अन्य

    7 हथियारबंद नकाबपोश बदमाशों ने घर को लूटा, दीपनगर बना अपराधियों का सेफ जोन

    दीपनगर (नालंदा दर्पण)। दीपनगर थाना क्षेत्र में इन दिनों बदमाशों के हौसले बुलन्द हैं। यहाँ आए दिन चोरी, लूट छिनतई जैसी वारदात सरेआम हो रही है। जिसपर पुलिस प्रशासन अंकुश लगाने में नाकाम साबित हो रही है। अपराधी द्वारा डकैती जैसी वारदात को अंजाम देकर आराम से चलते बनते है।

    ताजा मामला दीपनगर थाना क्षेत्र के काशिमचक गांव का हैं जहाँ बीती शाम 7 की संख्या में हथियार बंद बदमाशों ने डकैती की घटना को अंजाम दिया है। इस दौरान घर मे मौजूद सदस्यों के द्वारा विरोध करने पर बदमाशों ने मारपीट भी किया है।

    गृह स्वामी के बेटे प्रदीप कुमार ने बताया कि बीती शाम करीब 8 बजे 7 की संख्या में बदमाश नकाब पहनकर उनके घर में घुस आए और 50 हजार नगद और 4 लाख के जेवरात की लूट कर फरार हो गया।

    पीड़ित प्रदीप कुमार ने बताया कि सोमवार की शाम करीब 8 बजे घर के बाहर बच्चे चापाकल पर पानी भर रहे थे। तभी खेत की तरफ से कुछ नकाबपोश पहुँचे।

    बदमाशों ने घर के सदस्यों को पिस्टल की नोक पर लेते हुए बंधक बना लिया और एक कमरे में बंद कर दिया। मेरे द्वारा और मेरी पत्नी अंजली कुमारी के द्वारा विरोध करने पर  मारपीट किया। जिससे वे दोनों दम्पति घायल हो गए। घर के अन्य कमरों में रखे 4 लाख के जेवरात और 50 हजार नगदी को लूट कर फरार हो गए।

    जब उनलोगों का पीछा किया गया तो जाते जाते बदमाशों ने दशहत फैलाने के उद्देश्य से 2 राउंड फायरिंग भी की, ताकि घर के सदस्य बदमाशों का पीछा न करे। जिसके बाद डकैती की सूचना पुलिस को दी।

    दरअसल, कुलदीप प्रसाद काशिमचक में 2016 से घर बना कर रह रहे है। आसपास कोई घर नहीं है। इसी का फाइदा अपराधियों ने उठाया।

    वही दीपनगर थानाध्यक्ष मो. मुस्ताक का कहना है कि घटना की सूचना मिलने के उपरांत पुलिस रात में घटनास्थल पर पहुँच कर जांच में जुट गई थी।  जबकि पीड़ित परिवार पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठा रहे हैं।

    Comments