अन्य

    विशेष सशस्त्र पुलिस कानून के खिलाफ SDPI का विरोध प्रदर्शन, CM नीतीश का फूंका पुतला

    जो नीतीश कुमार कल तक BJP को बड़का झुठा पार्टी कहती थे, आज उसी झुठा पार्टी का सरदार बनके बिहार की जनता को ठगने और जनता का गला घोंटने पर उतर आए हैं....

    बिहार शरीफ (नालंदा दर्पण)। सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया ने राजद के साथ मिलकर बिहार के कई जिलों में काले कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए नालन्दा जिला मुख्यालय बिहार शरीफ के हॉस्पिटल चौक पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला दहन किया।

    इस दौरान जिला महासचिव फतह अली ने कहा कि कल बिहार विधानसभा में जिस तरह से लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई गई और बिहार पुलिस ने सदन के अंदर घुसके विपक्ष के विधायकों को मारने पीटने का काम किया। ये दर्शाता है कि बिहार विशेष सशस्त्र कानून कितना खतरनाक है।  ये कला कानून भाजपानीत सरकार के मुखिया नीतीश कुमार वापस लें, वरना जन आंदोलन के लिये तैयार रहे।

    जिला सचिव मुहम्मद सेराज ने कहा कि कल जिस तरह से लोकतंत्र का मंदिर विधानसभा में घुसकर पुलिस ने बिल का विरोध करहे विपक्षी विधायको को पीटा है, वो कतई बर्दाश्त के काबिल नहीं। कल पूरे देश ने देखा कि कैसे सदन में महिला प्रतिनिधि पुलिसिया दरिंदगी का शिकार हुई महिला विधायक का बाल पकड़ कर सदन में घसीटा गया। ये नारी का अपमान ही नही, बल्कि संविधान की हत्या भी है।

    SDPI के लीडरों ने कहा है कि नीतीश कुमार संघ के इशारे पर काम कर रही है और बिहार को जंगलराज की आग में धकेल रही है। इस काले कानून को तत्काल वापिस वरना SDPI राज्यस्तरीय आंदोलन करेगी।