अन्य
    अन्य

      सुशासन बाबू के गृह जिले में भ्रष्ट डीलर को यूं लताड़ रहे लाभुक !

      नगरनौसा (नालंदा दर्पण)। नगरनौसा प्रखण्ड क्षेत्र अंतर्गत दामोदरपुर बल्धा पंचायत के एक जनवितरण प्रणाली दुकानदार आजकल काफी चर्चा में है। गरीबों का निवाला गटकने में उनकी कोई सानी नहीं है। ऐसा प्रतीत होता है कि पदाधिकारियों का वरदहस्त प्राप्त  है।

      प्रखंड  में यह चर्चा का विषय बनकर रह गया है कि यहां के वरीय पदाधिकारी डीलरों से मोटी रकम वसूल कर अपने संरक्षण मे भोली भाली लाभुकों के हक की राशन अवैध तरीके से गबन कराते हैं। मीडिया में बात आने पर जाँच का हवाला देकर महीनो बीतने के बाद भी मामले को यू ही लीपा पोती कर दिया जा रहा है।
      ताजा मामला सोशल मीडिया पर एक विडियो तेजी से वायरल हो रही है जिसमे दामोदरपुर बल्धा पंचायत के दामोदरपुर गाँव के सैकङो लाभुक महिलायें एक डीलर राधे साव के पुत्र विकास कुमार को लताड़ते नजर आ रहे है।
      लाभुकों की माने तो दरअसल बात यह है कि हर बार की तरह डीलर पुत्र अपने पिता का पाश मशीन लेकर लाभुको के घर जाकर आधार सीडिंग के नाम पर फरवरी मार्च का राशन निकालने की जुगत मे गया था।
      जबकि लाभार्थियों की माने तो उन्हे जनवरी माह का राशन समेत मार्च तक कोई राशन नही मिला है । अक्रोशित लोगो ने डीलर पुत्र से जब जनवरी माह का राशन की बात किये तो कोई संतोषजनक जबाब देते नही दिखे।
      वायरल विडियो मे अक्रोशित लाभुको का गुस्सा सातवे आसमान पर स्पष्ट दिख रहा है। यहाॅ हम बताते चले कि इसी डीलर पुत्र विकास कुमार ने एक मीडियाकर्मी के साथ वद्सलुकी किया था, जिसका प्राथमिकी नगरनौसा थाने दर्ज है।
      मीडियाकर्मी ने लाभुको की ओर से सिर्फ यही जानने की कोशिश की थी कि किस महीने का राशन बितरण किया जा रहा है? जनवरी महीने का राशन आज तक क्यो नही वितरित किया गया?
      इसी बात को लेकर डीलर पुत्र मीडिया के साथ वदसलुकी करता है और अपने आप को बचाने के लिये मीडिया कर्मी पर जानकारी को कथित रंगदारी का नाम देकर काउंटर मुकदमा भी करबाता है।

      ऐसे मे सबाल उठता है कि सारे साक्ष्य के बावजूद भी यहां के बरीय पदाधिकारी इस डीलर पर कोई कार्रवाई क्यों नही करते कही ऐसा तो नही कि मोटी रकम वसूल कर यू ही मामले को हल्के मे लेकर यू ही लीपा-पोती कर दी जाती है।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      Related News