अन्य

    गुरु के बिना संभव नहीं है ज्ञान की प्राप्ति : धनंजयजी महाराज

    इसलामपुर (नालंदा दर्पण)। स्थानीय बाजार के टॉउन हॉल में गुरु पूर्णिमा के अवसर पर गुरु पुजन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें शिष्यों ने परमयोगी धनंजयजी महाराज का गुरु पुजन कर आर्शीवाद व गुरु  वचन ग्रहण किया।

    इस दौरान परमयोगी धनंजय जी महाराज ने कहा कि गुरु के वैगर ज्ञान संभव नही है। जीवन में गुरु होना परम अवश्यक है। गुरु के बिना जीवन में उन्नति संभव नहीं है और बिना गुरु कृपा के जीवन में शीर्ष स्थान को पाना असम्भव है।

    उन्होंने कहा कि देव दानव सभी को गुरु की अवश्यक्ता हुई है। एक मात्र गुरु ही तम हरणे का स्त्रोत होते हैं। गुरु कृपा से बंचित मनुष्य को भवनिधि प्राप्त नहीं होती है। कोरोना को लेकर शिष्यों ने सोसल डिसटेंस का पालन करते हुए गुरु पूजन व आर्शिवाद ग्रहण कार्यक्रम को सम्पन्न किया।

    इस कार्यक्रम को राजेश खन्ना, अरविंद  कुमार, मुकेश कुमार, प्रकाश, वीपुल कुमार, दिवेश कुमार, पारस कुमार आदि शिष्यों ने सफल बनाने में अहम भूमिका निभाई।

    आयोजित अखंड कीर्तन सम्पन्न

    स्थानीय इसलामपुर थाना के वरडीह गांव में ग्रामीणों के सहयोग से असाढ़ी पूजा के अवसर पर देवी स्थान में ग्राम देवता की पूजा के साथ 24 घंटा के लिए आयोजित अखंड कीर्तन सम्पन्न हुआ।

    इस दौरान हरे राम हरे कृष्ण की धुन से आस पास में भक्तिमय वातावरण का महौल बना था। वहीं समाजसेवी रामगुलाम पासवान ने बताया कि अखंड कीर्तन समापन के बाद लोगो के बीच प्रसाद का वितरण किया गया।

    इस कार्यक्रम को सफल बनाने में रजनीश चंद्र राय, प्रमोद पांडेय, महंथ जनार्दन प्रसाद, जगत भुषण भारतीय, संजय प्रसाद, पप्पु कुमार आदि ग्रामीण सहयोग में लगे थे।

    Comments