अन्य

    27 सितंबर को किसान संगठनों के भारत बंद को सफल बनाने हेतु भाकपा माले का कैडर कन्वेंशन

    इसलामपुर (नालंदा दर्पण )। इस्लामपुर प्रखण्ड के आत्मा पंचायत में भाकपा माले का 27 सितंबर को किसान संगठनों द्वारा आहूत भारत बंद को सफल बनाने के लिए कैडर कन्वेंशन संपन्न हुआ।

    इस अवसर पर भाकपा माले के जिला सचिव का सुरेन्द राम ने कहा कि देश की राष्ट्रीय संपत्ति को मोदी सरकार द्वारा ‘नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन’ का नाम देकर 26,700 किलोमीटर नेशनल हाईवे, 8,000 किलोमीटर गैस पाइपलाइन, तेल पाइपलाइन का 4,000 किलोमीटर;  बिजली ट्रांसमिशन का 42,300 किलोमीटर नेटवर्क ; ऑप्टिकल फाइबर का 2,86,000 किलोमीटर नेटवर्क; 21 मिलियन टन भंडारण क्षमता;  400 रेलवे स्टेशन;  9 बंदरगाह;  25 हवाई अड्डे सहित 150 ट्रेनों को सत्ता के करीबी पूंजीपतियों को कौड़ियों के दाम बेचा जा रहा है।

    दूसरी तरफ देश के किसान नौ माह से तीनों कृषि कानून वापस लेने की मांग को लेकर सडकों पर है और संवेदनहीन मोदी सरकार इससे न सिर्फ बेखबर है बल्कि उनके हौसले को कुचल देने के लिए हर तरह का कुचक्र रच रही है। देश का 70%खेती बटाईदार करते हैं। मोदी जी वादा किए थे कि हम फसल लागत का डेढ़ गुणा दाम दूंगा, तब आज उसे क्यों नहीं देना चाहते? वे खुद बोले थे कि हम कसम मिट्टी की खाते हैं, देश नहीं बिकने दूँगा, किंतु आज देश का कोना कोना एक एक कर बेचते चले जा रहे हैं। इन सबके खिलाफ किसान संगठनों के संयुक्त आह्वान पर 27 सितंबर के भारत बंद को सफल बनाने के लिएभाकपा माले  सक्रिय रूप से सड़कों पर उतरेगी।

    उन्होंने कहा कि आज किसानों की लडाई बहुत आगे बढ़ गई है। अब किसानों की माँगो के साथ मजदूरों, हर तबको के हक ,अधिकार, मान सम्मान की लडाई के साथ देश, लोकतंत्र, संबिधान को बचाने की लडाई बन गई है। मंहगाई, बेरोजगारी, बेहतर शिक्षा, स्वास्थ्य का भी सवाल जुड गया है।  इसीलिए इसे सफल करने के लिए हर पंचायत और गांव में बैठक कर 27 सितंबर के भारत बंद को नालन्दा जिले में  ऐतिहासिक बनाने के लिए योजना बनाई जा रही है।

    इस कन्वेंशन को भाकपा माले के इस्लामपुर प्रखण्ड सचिव उमेश पासवान, महेंद्र प्रसाद, किसान नेता व पूर्व मुखिया नरेश प्रसाद सहित अन्य नेताओं ने भी संबोधित किया।

     

     

    Comments