‘शेरे नालंदा’ नाम से शुमार रहे रामनरेश सिंह ने काटा यूं 72वां केक

Share Button

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क (दीपक विश्वकर्मा)। वैसे तो आपने जन्मदिन की पार्टी में 5 या 6 इंच के चाकू से केक काटते हुए देखा होगा, मगर बिहार शांति मिशन के अध्यक्ष व पूर्व विधायक रामनरेश सिंह ने अपने 72 वें जन्मदिवस पर ढाई फीट के कटार से केक काटा ।

इस बाबत उनसे पूछे जाने पर उन्होंने साफ तौर पर कहा की कटार और तलवार क्षत्रिय की शान होती है और उसी आन बान और शान से मैंने काटा है। चलिए यह अपना अपना अंदाज है हर कोई अपने अपने अंदाज में अपने जन्म दिन को सेलिब्रेट करते हैं। 

दरअसल 1978 में रामनरेश सिंह जेल में रहते हुए तुंगी पंचायत के मुखिया चुने गए थे । बाहुबली के नाम से माने जाने वाले रामनरेश सिंह का भाग्योदय और राजनीति में कदम मुखिया चुनाव के बाद हुआ।

पहली बार नालंदा विधानसभा से इन्होने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा और फतेह हासिल कर विधायक बन गए  80 से लेकर 85  तक फिर 1990 से 1995 तक दूसरी बार निर्दलीय विधायक बने ।

बाहुबली होने के कारण लालू सरकार हो या फिर नीतीश सरकार दोनों में इनका दबदबा कायम रहा और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कार्यकाल में इन्हें बिहार राज्य  नागरिक परिषद का अध्यक्ष बनाया गया ।

 बाद में इन्होंने लोजपा का दामन थामा और इन्हें लोजपा का उपाध्यक्ष मनोनीत किया गया । उसके बाद यह नेताजी सुभाष चंद्र बोस फाउंडेशन से जुड़े ये जिस भी संगठन से जुड़े  उनका रुतबा हर जगह कायम रहा।

इनके जीवन का सबसे बड़ा पहलू यह है की जेपी आंदोलन के समय 1975 में मीसा के तहत इन्हे गिरफ्तार कर बक्सर जेल भेज दिया गया था। उसी जेल में मुख्य मंत्री नीतीश कुमार ,उप मुख्य मंत्री शुशील मोदी और हुकुमदेव नारायण भी बंद थे।    

बिहार शरीफ के 1981 में हुए  सांप्रदायिक दंगे के समय इन्होने बिहार शांति मिशन का गठन किया और इस बैनर तले इनके सैकड़ों कार्यकर्ता जिस इलाके में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग घिरे थे।

उन्हें नालंदा कालेज के शिविर में पहुंचाया और उन्हें सभी सुविधाएँ प्रदान की उसी समय से बिहार शांति मिशन वजूद में आया। बिहार शांति मिशन के कार्यकलापों की सराहना करते हुए तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गाँधी ने इन्हे प्रशंसा पत्र दे कर सम्मानित किया था । 

रामनरेश सिंह जात पात की राजनीति से उठकर सभी जाति समुदाय के लोगों को एक साथ लेकर राजनीत करते रहे। उन्होंने सभी जाति और समुदाय के बीच अपना एक पहचान बनाया। 

हालांकि वर्तमान समय में ये  किसी भी पार्टी से जुड़े नहीं हैं। बावजूद इसके क्षत्रिय समाज में आज भी इनकी एक अलग पहचान है।  इनके दो पुत्र और दो पुत्रियां हैं। बड़ा  पुत्र प्रियतम राजा राजनीति में कदम रख चुका  है, जबकि छोटा पुत्र प्रियतम भारतीय देश का जाना माना क्रिकेटर है। 

ज्यादा समय इनका  बिहारशरीफ और पटना में गुजरता है जबकि समय-समय पर अपने गांव दरोगा विगहा  जाना नहीं भूलते हैं।  इतनी लंबी राजनीति जीवन गुजारने वाले रामनरेश सिंह आगे अब किस पार्टी का दामन थामेंगे  या तो नहीं कहा जा सकता, लेकिन उनके पुत्र राजनीति में कदम रख चुके हैं।

