अन्य

    कार्यपालक सहायकों की राज्यव्यापी अनिश्चितकालीन हड़ताल का यहां भी दिखा असर

    कार्यपालक सहायक के हड़ताल का असर नालंदा जिला में भी देखने को मिला। हड़ताल के कारण लोग बिना काम हुए वापस लौटते देखे गए। सरकारी कार्य  भी प्रभावित हुआ....

    बिहारशरीफ (नालंदा दर्पण)। बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ, बिहार के आह्वान पर आज संपूर्ण बिहार के सभी विभागों में कार्यरत कार्यपालक सहायकों द्वारा अपने आठ सूत्री लंबित मांगों की पूर्ति तथा बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसाइटी के द्वारा उच्च स्तरीय समिति की अनुशंसा से हटकर कार्यपालक सहायकों के हितों के विरुद्ध लिए गए निर्णय के विरोध में आज 15 मार्च से अनिश्चितकालीन हड़ताल में शामिल हो गए हैं।

    उपरोक्त जानकारी देते हुए संघ के अध्यक्ष अभिषेक अनुराग ने बताया कि बिहार के विभिन्न कार्यालयों में कार्यरत 30हजार कार्यपालक सहायक आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं ,जिससे बिहार के महत्वपूर्ण कार्य तथा 51 तरह की योजना बाधित हो गई है ।राज्य में लोक सेवा अधिकार, लोक शिकायत निवारण ,बिजली आपूर्ति ,नगर निगम ,जिला कार्यालय ,प्रखंड कार्यालय से लेकर पंचायत स्तर पर कार्य प्रभावित हुआ है।

    उन्होंने कहा कि सभी कार्यपालक सहायक अपने वाजिब हक नियमितीकरण हेतु गठित उच्च स्तरीय समिति की अनुशंसा का अक्षरत अनुपालन करने हेतु सरकार से कई बार आश्वासन मिला ,परंतु अभी तक लाभ प्राप्त नहीं हुआ है।

    संघ के प्रदेश अध्यक्ष अभिषेक अनुराग एवं सचिव शशिकांत पाठक ने कहा कि सरकार शासी परिषद की 29वीं बैठक में जो निर्णय ली गई है, जिससे समस्त बिहार के कार्यपालक सहायकों में रोष उत्पन्न हो गयी है। प्रदेश अध्यक्ष ने चेतावनी दी अगर हम लोगों की मांगे 48 घंटे के अंदर सरकार नहीं  मानी तो बाघ्य  होकर आमरण अनशन  किया जाएगा।

    वहीं प्रदेश महासचिव सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि हम लोगों के मांगों के समर्थन में आज पटना स्थित गर्दनीबाग धरना स्थल पर जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव भी पहुंचे तथा हमारे आंदोलन को समर्थन दिया है।

    Comments