अन्य

    जिलाधिकारी ने ग्रामीण इलाकों में किए गए कुओं के जीर्णोद्धार की समीक्षा बैठक की

    ** सर्वेक्षण में कुल 2682 कुआं चिन्हित किए गए, जिनमें से 2267 कुओं के जीर्णोद्धार का कार्य प्रारंभ किया गया **

    बिहारशरीफ (नालंदा दर्पण)। नालंदा जिलाधिकारी शशांक शुभंकर ने मंगलवार को पंचायती राज विभाग द्वारा जिला स्तर पर किए जा रहे कुआं जीर्णोद्धार के कार्यों की समीक्षा की।

    जिसमें कुआं के जीर्णोद्धार एवं सोख्ता निर्माण के संदर्भ में बताया गया कि ग्रामीण क्षेत्रों में कराये गए सर्वेक्षण में कुल 2682 कुआं चिन्हित किए गए, जिनमें से 2267 कुओं के जीर्णोद्धार का कार्य प्रारंभ किया गया।

    अब तक 1611 कुओं का जीर्णोद्धार कार्य पूरा किया गया है। सभी कुओं के समीप, जहां भी जमीन उपलब्ध है, वहां सोख्ता का निर्माण किया जाना है। अब तक 1202 सोख्ता का निर्माण पूरा किया गया है।

    जिलाधिकारी ने सभी सर्वेक्षित कुओं की संबंधित पोर्टल पर इंट्री सुनिश्चित कराते हुए उनके जीर्णोद्धार का कार्य पूरा कराने का निर्देश दिया। जिन कुओं के जीर्णोद्धार का कार्य प्रारंभ हुआ है किंतु पूरा नहीं हुआ है, उसे सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए पूर्ण कराने का निर्देश दिया गया।

    हर घर नल का जल की समीक्षा के क्रम में बताया गया कि जिला में पंचायती राज विभाग द्वारा 2146 वार्डों में कुल 2388 योजनाओं का क्रियान्वयन कराया गया है। इनमें से 1864 योजनाओं में जल मीनार का निर्माण कराया गया है, शेष 524 योजनाओं में जल मीनार का कार्य नहीं हुआ है।

    सभी बीपीआरओ को जल मीनार विहीन इन सभी 524 योजनाओं की विस्तृत जांच सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया। जांच के क्रम में बीपीआरओ यह देखेंगे कि योजना की संपूर्ण राशि वार्ड क्रियान्वयन समिति को हस्तांतरित हुई या नहीं।

    अगर संपूर्ण राशि हस्तांतरित हुई है तो संपूर्ण राशि की निकासी की गई है या नहीं। जहां भी संपूर्ण राशि की निकासी की गई है, वहां तत्कालीन संबंधित वार्ड क्रियान्वयन समिति को नोटिस निर्गत कर जल मीनार का निर्माण कार्य पूरा कराया जाएगा, अन्यथा संबंधित डब्लूआईएमसी के विरुद्ध राशि के गबन के आरोप में प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी।

    Comments