अन्य

    जिला जज के ‘वर्चुअल ऑर्डर’ के विरोध में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गए सारे वकील

    बिहार शरीफ (नालंदा दर्पण)। बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर पटना हाई कोर्ट के निर्देश पर नालंदा जिले के हिलसा और बिहार शरीफ कोर्ट की कार्यवाही में वर्चुअल मोड अपनाने का आदेश दिया गया है।

    लेकिन आज जैसे हीं जिला जज के निर्देश पर जब सुरक्षा बलों ने बिहारशरीफ कोर्ट परिसर के दोनों गेट को बंद कर अधिवक्ताओं और आम लोगों को जाने से रोका तो अधिवक्ता संघ ने इसका विरोध जताते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। अनधिकृत लोगों की भीड़ कोर्ट परिसर में नहीं आ सके।

    इस संबंध में जिला जज डॉक्टर रमेश चंद्र द्विवेदी ने बताया कि कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए माननीय हाईकोर्ट के निर्देश पर कोर्ट को वर्चुअल मोड में शुरू कराया किया गया है।

    उन्होंने बताया कि उसे लेकर आज अधिवक्ताओं और अधिकारियों की बैठक भी बुलाई गई थी। इसके बावजूद अधिवक्ताओं ने इसका विरोध किया है। वे माननीय उच्च न्यायालय के आदेश का पालन कर रहे हैं। वर्चुअल मोड न्यायिक कार्य अगले आदेश तक जारी रहेगा।

    उधर, अधिवक्ता संघ के सचिव दिनेश कुमार सिंह के अनुसार बिना किसी पूर्व सूचना के कोट को वर्चुअल मोड में शुरू किया गया था। आज अचानक अधिवक्ताओं और उनकी गाड़ियों के प्रवेश पर रोक लगा दिया गया।

    उन्होंने कहा कि इसको लेकर जब हम लोग माननीय जिला जज से मिलने गए हैं तो उन्होंने हम लोगों के साथ अमर्यादित ढंग से बर्ताव करते हुए जाने को कहा।

    उन्होंने बताया कि उसी दुर्व्यवहार के विरोध में सारे अधिवक्ता न्यायिक कार्यों का बहिष्कार करते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। जब तक जिला जज अधिवक्ताओं से माफी नहीं मांगते हैं, तब तक हम लोग कोर्ट परिसर में कदम नहीं रखेंगे।