सरकारी उपेक्षा से नाराज निजी स्कूलों में मनाया गया काला दिवस

0

चंडी (नालंदा दर्पण)। भारतीय स्वतंत्र शिक्षण संघ के आह्वान पर निजी स्कूलों ने  सरकारी उपेक्षा एवं चार सूत्री मांगो को लेकर काला दिवस मनाया।

कोरोना को लेकर पिछले छह महीने से बंद निजी स्कूलों ने शिक्षक दिवस के मौके पर सरकारी उपेक्षा और उदासीनता को लेकर काला दिवस के रूप में मनाया।स्कूलों के शिक्षकों ने काली पट्टी बांधकर विरोध मार्च निकाला।

भारतीय स्वतंत्र शिक्षण संघ के चंडी प्रखंड के अध्यक्ष सह ओरिंएंटल स्कूल के प्राचार्य रंधीर कुमार प्रेम के नेतृत्व में एक विरोध मार्च निकाला गया जो स्कूल से बस स्टैंड तक गया।

प्रखंड अध्यक्ष ने बताया कि देश भर में धीरे -धीरे जन जीवन समान होते जा रहा है। सरकार अनलॉक के नाम पर बाजार और सरकारी उपक्रम खोल चुकी है। परिवहन और रेल परिचालन भी शुरू हो गया है। मॉल -मंदिर भी खुल चुके हैं लेकिन शिक्षा का मंदिर बंद है।

उन्होने कहा कि संघ शुरू से ही निजी स्कूलों के बंद रखे जाने पर सरकार से कुछ मांग कर रही है, जिसमें आरटीई के तहत सभी निजी स्कूलों को तत्काल प्रतिपूर्ति राशि का भुगतान करे।  

इसके अलावा कोरोना काल में निजी स्कूलों को दो-दो लाख आर्थिक क्षतिपूर्ति, लॉकडाउन के दौरान शिक्षकों एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों को पच्चीस हजार रुपये का भुगतान की मांग तथा कोरोना से बचाव हेतु मार्गदर्शन देते हुए शीघ्र निजी स्कूलों को खोलें जाने की मांग शामिल है।

इस मौके पर मिथिलेश प्रसाद, गुड्डू कुमार, राजीव रंजन, ब्यूटी प्रसाद, निशा कुमारी, अलका कुमारी सहित अन्य शिक्षक एवं कर्मचारी शामिल हुए।

Previous articleइन 8 डिग्री कॉलेज को सत्र 2009-12 एवं 2010-13 का मिला अनुदान !
Next articleबेरोजगारी के खिलाफ इनौस ने बजायी ताली-थाली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here