अन्य

    नालंदा डीएम ने आपदा प्रबंधन की बैठक में दिए कई अहम निर्देश

    बिहार शरीफ (नालंदा दर्पण)। नालंदा जिलाधिकारी शशांक शुभंकर ने आज संभावित बाढ़ आपदा पूर्व तैयारी को लेकर आपदा प्रबंधन की बैठक कर जिला में स्थानांतरण के फलस्वरूप नव पदस्थापित सभी बाढ़ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंताओं को अपने-अपने क्षेत्र का त्वरित स्थल भ्रमण कर सभी बांध तटबंध का निरीक्षण सुनिश्चित करने का निर्देश जिलाधिकारी द्वारा दिया गया।

    वर्त्तमान में जारी सभी  बाढ़ निरोधी कार्यों को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए पूर्ण कराने का निर्देश सभी अभियंताओं को दिया गया।

    पूर्व में विभिन्न बाढ़ प्रमंडल के अभियंताओं को तटबंध/जमींदारी बांध की मरम्मती से संबंधित कार्य हेतु 17 महत्वपूर्ण चिन्हित स्थल की विवरणी उपलब्ध कराई गई थी। कराए गए कार्यों के अद्यतन स्थिति की जानकारी ली गई। लगभग सभी कार्य पूर्ण कराए गए हैं।

    जिलाधिकारी ने सभी अंचलाधिकारी एवं अनुमंडल पदाधिकारी को इन सभी योजनाओं का स्थल निरीक्षण कर कार्य के स्थिति से संबंधित प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।

    आपदा प्रबंधन से संबंधित पूर्व की बैठक में जिला के जनप्रतिनिधिगण द्वारा भी बाढ़ निरोधी कार्यों के लिए कुछ स्थलों की सूची उपलब्ध कराई गई थी। उन सभी कार्यों से संबंधित अनुपालन की स्थिति का प्रतिवेदन सभी संबंधित कार्यपालक अभियंता को अविलंब समर्पित करने का निर्देश दिया गया।

    विभिन्न प्राकृतिक/गैर प्राकृतिक आपदा में मृत लोगों के निकटतम आश्रितों को त्वरित रूप से अनुग्रह अनुदान की राशि का भुगतान सुनिश्चित किया जाना है। ऐसे मामलों में अनावश्यक विलंब होने पर संबंधित कर्मी/पदाधिकारी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

    सभी अंचल अधिकारियों को अपना कार्यालय निरीक्षण कर भुगतान हेतु लंबित मामलों को चिन्हित कर अविलंब भुगतान सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया। सभी अनुमंडल पदाधिकारियों को इसे सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए मॉनिटरिंग का निर्देश दिया गया।

    जिलाधिकारी ने स्पष्ट रूप से कहा कि आपदा मुआवजा भुगतान से संबंधित कोई भी मामला कभी भी अनावश्यक रूप से लंबित नहीं होना चाहिए।

    अगलगी से फसल क्षति तथा आपदा से पशु मृत्यु से संबंधित अनुदान के मामलों में वांछित प्रतिवेदन से संबंधित कार्रवाई सुनिश्चित कराने का निर्देश जिला कृषि पदाधिकारी एवं जिला पशुपालन पदाधिकारी को दिया गया।

    बाढ़ आपदा की स्थिति में कुछ घंटों में सभी चिन्हित जगहों पर सामुदायिक रसोई का संचालन सुनिश्चित होना चाहिए। इसके लिए सभी आवश्यक पूर्व तैयारी सुनिश्चित रखने का निर्देश सभी अंचल अधिकारियों को दिया गया।

    पशु शिविर के लिए भी पशुचारा एवं दवा की पर्याप्त उपलब्धता समय से सुनिश्चित रखने की व्यवस्था का निर्देश दिया गया। स्वास्थ्य शिविर के लिए सभी आवश्यक मानव दवा विशेष रूप से सर्पदंश की दवा, ब्लीचिंग पाउडर आदि की उपलब्धता सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्तर पर सुनिश्चित कराने का निर्देश सिविल सर्जन को दिया गया।

    सभी नगर निकाय क्षेत्र में सभी नालों की लगातार साफ सफाई सुनिश्चित कराते हुए जल निकासी की समुचित व्यवस्था रखने का निर्देश दिया गया।

    जिला में परिचालन योग्य सभी नामों का निबंधन एक सप्ताह के अंदर जिला परिवहन पदाधिकारी के माध्यम से सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया।

    बैठक में अनुमंडल पदाधिकारी, सिविल सर्जन, जिला आपदा शाखा प्रभारी, सभी बाढ़ नियंत्रण कार्य प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता, अंचलाधिकारी तथा विभिन्न नगर निकायों के कार्यपालक पदाधिकारी आदि उपस्थित थे।