रुपये से यह शौचालय बनाया गया। जिसका निर्माण डूडा नालन्दा ने किया। लेकिन आज भी इसमें लटक रहे ताले जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों की संवेदनहीनता को दर्शाता है।

नगर पंचायत कार्यालय और अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर की ओर जाने वाली सड़क पर का यह शौचालय प्रतिदिन अधिकारियों को दिखता होगा। लेकिन उन्हें फुरसत कहाँ है कि मामूली लाख से बने शौचालय का ताला खुलवाते फिरें।

यह हालत तो तब है, जब इसका उद्घाटन बिहार के मुखिया खुद अपने कर कमलों से किये हैं। महोत्सव के उदघाटन के दिन इस शौचालय पर फूल माले लटकाए गए थे और उस दिन के बाद सिर्फ इस पर ताले लटके नज़र आए।

वार्ड क्षेत्र की पार्षद मीरा कुमारी, जो सत्ताधारी दल की जदयू प्रखण्ड अध्यक्ष भी है, उनसे कहकर स्थानीय लोगों ने कई बार इसको खुलवाना चाहा, लेकिन सत्ताधारी नेताओं को भी इतनी फुरसत कहाँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here