20 प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी और 23 हेडमास्टरों पर लटकी कार्रवाई की तलवार

बिहारशरीफ (नालन्दा दर्पण)। नालन्दा जिला में 20 प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी औऱ 23 स्कूलों के हेडमास्टरों पर कार्रवाई की तलवार लटक रही है। शिक्षा विभाग ने इन्हें नोटिस भेज कर जवाब तलब किया है।

डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर के काम में नालंदा जिला के 23 स्कूल फिसड्डी साबित हुए हैं। ऐसे में उन स्कूलों के हेडमास्टरों से जवाब तलब किया गया है। इतना ही नहीं, प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी यानि बीईओ से भी स्पष्टीकरण मांगा गया है।

सबसे अधिक मामले चंडी और थरथरी प्रखंड के स्कूलों के हैं। नालन्दा के डीपीओ के मुताबिक जिले के वैसे स्कूलों को सूची मुहैया करायी थी, जो अपने यहां नामांकित छात्र-छात्राओं को 75 प्रतिशत हाजिरी के आधार पर हां या नहीं की रिपोर्ट बनाकर भेजनी थी।

लेकिन, समय बीत जाने के बाद भी इन स्कूलों ने जवाब नहीं दिया। इसकी पहली वजह तो टेक्निकल प्रॉब्लम रही। दूसरा कारण शिक्षकों की हड़ताल पर चले जाना रहा। अब सब कुछ सामान्य हो गया है। इसलिए, पोर्टल चालू होते ही काम पूरा कर लिया जाएगा।

नालन्दा जिला के जिन 23 स्कूलों को नोटिस भेजा गया है, उनमें चंडी और थरथरी में सात-सात स्कूल हैं। इसके अलावा लगभग सभी प्रखंडों के एक या दो स्कूल के नाम जरूर शामिल हैं।

इसमें झरहरापर, इमामगंज नया टोला, घोरहरी, कुकहरिया, मोहसिनपुर, डिहरा, मुबारकपुर, महकार बिगहा, रानीपुर, टांड़ापर, इन्दौत, भोभी, कठनपुरा, चन्दौरा, चंडीमौ, जुनैदी, जूरी, बारा धर्मपुर, बांसडीह, दीरीपर, पल्टू बिगहा, नव रत्नपुर और कछियावां नारायणपुर शामिल हैं।

नालन्दा में कुल 1972 छात्र-छात्राओं के डीबीटी का काम अटक गया है। इनमें सबसे अधिक डिहरा स्कूल के 226, चंडीमौ के 232, घोरहरी के 172, बांसडीह के 129, कठनपुरा के 108, टांड़ापर के 126 विद्यार्थियों का अटका हुआ है। इसके अलावा अन्य जगहों पर सौ से कम छात्र-छात्राओं के मामले हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here