अन्य

    सभी स्थानांतरित कर्मियों को 24 घंटे के भीतर नव पदस्थापन कार्यालय में योगदान करने के निर्देश

    सामान्य शाखा से संबंधित मानवाधिकार, लोकायुक्त, चरित्र सत्यापन, चौकीदार अनुकंपा आदि के लंबित सभी मामलों की सूची प्रस्तुत करने एवं इन सभी मामलों को सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर निष्पादित करने का स्पष्ट रूप से आदेश दिया गया.....

    बिहारशरीफ (संजय कुमार)। जिला पदाधिकारी  योगेंद्र सिंह ने  सोमवार को जिला स्थापना शाखा एवं सामान्य शाखा के कार्यों की समीक्षा की।

    स्थापना शाखा की समीक्षा के क्रम में पाया गया कि पूर्व में स्थानांतरित किए गए कुछ कर्मियों द्वारा अपने नव पदस्थापन कार्यालय में योगदान नहीं दिया गया है।

    जिला पदाधिकारी ने इस पर गहरी नाराजगी व्यक्त की तथा 24 घंटे के अंतर्गत सभी स्थानांतरित कर्मियों को अपने नव पदस्थापन कार्यालय में योगदान कराने का निर्देश दिया।

    स्थापना शाखा की समीक्षा के क्रम में कर्मियों के बीच कार्य के बंटवारा से संबंधित अद्यतन आदेश प्रस्तुत नहीं किया जा सका। साथ ही स्थापना शाखा से संबंधित एसीपी, एमएसीपी आदि से संबंधित मामलों का ससमय निष्पादन नहीं किया जा सका है।

    जिलाधिकारी ने इस पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए स्थापना शाखा के सभी कर्मियों के वेतन निकासी पर रोक लगाने का निदेश दिया तथा शाखा के प्रभारी पदाधिकारी से स्पष्टीकरण मांगा। स्थापना शाखा से संबंधित सभी लंबित मामलों का त्वरित निष्पादन सुनिश्चित करने का निदेश दिया गया।

    पूर्व के स्थानांतरण आदेश के अनुसार जिन कर्मियों द्वारा सामान्य शाखा में योगदान दिया जाना है, परंतु अभी तक योगदान नहीं दिया गया है, इन सभी कर्मियों से 24 घंटे के अंदर योगदान कराने का निर्देश दिया गया।

    सामान्य शाखा से संबंधित मानवाधिकार, लोकायुक्त, चरित्र सत्यापन, चौकीदार अनुकंपा आदि के लंबित सभी मामलों की सूची प्रस्तुत करने एवं इन सभी मामलों को सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर निष्पादित करने का स्पष्ट रूप से आदेश दिया गया।

    इसके साथ ही शाखा द्वारा किये जा रहे अन्य कार्यों का भी अविलम्ब निष्पादन सुनिश्चित करने को कहा गया। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि किसी भी परिस्थिति में कोई भी मामला बगैर किसी वैध कारण के लंबित नहीं रहना चाहिए।

    बैठक में स्थापना उप समाहर्ता आशुतोष कुमार, सामान्य शाखा प्रभारी शशि कुमार सहित दोनों शाखा के  कर्मी उपस्थित थे।

    Comments