अन्य

    52 साल पहले पटना जिला में हुआ मुकदमा, अब नालंदा जिला में जज मानवेन्द्र मिश्र ने किया निष्पादन

    नालंदा दर्पण डेस्क। आज भारत की न्यायपालिका घोर संसाधनों की कमी से जूझ रहा है। उसपर नित्य नए बढ़ते मुकदमों के बोझ और उसकी जटिलताएं से आम धारणा बन गई है कि कोर्ट कचहरी के चक्कर से मुक्ति मिलनी बड़ी मुश्किल होती है।

    ऐसे में बिहार के नालंदा जिला किशोर न्याय परिषद के प्रधान दंडाधिकारी के रूप में त्वरित और मानवीय संवेदनाओं को ध्यान में रखकर कई चर्चित फैसले देने वाले जज मानवेन्द्र मिश्र ने एसीजेएम पंचम के पद पर योगदान देने के हफ्ते भर के भीतर ही चार और पांच दशक पुराने दो मामलों का निष्पादन कर एक बार फिर सुर्खियों में हैं।

    खबरों के मुताबिक एक मामला  सन् 1970 और दूसरा मामला सन् 1978 से चल रहा था। मुदई और मुदालय यानि सूचक और आरोपी दोनों की मौत के बाद भी मुकदमा जिंदा था। अब जिन दो मामलों का निष्पादन हुआ है, उनमें से एक मामला तो नालंदा जिला का गठन होने से पहले का ही है।

    केस- 01 में नालंदा जिला का गठन के पहले वर्तमान के पटना जिला के परसा निवासी स्व. सीता गोप पर 1970 में सरकारी कार्य में बाधा डालने का आरोप लगा था।

    उस समय नालंदा पटना जिला में ही शामिल था। तब फतुहा थाना में यह मामला दर्ज हुआ था। जब नालंदा जिला का गठन हुआ तो यह केस ट्रांसफर होकर नालंदा चला आया।

    तब से यह मामला यहां के न्यायालय में ही लंबित चल रहा था। न्याय का इंतजार करते करते इस मामले के सूचक और प्रतिवादी दोनों काल के गाल में समा गए, लेकिन मुकदमा की फाइल धूल-गर्द के नीचे भी सांस लेती रही।

    इसी बीच एसीजेएम 5 का पद संभालने के बाद जज मानवेन्द्र मिश्र ने इसे खंगाला और दोनों की मृत्यु होने का सत्यापन कर मामले का निष्पादन कर दिया। 52 वर्ष बाद इस मामले 25/सी 1970 का निष्पादन हुआ।

     

    हरनौत में दिनदहाड़े पत्रकार को मारी गोली, बिहारशरीफ रेफर

    सोहसराय स्वर्ण व्यवसायी हत्याकांड का खुलासा, एक बदमाश पटना के फुलवारीशरीफ से धराया

    शराब माफियाओं पर कार्रवाई नहीं होतीः माले विधायक, पुलिस अफसरों की संपति की जांच हो : पप्पु यादव

    सोहसराय जहरीली शराब कांडः अब तक 13 की मौत, 2 हुए अंधे, कई गंभीर

    युवक की गोली मारकर हत्या मामले में 10 लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी