अन्य
    अन्य

      चंडी फील्ड की दुर्दशा देख सोशल मीडिया पर एक प्रेमी का यूं उभरा दर्द

      चंडी (नालंदा)। ‘लौटकर आया हूं, फिर से मैदान में,अंदाज वहीं है, सिर्फ तरीका बदल गया है’।कहने को यह फलसफा है लेकिन चंडी के ‘बडकी फील्ड’ के वर्तमान स्थिति की दुर्दशा को बयां करती है।

      कहने को चंडी की 90 प्रतिशत जनता का किसी न किसी रूप में फील्ड से भावनात्मक लगाव रहा है। लेकिन अभी के समय में चंद ऐसे लोग हैं जो फील्ड को लेकर हमेशा चिंतित रहते हैं। उसके बचाव और देख-रेख के लिए परेशान दिखते हैं।

      A lovers pain emerged on social media regarding the plight of Chandi Field 2
      दिल की आवाज……..राजू माथुर की जुबानी

      ऐसे ही एक जागरूक और सामाजिक कार्यों में काफी बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने वाले उत्साही युवक है राजू माथुर। चंडी फील्ड को लेकर वह हमेशा चिंतित रहते हैं। इससे पहले भी वह चंडी फील्ड की गंदगी को लेकर आवाज उठाते रहे हैं।

      उन्होंने चंडी फील्ड की दुर्दशा को देखते हुए सोशल मीडिया पर अपना दर्द बयां किया। उन्होंने लोगो से फील्ड को बचाने का आग्रह किया।

      चंडी फील्ड में गंदगी और कूड़े को लेकर उनको तथा उन जैसे लोगों को जो कभी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी को लेकर दौड़ लगाने आते रहे हैं। लेकिन दौड़ के लिए यह फील्ड अब उपयोगी नहीं रहा है।

      पिछले दिनों ही फील्ड सब्जी मंडी बना हुआ था। जरा सा बारिश में फील्ड डल झील बन गया था। उपर से सब्जी दुकानदारों के द्वारा फैलाई गंदगी ने फील्ड को बेदरंग कर दिया है।

      फील्ड के इस हालात को देखते हुए राजू माथुर ने फील्ड को बचाने के लिए उन लोगों से भी मदद की गुहार लगाई है जिनके पूर्वजों ने जमीन दान की थी। उन्होंने सोशल मीडिया पर अपने दर्द‌ को कुछ यूं उकेरा..

      A lovers pain emerged on social media regarding the plight of Chandi Field 3“अभी कुछ देर पहले मैंने ग्रुप में कुछ तस्वीर भेजा है उस तस्वीर को देखकर आप लोग जायजा लगा सकते हैं की चंडी फील्ड का हालत क्या हो चुका है।

      आज जब मैं सुबह उठा और टहलने के उद्देश्य और दौड़ने के उद्देश्य जब मैं फील्ड में गया तो हमें रोना आ गया।

      चंडी फील्ड का यह जो दशा है, यहां के कुछ तमाम तत्वों के द्वारा इसे कचरा घर बना दिया गया है। सूअर और भेड़ बकरी चराने का जगह बना दिया गया है…..

      कभी वह समय था कि यहां पर लोग आकर मैच खेला करते थे, दूर दूर से लोग आते थे और यहां पर अपना प्रदर्शन दिखाते थे। लेकिन आज यह चंडी फील्ड  फिर इस हालत में पहुंच चुका है कि इसे देखकर किसी को भी रोना आ जाएगा।

      अगर किन्ही को इस फील्ड से हमदर्दी है या वह चाहते हैं कि यह फील्ड बचा रहे तो प्लीज आप लोग इस फील्ड को बचाने में मदद करें। क्योंकि अकेले चना भाड़ नहीं फोड़ता ।यह तो बात सभी जानते ही होंगे।  

      इसीलिए हम लोगों को अपनी चंडी की पावन धरती पर जो यह फील्ड कुछ पूर्वजों के द्वारा जो दान किया गया है या जिसने भी दान किया है उनके धरोहर को बचा ले हमें।

      आप तमाम ग्रुप वासियों से यह विनम्र निवेदन है अनुरोध है कि इस फील्ड को बर्बाद होने से बचा ले इस ग्रुप में बहुत सारे अनुभवी और पद पर बने हुए लोग हैं। मैं उनसे हाथ जोड़कर विनती करता हूं कि कृपया कर इस चंडी फील्ड को बचा ले वरना आने वाले दिनों में यहां पर कुछ नहीं बचेगा।” धन्यवाद।  

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      Related News