अन्य
    अन्य

      विकास की आंधी में भूत बंगला दिखा सीएम नीतीश कुमार के पैतृक गांव का पुस्तकालय !

      रेफरल अस्पताल, आर्युवेदिक कालेज, अत्याधुनिक शूटिंग रेंज, 24घंटे बिजली-पानी, बाईपास सड़क, गांव जाने के लिए चारों ओर से चकाचक सड़क वहाँ पुस्तकालय अपने भाग्य पर आठ- आठ आंसू बहाने को विवश है..

      नालंदा दर्पण डेस्क (जयप्रकाश नवीन): “खामोशी इसमें पसरती  है

      खुशबू किताबों की महकती है,

      मौन चेहरे रहते हैं सब यहाँ

      आपस में कुर्सियां बतलाती है

      पुस्तकें हाल अपना बयां करती है। “

      cm nitish kumar village education 2पुस्तकालय के सबंध में सटीक वर्णन करती यह शायरी बिहार के सीएम नीतीश कुमार के अपने पैतृक गांव कल्याण विगहा में निर्मित पुस्तकालय भवन को देखकर बेमानी लगती है।

      तीन वर्ष पूर्व बने लगभग छह लाख की राशि से बने पुस्तकालय भूत बंगला बना हुआ है। यहाँ किताब और शेल्फ की जगह थ्रेसर मशीन रखी जाती है। पाठकों की जगह यहाँ सुनापन है। बंद ताले इस पुस्तकालय की दुर्दशा को बयान करते है। जिस कल्याण विगहा में सब कुछ है।

      कहते हैं बिहार में विकास की धारा देखनी हो तो एक बार कल्याण विगहा पधार कर देखिए। लेकिन शायद यहाँ भी ज्ञान का कबाड़ा निकला हुआ है। विकास का मतलब शिक्षा को छोड़कर सब कुछ है। शायद छह लाख की राशि से बने कल्याण विगहा के पुस्तकालय को देखकर तो यही भ्रम होता है।

      बिहार सरकार के योजना एवं विकास विभाग की ओर से मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना के तहत पार्षद संजय कुमार ने 5 लाख 98 हजार 8 सौ की राशि से कल्याण विगहा में पुस्तकालय भवन का उद्घाटन किया था।

      योजना संख्या 44/16-17 में जब यह पुस्तकालय भवन निर्मित हुआ तो कल्याण  विगहा में एक अदद पुस्तकालय होने के गौरव से लोग अभिभूत हो रहे थे।

      कल्याण विगहा को भी लगने लगा था एक दिन मेरा खुद का पुस्तकालय होगा, उसमें ढ़ेर सारी प्रेम की किताबें होगी, इतिहास, राजनीति की किताबें होगी, वीर रस की किताबें होगी, थ्रिलर और कामेडी से लेकर साहित्यिक किताबें, पत्र-पत्रिकाएं होगी।

      शिक्षाविदों का जमावड़ा होगा, किताबों पर चर्चा होगी। लेकिन शायद विकास की आंधी में कल्याण विगहा को एक अदद पुस्तकालय का सुख नहीं मिलना था, सो नही मिला। शायद विकास की आंधी में शिक्षा नहीं आती है। जिस कल्याण विगहा में विकास की आंधी देखने को मिलती है।

      रेफरल अस्पताल, आर्युवेदिक कालेज, अत्याधुनिक शूटिंग रेंज, 24घंटे बिजली-पानी, बाईपास सड़क, गांव जाने के लिए चारों ओर से चकाचक सड़क वहाँ पुस्तकालय अपने भाग्य पर आठ- आठ आंसू बहाने को विवश है।

      पुस्तकालय भवन का उपयोग एक कर्मचारी के रहने के लिए किया जाता रहा है। लेकिन अब वह बंद पड़ा रहता है। यह भूसे रखने के लिए काम में लाया जाता है। प्रथम नजर में कोई भी इस भवन को देख ले तो उन्हें पता ही नहीं चलेगा कि यह पुस्तकालय भवन है।

      उद्घाटन बोर्ड को देखकर ही पुस्तकालय होने का पता चलता है। यहाँ तक कि गांव के लोगों को भी पता नहीं है कि उनके गांव में कोई पुस्तकालय भवन है।

      बहुत ढूंढने पर नालंदा दर्पण को वह पुस्तकालय भवन मिल ही गया। जहाँ किताबों की जगह सिर्फ खालीपन था। जहाँ कभी-कभार भूसा रखने के उपयोग में लाया जाता है।

      पुस्तकालय भवन की ओर जाने के लिए ईट सोलिंग भी की गई थी लेकिन वह भी अब साबूत नहीं है। आने जाने के रास्ते में सिर्फ जंगल ही है।

      कहने को सीएम नीतीश कुमार के गृह गाँव में बहुत कुछ है। इसी पुस्तकालय भवन से सटे पीएचईडी विभाग का कार्यालय है, बैंक की शाखा है, एटीएम है। लेकिन पुस्तकालय का विकास नहीं हो सका है।

      उपर से बिडम्बना देखिए ग्रामीणों ने बताया कि यहाँ एक पशु चिकित्सालय भी है जो किराये के भवन में चल रहा है, जो हमेशा बंद ही रहता है।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      Related News

      85,124,792FansLike
      1,188,842,671FollowersFollow
      345,671,298FollowersFollow
      92,437,120FollowersFollow
      85,496,320FollowersFollow
      40,123,896SubscribersSubscribe
      Expert Media News Video
      Video thumbnail
      पियक्कड़ सम्मेलन करेंगे सीएम नीतीश कुमार के ये दुलारे
      00:58
      Video thumbnail
      देखिए वायरल वीडियोः पियक्कड़ सम्मेलन करेंगे सीएम नीतीश के चहेते पूर्व विधायक श्यामबहादुर सिंह
      04:25
      Video thumbnail
      मिलिए उस महिला से, जिसने तलवार-त्रिशूल भांजकर शराब पकड़ने गई पुलिस टीम को भगाया
      03:21
      Video thumbnail
      बिरहोर-हिंदी-अंग्रेजी शब्दकोश के लेखक श्री देव कुमार से श्री जलेश कुमार की खास बातचीत
      11:13
      Video thumbnail
      भ्रष्टाचार की हदः वेतन के लिए दारोगा को भी देना पड़ता है रिश्वत
      06:17
      Video thumbnail
      नशा मुक्ति अभियान के तहत कला कुंज के कलाकारों का सड़क पर नुक्कड़ नाटक
      02:36
      Video thumbnail
      झारखंडः देवर की सरकार से नाराज भाभी ने लगाए यूं गंभीर आरोप
      02:57
      Video thumbnail
      भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष एवं सांसद ने राँची में यूपी के पहलवान को यूं थप्पड़ जड़ा
      01:00
      Video thumbnail
      बोले साधु यादव- "अब तेजप्रताप-तेजस्वी, सबकी पोल खेल देंगे"
      02:56
      Video thumbnail
      तेजस्वी की शादी में न्योता न मिलने से बौखलाए लालू जी का साला साधू यादव
      01:08