इस बहाली में पूर्व-वर्तमान की महिला पर्यवेक्षिका की भूमिका संदिग्ध है। ग्रामीणों ने सीडीपीओ को आवेदन देकर विज्ञापन को रद्द कर नए विज्ञापन से आंगनबाड़ी सेविका की बहाली करने का मांग किया……………”

नालंदा दर्पण। चंडी प्रखंड के हसनी पंचायत के पिनीपर वार्ड नम्बर 01 केंद्र संख्या 198 पर आंगनबाड़ी में बहाली में धांधली को लेकर पिनीपर गाँव के दर्जनों ग्रामीणो ने सीडीपीओ कार्यालय के सामने घेराव करते हुए जमकर प्रदर्शन किया।

प्रदर्शनकारी ने जैतीपुर मोड़ से नारा लगाते हुए पैदल चलकर लालगंज, पुलपर, बाज़ार होते हुए सीडीपीओ कार्यालय पहुँचा। सीडीपीओ कार्यालय पहुंचते ही प्रदर्शनकारी ने उग्र होकर सीडीपीओ व महिला पर्यवेक्षिका के विरुद्ध प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी किया।

ग्रामीण पूना कुमार, अर्जुन जमादार, केदार जमादार, रामबली जमादार, गौतम कुमार, रंजीत प्रसाद ने कहा कि पिनीपर गांव आंगनवाड़ी केंद्र संख्या 198 के लिए 2018 में अतिपिछड़ी वर्ग के लिए निकाली गयी विज्ञापन को 2019 में बहाली किया जा रहा है। सीडीपीओ कार्यालय के लापरवाही के कारण अभी तक बहाली नहीं हुआ है।

उन्होंने कहा कि इस बहाली में पूर्व व वर्तमान की महिला पर्यवेक्षिका की भूमिका संदिग्ध है। ग्रामीणों ने सीडीपीओ को आवेदन देकर विज्ञापन को रद्द कर नए विज्ञापन से आंगनबाड़ी सेविका की बहाली करने का मांग किया।

ज्ञात हो कि शनिवार को आंगनबाड़ी सेविका के बहाली को लेकर हंगामा बबाल व रोड़ेबाजी हुई थी। बहाली को लेकर वबाल होने की आंशका को लेकर भारी मात्रा में पुलिस की व्यवस्था भी की गयी थी। लेकिन ग्रामीणों के वबाल व रोड़ेबाजी के आगे पुलिस भी बौनी साबित हुआ।

इस बाबत सीडीपीओ अलका कुमारी ने कहा कि आंगनवाड़ी सेविका की बहाली के लिए आम सभा हुआ था, जिसमें ग्रमिणो ने जमकर हंगामा किया। जिसके चलते रजिस्टर पर एक भी हस्ताक्षर नहीं हो सका। प्रदर्शनकारी ने विज्ञापन रद्द करने का लिखित आवेदन दिया है, उसे उच्च्य पदाधिकारी को अग्रसारित कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here