डियावां हाल्ट को स्टेशन बनाने की मांग को लेकर होगी आमरण अनशन

नालंदा दर्पण (पवन)। फतुहा-इस्लामपुर रेलवे लाइन पर सभी एक्सप्रेस गाड़ियों के ठहराव हेतु डियावां हॉल्ट को स्टेशन बनाने की मांग को मुद्दा बना बना सारे युवा दल एक मंच पर आने की मन बनाते हुए आमरण अनशन करने की चेतावनी दी है।

ग्रामीण शिदेश्वर महतो के अनुसार वर्ष 1936 में जब उषा मार्टिन रेलवे के द्वारा छोटी लाईन फतुहा से इस्लामपुर के लिए चलती थी। उस समय डियावां रेलवे स्टेशन के रूप में काफी लोकप्रिय भी था।

इसी डियावां रेलवे स्टेशन पर सभी रेल गाड़ियों की मेल भी किया जाता था। माल गोदाम व स्टाफ क्वार्टर भी थी, लेकिन 1976 में भीषण बाढ़ ने पूरी तरह से रेल पटरी सहित स्टेशन तहस नहस हो गई थी।

75 वर्षीय रामस्वरूप प्रसाद बताते हैं कि उस समय डियावां से फतुहा की रेलवे की भाड़ा 30 पैसा थी। लेकिन आज डियावां से फतुहा की भड़ा 10 रुपया हो गई है। फिर भी डियावां हॉल्ट को स्टेशन का दर्जा नहीं मिला। वर्ष 1976 के बाढ़ के बाद रेलवे लाईन चालू हुई थी। लेकिन 1980 में से पुनः इस रेलवे लाइन बन्द कर दिया गया।

समाज सेवी सोनू यादव,पवन कुमार, अरुण कुमार, सोनू कुमार, जगदीश प्रसाद, मो. अबतफ अहमद, सुधीर कुमार आदि ने एक आवेदन भारत सरकार के रेल मंत्री पीयूष गोयल, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष, पूर्व मध्य रेलवे हाजीपुर जोन सहित जिला अधिकारी को भेजे आवेदन में लिखा है कि डियावां हॉल्ट को स्टेशन की दर्जा की मांग को लेकर 5 नवम्बर से आंदोलन किया जाएगा। यदि डियावा स्टेशन के रूप में अधिकृत करते हुए सभी एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव का आदेश निर्गत किया नहीं होती है तो अनिश्चितकालीन आमरण अनशन करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here