अन्य

    अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर प्रभात फेरियां के साथ कई कार्यक्रम आयोजित, जानिए ग्रामीण महिलाओं का दर्द

    "बड़े-बड़े कारपोरेट घराने को अरबो खरब का कर्ज केन्द्र सरकार के द्वारा माफ कर दिया गया। लेकिन छोटी-छोटी कर्ज जो महिलाओ को रोजगार के लिए दिया गया था, उसको माफ करने के बजाय उन महिलाओ के भैंस बकरी चौखट केवाड़ी उखाड़ लेने की धमकी देकर पैसा बसूला जा रहा है....

    इसलामपुर (नालंदा दर्पण)। स्थानीय आर्य कन्या मध्य विद्यालय के छात्राओं द्वारा विश्व महिला दिवस पर प्रभात फेरियां निकाली गयी। जो नगर के विभिन्न मुख्य मार्गों से होकर गुजरी।

    वही जैतीपुर प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में सर्वोत्तम महिला संकुल जीविका संघ की ओर से महिला दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

    इस दौरान जदयू अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव धर्मेन्द्र चौहान ने कहा कि महिलाएं घर का काम से लेकर प्रधानमंत्री तक कि कुर्सी संभालने में सक्षम है। सिर्फ आत्म विश्वास रखने की जरूरत है।

    उन्होंने महिलाओं से दहेज प्रथा बंद करने और बच्चों को शिक्षित बनाने पुरूषों को शराब बंदी जैसे कुरीतियों को दूर करने की शपथ दिलाई।

    इस मौके पर झेत्र अधिकारी राम प्रकाश कुमार, किरण कुमारी,ममता कुमारी, रंजीत कुमार, बीपीएम लवकुश प्रसाद, आदि महिला मौजूद थे। जबकि कार्यक्रम का संचालन जीवका दीदी रजनी कुमारी ने किया।

    इधर अखिल भारतीय प्रगतिशिल महिला एसोसिएशन (ऐपवा) के द्वारा अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर भाकपा माले कार्यालय से जूलुस निकाला गया। जो नगर के विभिन्न मुख्य मार्गो से होकर गुजरा।

    इस जुलुस में शामिल महिलाओ ने महिलाओं पर अत्याचार बंद करने का आवाज वुलंद किया और समुह की महिलाओ के माईक्रो फाइनांस कम्पनियों एंव जीविका के द्वारा दिये गए कर्ज माफ कर पुन: जीवन को पटरी पर लाने के लिए एक-एक लाख रूपया बिना ब्याज के कर्ज देने का मांग किया।

    माले सचिव उमेश पासवान व इनौस जिला सचिव शत्रुधन कुमार ने कहा कि आज पुरा विश्व महिला दिवस के रूप में मना रही है। लेकिन भारत मे पिछले दिन बिना किसी तैयारी के कोरोना काल में लॉक डॉउन लगा दिया गया। जिससे महिलाओं को रोजगार के लिए ली गई कर्ज घर परिवार चलाने में खर्च हो गया है।

    इस अवसर पर ऐपवा नेत्री शान्ति देवी, नगीया देवी, रिंकु कुमारी, पुजा देवी, सुशीला देवी, संगीता देवी, ललिता देवी, लालमनी देवी आदि दर्जनों महिला मौजूद थे।

    Comments