अन्य
    Thursday, July 18, 2024
    अन्य

      मगही पान की खेती कोरोना वायरस की चपेट में

      नालंदा दर्पण।  इसलामपुर प्रखंड के अर्जुन सेरथुआ सराय, बौरी सराय, मैदिकला, इमादपुर,कोचरा डौरा आदि गांवों के किसानो के द्वारा बडे शहरों मे बेचने के लिए तोड़े गए लाखों रुपए मूल्य के पान के पत्ते भी कोरोना वायरस की चपेट में है।

      यहां मगही पान के पत्ते यूं ही रंग से बदरंग होकर सड़ रहे हैं। जिसके कारण किसानो में भारी मायूसी देखी जा रही है। किसानों का कहना है कि वाहनों का परिचालन ठप पड़ा है और बाहर बेचने के लिए घर में लाकर सजाकर रखे गए पान बेकार हो रहे है। जबकि यह पान बडे बडे शहरों मे उंचे दामों पर बिकता था।MAGHI PAN CORONA VIRUS 1

      किसानों ने कहा कि चौरसिया समाज के लिए पान की खेती हीं एकमात्र ऐसा रोजगार है। जिसके आमदनी से लोग अपने परिवार वालों का भरण-पोषण करते हैं। सुबह-शाम की रोटी से लेकर बेटी का शादी तक का एक मात्र साधन पान की खेती है। लेकिन लॉकडाउन से पान उनके ही मुह में छाले पड़े है।

      जबकि अप्रैल के पहले सफ्ताह से नए (तरीका) से पान के बरेजा को तैयार करना है। लेकिन घर में दाना के साथ पैसा का भी अभाव हैं। किसानों को चिंता सता रही है कि आने वाले दिनों में पान के बरेजा (खेती) को कैसे तैयार किया जाएगा।

      सेरथुआ से पान किसान रवि चौरसिया, सिद्धनाथ चौरसिया, प्रमोद चौरसिया, अवधेश चौरसिया, अखिलेश चौरसिया, छोटे चौरसिया, गुड्डू चौरसिया, दिलीप चौरसिया, श्यामबाबू चौरसिया, सरयुग चौरसिया आदि लोगों ने बताया कि इस लॉक डाउन में उनकी रही सही कमर भी बिल्कुल टूट गई है। आगे कुछ नहीं दिखाई दे रहा है।

      संबंधित खबर

      error: Content is protected !!