नकल रोकी तो विम्स के छात्रों ने की बदतमीजी, दी गालियां, काटा बवाल

विम्स के अनेक मेडिकल छात्र इतने उग्र हो गए कि प्राचार्य कक्ष में घुस गए और केंद्राधीक्षक, पर्यवेक्षक व दंडाधिकारी को गालियां देने लगे…….”

नालंदा दर्पण डेस्क। चंडी अवस्थित नालंदा इंजिनयरिग कॉलेज में पावापुरी मेडिकल कॉलेज का थर्ड प्रोफेशनल एमबीबीएस पार्ट टू का चल रही परीक्षा में छात्रों को कदाचार से रोकने पर जमकर बवाल किया।

पावापुरी मेडिकल कॉलेज के एमबीबीएस पार्ट टू छात्रों ने परीक्षा के दूसरे दिन आज जमकर बवाल कर दिया। सारे छात्र कदाचार रोकने से खफा थे। शालीन माने जाने वाले मेडिकल के छात्रों का यह रूप देखकर सभी लोग स्तब्ध रह गए।

मामला बिगड़ते देख प्राचार्य ने चंडी थाने को सूचित कर दिया। थानाध्यक्ष चंचल कुमार दल-बल समेत परीक्षा केन्द्र पहुंचे तो मेडिकल छात्र थानाध्यक्ष से भी बदतमीजी पर उतारू हो गए।

किसी तरह केंद्राधीक्षक डॉ विनय चौधरी, पर्यवेक्षक डॉ श्याम बिहारी प्रसाद तथा दंडाधिकारी ने समझा-बुझाकर छात्रों को शांत कराया और परीक्षा शुरू कराई।

केन्द्रधीक्षक डॉ विनय चौधरी ने बताया कि कॉलेज के तीन कमरों में 94 छात्र व छात्राएं सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में परीक्षा दे रहे हैं। कई छात्र बार-बार नकल करना चाह रहे थे।

सीसीटीवी में उनकी हरकत देख जब वीक्षक ने उन्हें नकल करने से मना किया तो वे लोग उग्र हो गए और बवाल करने लगे। कुछ छात्र प्राचार्य कक्ष में घुसकर हंगामा करने लगे। गाली-गलौज भी की।

हालात ज्यादा बिगड़ते देखकर चंडी थाना को सूचना दी गई। यहां परीक्षा के दौरान पर्याप्त पुलिस बल नहीं रहने के कारण काफी समस्या हो रही है।

केंद्राधीक्षक डॉ विनय चौधरी ने हिलसा अनुमंडलाधिकारी को पत्र लिखकर कहा है कि अभी कम छात्रों की परीक्षा चल रही है। आगे होने वाली परीक्षा में छात्रों की संख्या में वृद्धि होगी। आज की स्थिति देखते हुए इतने कम पुलिस बल में परीक्षा कराना सम्भव नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here