अन्य

    भरावपर ओवरब्रिज निर्माण को लेकर लोग हलकान, मनमानी कर रहे स्मार्ट सिटी के अफसर

    "अगर अभी कुछ वर्षों तक पुल की आवश्यकता नहीं महसूस होती है तो इसको जहां पर ज्यादा जरूरी है, वहां पर प्राथमिकता देते हुए काम शुरू करवाएं...

    बिहार शरीफ ( नालंदा दर्पण / तालिब)। बिहार शरीफ नगर के अति व्यस्त भरावपर इलाके में उत्पन्न जाम की स्थिति देखते हुए स्मार्ट सिटी द्वारा ओवर ब्रिज का निर्माण कार्य शुरू होने वाला है, जिसको लेकर स्थानीय लोगों में बहुत काफी निराशा व्याप्त है।

    समाजसेवी इंजीनियर अली अहमद…..

    इस संदर्भ में समाजसेवी इंजीनियर अली अहमद ने कहा कि जिला प्रशासन को ब्रिज निर्माण से पहले स्थीनीय लोगों से वार्ता कर उनके समस्याओं पर भी ध्यान देना चाहिए।

    उन्होंने बताया कि लोगों में चिंता के कई कारण हैं। पहला कारण, अगर अतिक्रमण मुक्त भराव पर कर दिया जाए तो फिलहाल ओवरब्रिज की आवश्यकता नहीं है। इस पैसे का किसी सही जगह इस्तेमाल किया जाए, जिससे शहर को और बेहतर सुविधा मिल सके।

    दूसरा ओवर ब्रिज निर्माण के नक्शा पर लोगों को आपत्ति है। जैसा के सुनने में आया है कि ब्रिज का शुरुआती और अंतिम छोड़ पर ज्यादा अधिक दूरी तक मिट्टी भरावट किया जाएगा, जबकि लोगों के अंदर चर्चा है कि कम से कम एरिया में मट्टी भरावट हो, बाकी पिलर पर ब्रीज उठे।

    तीसरा सबसे बड़ा चिंता वाली बात यह है के ब्रिज शहर वासियों को जाम से निजात दिलाने के लिए बनाया जा रहा है। मगर ब्रिज को गन गन दीवान पेट्रोल पंप के पास उतारना सही नहीं है, क्योंकि शहर में जब भी कोई धार्मिक जुलूस मनी राम बाबा के अखाड़ा या बड़ी दरगाह जाता है तो शहर का मुख्य मार्ग बाधित होता है। इसलिए ओवरब्रिज को सोगरा कॉलेज के बाद उतारा जाए, जिससे शहर के लोगों को ज्यादा से ज्यादा लाभ होगा।

    उन्होंने कहा कि गंगन दीवान में ब्रिज उतारने से शहर को कुछ फायदा नहीं होगा। शहरवासियों को लग रहा है कि स्मार्ट सिटी के पैसा को व्यर्थ किया जा रहा है। शहर को बहुत ज्यादा लाभ नहीं हो पाएगा।

    अली अहमद ने जिला प्रशासन और नगर निगम बिहार शरीफ स्मार्ट सिटी के पदाधिकारी से निवेदन किया हैं कि शहर और लोकल लोगों को इस ओवरब्रिज के निर्माण में साथ लेकर उनके सुझाव पर विचार कर दोबारा नक्शा में संशोधन कर काम करवाए।

    वहीं ओवर ब्रिज निर्माण से पहले वैकल्पिक पथ को भी कंप्लीट कराना चाहिए, जिससे आम शहर वासियों को परेशानी कम से कम हो। वैकल्पिक रास्ता टेलिफोन एक्सचेंज पोस्ट ऑफिस रोड का भी बुरा हाल है, जो पिछले कई वर्षों से जर्जर हालत में है।

    शहर के बीचोबीच होते हुए भी आज तक किसी का ध्यान नहीं गया है और दूसरा नाला रोड उसकी भी हालत खराब है। इसलिए जिला प्रशासन को सबसे पहले टेलीफोन एक्सचेंज से पोस्ट ऑफिस वाले रोड और नाला रोड को पूरा ठीक करा लेना चाहिए।

    उन्होंने बताया कि नाला रोड से निकलने वाले ब्लॉक के पास हॉस्पिटल मोड़ के पास सरकारी बस स्टैंड के पास पालिका बाजार के पास सभी ब्रांच रोड को पहले अपडेट करने के बाद भराव पर ओवर ब्रिज निर्माण करने से शहरवासियों को परेशानियों का सामना कम करना पड़ेगा। वरना शहर का मुख मार्ग बाधित होने से पूरा शहर जाम की चपेट में आ जाएगा

    अली अहमद साहब ने इस बाबत जिला प्रशासन, नगर निगम के साथ हीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी अवगत कराने की बात कही है।

     

    राजगीरः भारतीय जरासंध अखाड़ा परिषद का संघर्ष रंग लाया, जल्द निखरेगा प्राचीन धरोहर सिद्धनाथ मंदिर का सौन्दर्य

    राजगीर में पदस्थ कार्य. अभियंता के ठिकानों पर विशेष निगरानी टीम की छापामारी जारी

    प्रेमिका ने नौकरी लगते ही शादी से इंकार करने पर प्रेमी को चप्पल से धूना, मामला पहुंचा थाना