अन्य

    हिरण्य पर्वत पर ही तथागत ने किया था अंतिम वर्षावास