अन्य
    अन्य

      कोचिंग नगरिया ‘कोटा’ में चंडी के भी फंसे हैं दर्जन भर छात्र

      85,124,792FansLike
      1,188,842,671FollowersFollow
      345,671,298FollowersFollow
      92,437,120FollowersFollow
      85,496,320FollowersFollow
      40,123,896SubscribersSubscribe

      चंबल नदी के तट पर बसे कभी औधौगिक नगरी कहलाने वाली कोटा में नालंदा के चंडी के भी एक दर्जन छात्र पिछले एक माह से फंसे हुए हैं। ये सभी छात्र होली की छुट्टी में आएं थे। क्लास शुरू होने के दो दिन पूर्व पहुँचे। लेकिन जिस दिन पहुँचे, उसी रात पीएम मोदी ने 21 दिन तक लॉकडाउन की घोषणा कर दी

      नालंदा दर्पण को मिली जानकारी के मुताबिक चंडी के एक दर्जन छात्र कोटा में फंसे हुए हैं। जबकि प्रखंड से इसकी संख्या बढ़ भी सकती है। जिसके आंकडे प्रशासन के पास भी नहीं है।

      कुछ ऐसे किस्मत वाले छात्र भी हैं जो होली की छुट्टी के बाद कोटा जा नहीं पाये और वे लॉकडाउन की परेशानी से बच गए।

      cota lockdown chandi nalanda student 1

      कई छात्रों ने दूरभाष पर नालंदा दर्पण को बताया कि फिलहाल लॉकडाउन की वजह से ज्यादा परेशानी  हो रही है। दूसरे राज्य के जो छात्र थे, वे सभी जा चुके हैं। जिससे सूनापन लग रहा है। वही सरकारी मदद भी नहीं मिल पा रही है। बाजार बंद रहने और दूर होने की वजह से सामान भी खरीद नहीं पाते हैं।

      नूरसराय प्रखंड के डोइया के एक छात्र, जो चंडी से ही पढ़ाई कर कोटा गये हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी की वजह से शहर सूनसान दिख रहा है। हमेशा गुलजार रहने वाला कोटा में एक अजीब सी खामोशी दिख रही है। कभी-कभी बहुत डरावना सा दिखता है।

      प्रशांत ने बताया कि चूँकि वे अपना खाना स्वयं बना लेते हैं, जिससे ज्यादा परेशानी नहीं आ रही है। यहाँ के कोचिंग वाले भी छात्रों को पहुँचाने के लिए तैयार है, लेकिन बिहार सरकार के रवैये की वजह से फंसे हुए है।

      वहीं चंडी प्रखंड के महकार के सत्येन्द्र प्रसाद की पुत्री भी लॉकडाउन में कोटा में फंसी हुई है। वे भी अपनी पुत्री को लेकर चिंतित दिखाई दे रहे है।

      वहीं जैतीपुर के एक छात्र विकास कुमार भी वहीं फंसे हुए है। इनके अलावा सोनम भारती,  प्रत्युष कुमार, राहुल और भी कई छात्र कोटा में ही कैद है।

      विश्वसत सूत्रों ने बताया कि चंडी प्रखंड से लगभग 40-50 की संख्या में  छात्र हैं, जो वहां फंसे हुए हैं। जिनमें कुछ ऐसे अभिभावक भी है, जो बच्चों को पहुँचाने के लिए कोटा गये थें और वहीं अटके हुए है।

      राजस्थान के चंबल नदी के तट पर स्थित कोटा कभी औधौगिक नगरी कहलाता था। किसी समय यहाँ बड़े कल-कारखानों से धुआँ निकालती फैक्टरी हुआ करती थी। जब इन कारखानों में मंदी आई और मशीनें बेजार हो गई तो कोचिंग इंडस्ट्री का कारोबार बढ़ा।

      cota lockdown chandi nalanda student 3

      कोटा में तब से कोचिंग संस्थानों की बहार है। कमोबेश हर राज्य के छात्र -छात्राओं की उपस्थिति कोटा में एक मुकक्मल भारत की तस्वीर प्रस्तुत करती है। यहाँ मेडिकल-इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए 12 लाख विधार्थियों के इम्तिहान की राह यहाँ से गुजरती है।

      लेकिन यहाँ कुल सीटें लगभग 11 हजार है। जितनी बिहारी छात्र यहाँ अपनी तैयारी के लिए पहुँचते हैं।

      अभिभावक भी मानते हैं कि इंजीनियर और डॉक्टर बनने का रास्ता कोटा होकर जाता है। कोटा में कोचिंग इंडस्ट्री में हर साल करोड़ों-करोड़ का करोबार है।

      अपने पालनहारों की अंगूली थामे कोटा पहुँचने वाले ये बच्चें अब वापस घर लौटना चाहते हैं। लेकिन राज्य सरकार के बाबू मोशाय हैं कि मानते नहीं। 

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      Related News

      Expert Media Video News
      Video thumbnail
      पियक्कड़ सम्मेलन करेंगे सीएम नीतीश कुमार के ये दुलारे
      00:58
      Video thumbnail
      देखिए वायरल वीडियोः पियक्कड़ सम्मेलन करेंगे सीएम नीतीश के चहेते पूर्व विधायक श्यामबहादुर सिंह
      04:25
      Video thumbnail
      मिलिए उस महिला से, जिसने तलवार-त्रिशूल भांजकर शराब पकड़ने गई पुलिस टीम को भगाया
      03:21
      Video thumbnail
      बिरहोर-हिंदी-अंग्रेजी शब्दकोश के लेखक श्री देव कुमार से श्री जलेश कुमार की खास बातचीत
      11:13
      Video thumbnail
      भ्रष्टाचार की हदः वेतन के लिए दारोगा को भी देना पड़ता है रिश्वत
      06:17
      Video thumbnail
      नशा मुक्ति अभियान के तहत कला कुंज के कलाकारों का सड़क पर नुक्कड़ नाटक
      02:36
      Video thumbnail
      झारखंडः देवर की सरकार से नाराज भाभी ने लगाए यूं गंभीर आरोप
      02:57
      Video thumbnail
      भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष एवं सांसद ने राँची में यूपी के पहलवान को यूं थप्पड़ जड़ा
      01:00
      Video thumbnail
      बोले साधु यादव- "अब तेजप्रताप-तेजस्वी, सबकी पोल खेल देंगे"
      02:56
      Video thumbnail
      तेजस्वी की शादी में न्योता न मिलने से बौखलाए लालू जी का साला साधू यादव
      01:08