हरनौत के हथियार तस्कर वशिष्ठ राम को 3 साल कठोर कारावास की सज़ा, प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी मानवेन्द्र मिश्र की अदालत ने दी सजा

Share Button

नालंदा दर्पण।  बिहार शरीफ व्यवहार न्यायालय के प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी मानवेन्द्र मिश्र की अदालत ने आर्म्स एक्ट के मामले में एख व्यक्ति को दोषी करार देते हुए 3 वर्ष की कठोर कारावास एवं 10 हजार रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई है।

हरनौत थाना कांड- 283/17 के आरोपी गोखुलपुर निवासी 60 वर्षीय वशिष्ठ राम को आयुध अधिनियम की धारा-251 (1-बी) के अंतर्गत अपराध के लिए 3 वर्ष का कठोर कारावास एवं 10 हजार रुपये अर्थदंड तथा आयुद्ध अधिनियम की धारा-26 (I) के अपराध के लिए एक वर्ष कठोर कारावास एवं एक हजार रुपया अर्थदंड की सज़ा दी है।

आदेश के अनुसार सभी सजाएं साथ-साथ चलेगी। दोषसिद्ध अपराधी द्वारा कारा में बिताई गयी अवधि, दंडादेश की अवधि में मुजरा की जाएगी। दोष सिद्ध अपराधी द्वारा अर्थदंड की राशि का भुगतान नहीं किए जाने पर उसे दोनों अपराध के लिए अलग-अलग 6-6 माह की कठोर कारावास की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।

इस मामले की अंतिम सुनवाई के दौरान प्रतिरक्षा अधिवक्ता का कहना था कि दोषसिद्ध अपराधी वशिष्ठ राम की वर्तमान करीब उम्र 60 वर्ष है और यह उसका यह प्रथम अपराध है। वह पिछले 10 अक्टूबर यानि एक वर्ष एक माह से न्यायित अभिरक्षा में हैं। अतः उसे न्यूनतम सज़ा दी जाए।

लेकिन, अभियोजन अधिवक्ता द्वारा उक्त कथन का कड़ा विरोध करते हुए कहा कि वशिष्ठ राम के पास से 2 रायफल, 2 कट्टा, 16 गोली अथार्त हथियारों का जखीरा बरामद हुआ है। इससे प्रतीत होता है कि ये अवैध हथियारों के खरीद-बिक्री में संलिप्त है। अतः कठोर दंड दिया जाए।

आइए नीचे देखें इमेज में पढ़िएः क्या है माननीय न्यायालय की नजर में पूरा मामला………..  

Share Button

Related News:

नगरनौसा में विवाहिता ने यूं फांसी लगा की आत्महत्या
बेन में सर्प दंश से एक महिला की मौत
चेन्नई में कारखाना मालिक की हत्या कर भागे 2 किशोर नालंदा से धराए
गांवों में पानी के लिए हाहाकार, डीएम से लगाई त्राहिमाम गुहार
सरकार की अनदेखी से हुई काजल की मौत, आक्रोशित करेगे आंदोलन
ई कौन है जो राजगीर थाना में यूं बौराता है और कोई कुछ नहीं बोलता, देखिए वीडियो
नीतीश जी बने अंग्रेजी ब्लॉगर:फिलहाल मुख्यमंत्री साईकिल योजना पर एक पोस्ट लिखा,५४३ कमेन्ट मिले.
पुटपाथी दुकानदारों का धरना-पर्दशन स्थगित, लेकिन भ्रष्ट राजगीर नगर पंचायत को लेकर होगा उग्र आंदोलन
बेन अंचलाधिकारी कर रहे गिरोहबंदी लूट, जनप्रतिनिधियों ने की नालंदा डीएम से शिकायत
एक करोड़ का बकरा करोबार, लेकिन खरीदार के इंतजार में 51 हजारी सुल्ताना
शौचालय निर्माण के भुगतान में घोटाला, लाभार्थी के खाते से उड़े पैसे
शराब पीने से मना किया तो एक बेटे के तिलक समारोह में घूस दूसरे बेटे को गोलियों से यूं छलनी कर मार डाल...
करंट लगने से हनुमान जी की यूं मौत, किसी ने न ली सुध
नगर निगम की कुर्सी जाने के बाबजूद मुकाबला में रहेंगी फूल कुमारी  
प्राक्कलन कब संचिका और संचिका कब घोटाले में बदल गई! भाग- 2
डीएम साहब, भीषण पेयजल संकट में देखिए चापा-नल का हाल !
बिहार शरीफ सदर अस्पताल की हड़ताल खत्म, विधायक की जगह सांसद ने मांगी माफी
राजगीर ग्रामश्री मेला की राह आया अनियंत्रित स्कार्पियो, 2 घायल, बाइक क्षतिग्रस्त, शराब के नशे में घु...
जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने वाहन कोषांग का किया निरीक्षण, दिए अहम निर्देश
पंचायत समिति की बैठक में अनियमितता पर हंगामा के बीच योजनाओं की हुई समीक्षा
आयरन की गोली खाते ही 15 स्कूली बच्चों की हालत बिगड़ी, निजी क्लिनिक में भर्ती
अपराधी बेलगामः सोहसराय के आशा नगर में दुकानदार को मारी गोली, हालत गंभीर
मवेशी विवाद में 2 भाई को गोली मारी, हालत गंभीर, पटना रेफर
नीतीश सरकार के इस तानाशाही रवैया से त्रस्त संवेदकों ने दी काम बंद करने की चेतावनी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...

You may have missed

Don`t copy text!
» पुलिस ने पकड़ी 3 वाहन समेत शराब की बड़ी खेप, लेकिन कारोबारी फरार   » 550वां प्रकाश पर्व पर 27-29 दिसंबर को होगी ये विशेष व्यवस्था   » नेहरू युवा केंद्र द्वारा पंडितपुर में फुटबॉल प्रतियोगिता, उदय क्लब ने आजाद युवा को 2-0 से हराया   » इसलामपुर में 35 कार्टून अंग्रेजी शराब बरामद, ट्रैक्टर टेलर व ट्वेटा वाहन जप्त, 2 धराए   » नंदकिशोर महिला इंटर कॉलेज में 6.06 लाख की गबन का FIR दर्ज   » स्कूली बच्चों के भोजन में मृत बिच्छू ! लापरवाही या साजिश? जांच का विषय   » निगरानी डीएसपी ने थरथरी प्रखंड आवास सहायक को 10 हजार घूस लेते रंगे हाथ यूं दबोचा   » राजगीर नगर पंचायतः पूर्व पार्षद की शिकायत पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने मुख्य सचिव से मांगी जांच रिपोर्ट   » कोर्ट के आदेश की अवहेलना- ‘लापरवाह जेलर हाजिर हो’   » पर्यवेक्षण गृह नहीं, पाठशाला !