नालंदा पुलिस में आधी आबादी की मजबूत जड़, सुर्खियों में 2010 बैच की ये 5 देवियां

आज हर क्षेत्र में आधी आबादी अपना परचम लहरा रही है। लेकिन बात जब पुलिस सेवा की हो और आंखें खाकी ट्रैफिक कांस्टेबल से लेकर अफसरों पर टिकती है तो एक अलग आभा उभरता है। यदि हम सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा जिले की बात करें तो यहां पुलिस महकमा में उनकी जड़ काफी मजबूत नजर आती है

नालंदा दर्पण डेस्क। फिलहाल यहां पांच महिला पुलिस अफसर हमेशा सुर्खियों में रही हैं। पिंकी प्रसाद, प्रभा कुमारी, अंजु तिवारी, आरती कुमारी और सीमा कुमारी। ये पांचों एक ही बैच-2010 की चयनित पुअनि हैं। 

वर्ष 2010 बैच की चयनित पिंकी प्रसाद बतौर प्रशिक्षु एसआई बिहार थाना में पदास्थापित हुईं। उसके बाद दो बार महिला थाना प्रभारी के आलावे पावापुरी ओपी थाना, कतरीसराय थाना प्रभारी रहीं और वर्तमान में बेन थाना प्रभारी है। इसके पूर्व वे दीपनगर एवं नालंदा थाना में पुलिस एसआई रहीं।

वर्ष 2010 बैच की चयनित प्रभा कुमारी भी बतौर प्रशिक्षु एसआई बिहार थाना में पदास्थापित हुईं। उसके बाद वह एसटी-एससी थाना, सिविल कोर्ट थाना, कटरा ओपी, परबलपुर थाना, दो बार महिला थाना, नालन्दा थाना प्रभारी रहीं और फिलहाल पावापुरी ओपी प्रभारी हैं। इस दौरान वे बिहार थाना में एसआई रहीं।

वर्ष 2010 बैच की चयनित अंजु तिवारी बतौर प्रशिक्षु एसआई बिहार थाना में पदास्थापित हुईं। उसके बाद  महिला थाना प्रभारी बनाई गई। फिलहाल राजगीर थाना में पुलिस एसआई रहने के बाद महिला थाना में एसआई पद पर कार्यरत हैं। इन्हें अन्य महिला पुलिस अफसरों की तरह थानेदार बनने के कम अवसर मिले।

ठीक उसी तरह वर्ष 2010 बैच की चयनित आरती कुमारी बतौर प्रशिक्षु एसआई बिहार थाना में पदास्थापित हुईं और वर्तमान में  महिला थाना में पुलिस एसआई के पद पर कार्यरत हैं। इन्हें कहीं भी थानेदार बनने के कोई अवसर नहीं मिले।

वर्ष 2010 बैच की चयनित प्रीति कुमारी भी बतौर प्रशिक्षु एसआई बिहार थाना में ही पदास्थापित हुई। वे 3 माह के लिये महिला थाना प्रभारी और 6 माह के लिए कतरीसराय थाना प्रभारी बनी और फिलहाल बिहार थाना के बाद लहेरी थाना में पुलिस एसआई के रुप में अपनी सेवा दे रही हैं।

इसी बीच वर्ष 2018 में गया से नालंदा जिले में स्थानातंरित पुनि सीमा कुमारी महिला थाना प्रभारी बनाईं गई और वर्तमान में कार्यरत हैं।

विश्वस्त सूत्रों के अनुसार पावापुरी ओपी प्रभारी प्रभा कुमारी और महिला थाना प्रभारी सीमा कुमारी का मायका नालंदा जिला के इसलामपुर क्षेत्र में है और वर्तमान सांसद के काफी करीबी माने जाते हैं। लोग सीमा को तो सांसद की भतीजी तक बताते हैं।

बहरहाल, पुलिस सेवा में सत्ता रसूख कोई मायने नहीं रखते। किसमें कौन से सुर्खांव के पंख लगें हैं, इसका विश्लेषण लोग अपने-अपने तरीके से करते हैं। आए दिन आरोप-प्रत्यारोप का दौर चलता रहता है, जोकि पुलिस सेवा में आम प्रचलन है।

वर्ष 2010 बैच की चयनित पांच महिला पुलिस अफसर, जिनकी पुलिस सेवा की शुरुआत एक साथ बतौर प्रशिक्षु एसआई नालंदा जिले के एक ही बिहार थाना से शुरु हुई। उनके कैरियर के अब तक के सफर भी स्पष्ट करते हैं कि नालंदा पुलिस में उनकी पकड़ कितनी मजबूत है !  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here