देखिए राजगीर विधायक की चुनावी बैठकों में कोरोना सजगता और सोशल डिसटेंस

नालंदा दर्पण डेस्क। एक तरफ जहां बिहार सरकार सोशल डिस्टेंस के साथ मास्क-सेनेटाइजर का पालन करने-करवाने की पुरजोर प्रयास  में जुटी है। पुलिस-प्रशासन आम जन के बीच उसका कड़ाई से पालन की हिदायत दे रही है।

वहीं सत्तारुढ़ दल के माननीय-नेताओं द्वारा ही सोशल डिस्टेंस आदि की सरेआम धज्जियां उड़ाने की धज्जियां उड़ाने वाली तस्वीरें रोज सामने आ रहें है। सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा में तो हद कर दी गई है। उनके विधायक तक बेलगाम दिख रहे हैं।

खबर है कि बिहार शरीफ प्रखंड में जदयू बूथ अध्यक्ष-सचिवों-कार्यकर्ताओं की बैठकें हरगावाँ पंचायत के पैक्स गोदाम प्रांगण, तेतरावाँ पंचायत के मध्य विद्यालय तेतरावाँ, और परोहा पंचायत की बैठक पंचायत भवन परोहा में हुई। इन बैठकों में राजगीर विधानसभा क्षेत्र के विधायक रवि ज्योति कुमार भी शामिल हुए।

ये सारी बैठकें नजदीकी बिहार विधान सभा चुनाव की तैयारी को लेकर रही। लेकिन इन बैठकों में शायद ही कोई नेता-कार्यकर्ता मास्क पहने हुए हो। सोशल डिस्टेंस भी हर जगह हवा में रही।

इन बैठकों में हरगावाँ पंचायत के शत्रुघन कुमार, विष्णु प्रसाद ,मनोज कुमार ,तसव्वर आलम, रामप्रवेश उर्फ कारू ,श्रवण कुमार, दिनेश प्रसाद ,कुंदन पासवान, नीतीश कुमार ,राजकरण चौहान, योगेंद्र चौहान,अनुज कुमार,सनी कुमार तेतरावाँ पंचायत में दानी पासवान, गोपेंद्र पंडित शुक्ला, सत्येंद्र पंडित ,रामरतन पासवान, भोला पासवान ,वीरू कुमार ,नरेश चौधरी, शिरोमणि कुशवाहा, रामविलास कुमार ,संजय प्रसाद, मल्लू कुमार ,रवि कुमार, पंजाबी पासवान ,परोहा पंचायत में अनिल कुमार, बालमुकुंद प्रसाद, अनुज कुमार ,रंजीत कुमार, अभिनाश कुमार ,अवधेश प्रसाद, पुटूश कुमार ,पिंटू कुमार, दीपक कुमार आदि लोग शामिल हुए।

अब सबाल उठता है कि जब सत्तारुढ़ जदयू के विधायक-कार्यकर्ता ही अपने सरकार की अपील और दिशा-निर्देश की धज्जियां उड़ा रहे हों तो आम जनता से क्या उम्मीद की जाए।

यह दीगर बात है कि पुलिस का डंडा और प्रशासन का जुर्माना-मुकदमा सिर्फ निरीहों के लिए बनी है। माननीयों और उनके बिगड़ैलों के सामने उनकी सारी हेकड़ी गुम रहती है। आखिर सब सुशासन के प्यादे जो ठहरे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here