26 C
Patna
Tuesday, October 19, 2021
अन्य

    मगही पान की खेती कोरोना वायरस की चपेट में

    Expert Media News Video_youtube
    Video thumbnail
    बंद कमरा में मुखिया पति-पंचायत सेवक का देखिए बार बाला डांस, वायरल हुआ वीडियो
    01:37
    Video thumbnail
    नालंदाः सूदखोरों ने की महादलित की पीट-पीटकर हत्या, देखिए EXCLUSIVE Video रिपोर्ट
    05:26
    Video thumbnail
    नालंदाः नगरनौसा में अंतिम दिन कुल 107 लोगों ने किया नामांकण
    03:20
    Video thumbnail
    नालंदा में फिर गिरा सीएम नीतीश कुमार की भ्रष्ट्राचारयुक्त निश्चय योजना की टंकी !
    03:49
    Video thumbnail
    नगरनौसा में पांचवें दिन कुल 143 लोगों ने किया नामांकन पत्र दाखिल
    03:45
    Video thumbnail
    नगरनौसा में आज हुआ भेड़िया-धसान नामांकण, देखिए क्या कहते हैं चुनावी बांकुरें..
    06:26
    Video thumbnail
    नालंदा विश्वविद्यालय में भ्रष्ट्राचार को लेकर धरना-प्रदर्शन, बोले कांग्रेस नेता...
    02:10
    Video thumbnail
    पंचायत चुनाव-2021ः नगरनौसा में नामांकन के दौरान बहाई जा रही शराब की गंगा
    02:53
    Video thumbnail
    पिटाई के विरोध में धरना पर बैठे सरायकेला के पत्रकार
    03:03
    Video thumbnail
    देखिए वीडियोः इसलामपुर में खाद की किल्लत पर किसानों का बवाल, पुलिस को पीटा
    02:55

    नालंदा दर्पण।  इसलामपुर प्रखंड के अर्जुन सेरथुआ सराय, बौरी सराय, मैदिकला, इमादपुर,कोचरा डौरा आदि गांवों के किसानो के द्वारा बडे शहरों मे बेचने के लिए तोड़े गए लाखों रुपए मूल्य के पान के पत्ते भी कोरोना वायरस की चपेट में है।

    यहां मगही पान के पत्ते यूं ही रंग से बदरंग होकर सड़ रहे हैं। जिसके कारण किसानो में भारी मायूसी देखी जा रही है। किसानों का कहना है कि वाहनों का परिचालन ठप पड़ा है और बाहर बेचने के लिए घर में लाकर सजाकर रखे गए पान बेकार हो रहे है। जबकि यह पान बडे बडे शहरों मे उंचे दामों पर बिकता था।MAGHI PAN CORONA VIRUS 1

    किसानों ने कहा कि चौरसिया समाज के लिए पान की खेती हीं एकमात्र ऐसा रोजगार है। जिसके आमदनी से लोग अपने परिवार वालों का भरण-पोषण करते हैं। सुबह-शाम की रोटी से लेकर बेटी का शादी तक का एक मात्र साधन पान की खेती है। लेकिन लॉकडाउन से पान उनके ही मुह में छाले पड़े है।

    जबकि अप्रैल के पहले सफ्ताह से नए (तरीका) से पान के बरेजा को तैयार करना है। लेकिन घर में दाना के साथ पैसा का भी अभाव हैं। किसानों को चिंता सता रही है कि आने वाले दिनों में पान के बरेजा (खेती) को कैसे तैयार किया जाएगा।

    सेरथुआ से पान किसान रवि चौरसिया, सिद्धनाथ चौरसिया, प्रमोद चौरसिया, अवधेश चौरसिया, अखिलेश चौरसिया, छोटे चौरसिया, गुड्डू चौरसिया, दिलीप चौरसिया, श्यामबाबू चौरसिया, सरयुग चौरसिया आदि लोगों ने बताया कि इस लॉक डाउन में उनकी रही सही कमर भी बिल्कुल टूट गई है। आगे कुछ नहीं दिखाई दे रहा है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    संबंधित खबरें

    326,897FansLike
    8,004,563FollowersFollow
    4,589,231FollowersFollow
    235,123FollowersFollow
    5,623,484FollowersFollow
    2,000,369SubscribersSubscribe