Share Button

Related News:

थरथरी थाना हाजत से 2 कैदी फरार, पुलिस की घोर लापरवाही फिर आई सामने
9 कार्टून अंग्रेजी शराब वरामद, धंधेबाज फरार
बिहार में क़ानून व्यवस्था की ताजा स्थति से संतुष्ट हैं नीतीश कुमार
संसाधन की है कमी, इसलिए पत्रकार उत्पीड़क थानेदार पर कार्रवाई करने में असक्षम हैं एसपी !
नालंदा में 2 लाख सक्रीय सदस्य बनाएगी तैलिक साहू समाज :रणविजय
B+किशोर को एक माह तक ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ मुहिम चलाने की सजा
जदयू प्रत्याशी की जीत में सबसे बड़ा रोड़ा बनी सहयोगी भाजपा
खतरे में जनसंघ का गढ़, सवर्णों ने डुबोई भाजपा की लुटिया !
यूं थोथी दलील पर उतरे नालंदा डीएम, चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था को झुठलाने का प्रयास
नाबालिग युवती के साथ पूर्व वार्ड पार्षद के शिक्षक भाई ने किया रेप, धराया
अस्पतालकर्मियों ने नहीं दी एम्बुलेंस, बाइक पर शव ले जाने को विवश हुए परिजन
कड़े बंदोवस्त के बीच आज से नामांकन शुरु, 11 से 3 बजे तक होगा नामांकन
डीएम ने बाल सुधार गृह में पकड़ी भारी गड़बड़ी, अधीक्षक तलब, सुरक्षा गार्ड व अन्य कर्मी को हटाने के नि...
शाम अंधेरे महिलाओं को घर में घुसकर पीटना राजगीर पुलिस को महंगा पड़ा
बोलेरो और ट्रैक्टर की टक्कर में एक की मौत
परिसीमन आयोग की भेंट चढ़े चंडी विधानसभा के स्वर्णिम अतीत का दुर्भाग्य
एडवांस डेरी प्रोजेक्ट के लिए नाबार्ड उपलब्ध कराएगी अनुदानित ऋण
एनडीए (जदयू) प्रत्याशी कौशलेंद्र को एक और बड़ा झटका, नीतीश की शिकन बढ़ी
अस्थावां में हुई भारी गोलीबारी में 2 जख्मी, गोखुलपुर में भाई को भाई ने मारी गोली
ई कौन है जो राजगीर थाना में यूं बौराता है और कोई कुछ नहीं बोलता, देखिए वीडियो
सड़क पर ऐसे बनेंगे तेज तो मरेंगे ही ये बिगड़ैल बच्चे !
आपस में भिड़े दो जातीय गुट, जमकर हुई पत्थरबाजी-गोलीबारी, कई घायल, एक गंभीर,FIR दर्ज
राजगीर के चंदौरा में बीडीओ और दारोगा को बंधक बना पीटा, स्कार्ट वाहन समेत भागी पुलिस
डीएम साहब, भीषण पेयजल संकट में देखिए चापा-नल का हाल !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Don`t copy text!
» बिहार शरीफ नगर निगम की खुली पोल, घरों में घुसे गंदे पानी, तालाब बने कई मोहल्ले   » नालंदा सांसद के रोपे पेड़ यूं चर गयी बकरी😳   » पुलिस को शराब की सूचना देने की शक में सुबेलाल की पीट-पीट कर हत्या   » प्रतिभा सम्मान समारोह में सम्मानित किए गए छात्र   » नालंदा में 2 लाख सक्रीय सदस्य बनाएगी तैलिक साहू समाज :रणविजय   » बोले नालंदा एसपी- ‘पैथोलॉजी के क्षेत्र में भी बड़े बदलाव की जरूरत’   » दहेज लोभी ससुराल वालों ने बेन की जूली को फांसी लगा मार डाला   » बिहार शरीफ जेल के सुरक्षाकर्मी पर बदमाशों का कातिलाना हमला, हवलदार को गोली मारने की धमकी   » एसयू कॉलेज में व्याप्त अनियमितता से नाराज छात्र संगठन का भड़का गुस्सा   » चचेरे भाई ने गोली मारी, हालत गंभीर, गांव वाले आपसी चंदा से करा रहे ईलाज