‘जल जीवन हरियाली’ के नाम पर भूमिहीन गरीबों को उजाड़ने को लेकर माले का रोष प्रदर्शन

हिलसा (चुन्नू चन्द्रवंशी)। नागरिकता संशोधन कानून वापस लेने, समान शिक्षा स्कूल प्रणाली लागू करने, जल जीवन हरियाली के नाम पर बरसों से बसे भूमिहीन गरीबों को उजाड़ने की नोटिस अविलंब वापस लेने आदि मांगों को लेकर भाकपा माले प्रखंड कमिटी की ओर से हिलसा के प्रखंड एवं अंचल मुख्यालय पर रोष प्रदर्शन किया गया।

प्रदर्शन का नेतृत्व के ग्रामस के जिला सचिव रामधारी दास भाकपा माले के प्रखंड सचिव जय प्रकाश पासवान कार्यालय सचिव दिनेश कुमार यादव ने संयुक्त रूप से किया। प्रदर्शन में सैकड़ों की संख्या में महिला एवं पुरुष शामिल थे।

प्रदर्शन रामबाबू हाई स्कूल से निकलकर काली अस्थान वरुण तल सिनेमा मोड़ जोगीपुर मोड़ होते हुए प्रखंड एवं अंचल कार्यालय पहुंचा।

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए ग्रामस के जिला सचिव रामधारी दास ने कहा की केंद्र में मोदी की सरकार नागरिकता संशोधन कानून लाकर देश के बहुत बड़ी आबादी को देश की नागरिकता से वंचित रखने की योजना बना रखी है और उन्हें डिटेंशन कैंप में बंद कर श्रम का शोषण किया जाएगा। इस कानून को उन्होंने अभिलंब सरकार से वापस लेने की मांग की।

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कार्यालय सचिव दिनेश कुमार यादव ने कहा कि बिहार की सरकार नीतीश कुमार ने बिहार के तमाम भूमिहीन गरीबों को 5 डिसमिल जमीन एवं पक्का मकान देने का वादा किया था।

लेकिन सत्तासीन होने के बाद ठीक इसके विपरीत वर्षों से बसे गरीब भूमिहीन परिवारों को जो बिहार सरकार के के जमीन के कुछ अंश पर बसे हुए हैं। उनको जाने की नोटिस सरकार के द्वारा भेजी जा रही है।

उन्होंने प्रदर्शन के माध्यम से बिहार सरकार से यह मांग की है की जल जीवन हरियाली के नाम पर बरसों से बसे भूमिहीन गरीबों को उजाड़ने की नोटिस अविलंब वापस ले एवं भूमिहीनों को वादा के मुताबिक 5 डिसमिल जमीन एवं पक्का मकान की व्यवस्था करें। पोस मशीन हटाकर आधार कार्ड एवं राशन कार्ड के सूची के मुताबिक गरीबों को राशन दें और समान शिक्षा प्रणाली लागू करें और नहीं तो जनांदोलन तेज किया जाएगा।

इसके अलावा कम्मू राम अशोक पासवान, इंदल बिंद, कैलेंडर पासवान, शिव शंकर प्रसाद आदि लोगों ने संबोधित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here