अन्य

    तीन कृषि कानून एवं श्रम कोड  को रद्द करने की मांग को लेकर विरोध मार्च

    चंडी / इसलामपुर (नाल़दा दर्पण)। सभी श्रम संगठनों के आहृवान पर‌‌ तीन कृषि कानूनों को रद्द किये जाने की मांग को लेकर इनौस तथा भाकपा माले ने विरोध मार्च निकाला।यह विरोध मार्च जैतीपुर मोड़ से लेकर अंचल कार्यालय तक निकाला गया।

    इस मौके पर भाकपा माले के हरनौत विधानसभा प्रभारी रामदास अकेला, इंकलाबी नौजवान सभा के जिलाध्यक्ष विरेश कुमार, चण्डी लीडींग टीम नेता सुखनंदन पासवान ने कहा कि यह चार श्रम कानून कर्मचारियों के हित में तथा  मजदूरों के हित में नहीं है। इसे सरकार जल्द से जल्द वापस ले यह श्रम कोड को निजीकरण कोड भी कहा जा सकता है ।

    इस मौके पर भाकपा माले के हरनौत विधानसभा प्रभारी रामदास अकेला ,इंकलाबी नौजवान सभा नालंदा जिलाध्यक्ष कॉमरेड विरेश कुमार, चण्डी लीडींग टीम के नेता सुखनंदन पासवान,  अनीता देवी, ललिता देवी, लालमुनि देवी, सावित्री देवी, मेहनी देवी,रुणा देवी,लालती देवी,वेदामी देवी, झपसी मांझी, मथुरा राम, सरयुग मांझी, अनीता देवी, मनोहर रविदास, शैलेंद्र मांझी, अवधेश मांझी, योगेंद्र मांझी, मुकेश रविदास एवं दर्जनों लोग शामिल हुए।

    उधर, ऐतिहासिक क्रान्ति दिवस के मौके पर आज किसान संगठनों की ओर से इसलामपुर में किसान विरोधी तीन काले कानूनों की वापसी के लिए प्रतिवाद आयोजित किया गया। 

    यह प्रतिवाद मार्च पार्टी कार्यालय से निकलकर तलावपर खानकाह केवई मोड़ पुरानी बस स्टैन्ड प्रखण्ड कार्यालय होते हुए केबी चौक पर सभा मे तब्दील हो गया। इस विरोध कार्यक्रम के तहत झंडा, बैनर, पोस्टर लेकर सभी किसान कार्यकर्ता पोस्टरों में तीन काले कानूनों की वापसी नहीं तो गद्दी छोड़ दो, एमएसपी के लिए कानून बनाओ, प्रस्तावित बिजली कानून वापस लो बाढ़ से धान की फसल बर्बादी का मुआवजा दो। बिहार में बढ़ते अपराध पर रोक लगाओ, मजदूर विरोधी श्रम कानून रद्द करो, मंहगाई पर रोक लगाओ, महिलाओ पर हिंसा बन्द करो, अगस्त क्रांति व किसान आंदोलन मे शहीद अमर रहे, कम्पनी राज नहीं चलेगा, कारपोरेट की गुलामी नहीं सहेगें, मोदी सरकार गद्दी छोड़ो, कारपोरेट भारत छोड़ो आदि नारे लिखे थे।

    इस मौके पर माले जिला सचिव सुरेन्द्र राम ने कहा कि देश को एक बार फिर गुलामी की ओर धकेला जा रहा है। एक तरफ किसान कृषि कानून की वापसी के सवाल पर लगातार आठ माह से दिल्ली के बॉडरो पर बैठे हैं, वहीं सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंग रही है।

    उन्होंने कहा कि सरकार को तीनों काले कानूनों वापस लेना होगा नहीं तो गद्दी से उतार दिया जाएगा। लड़ाई कानूनों की वापसी तक जारी रहेगा ।

    इस मौके पर प्रखण्ड सचिव उमेश पासवान, जिला स्थाई समिति सदस्य प्रमोद यादव, इनौस जिला सचिव शत्रुधन कुमार, किसान महासभा के प्रखण्ड अध्यक्ष जनार्दन प्रसाद ने किया जबकि कार्यक्रम में किसान नेता व आत्मा के पूर्व मुखिया नरेश महतो, विन्देश्वरी प्रसाद, अखिलेश चौहान, महेन्द्र, अमरनाथ, मोतीलाल बिन्द, श्रवण कुमार, शांत देवी आदि लोग शामिल हुए।

    Comments