अन्य

    यूं फैल रही इसलामपुर पान अनुसंधान केन्द्र की महक, यूपी के अफसरों ने लिया जायजा

    इसलामपुर (नालंदा दर्पण)। इन दिनों इसलामपुर पान अनुसंधान केंद्र परिसर में लगे हर्बल गार्डन की चर्चा पड़ोसी राज्यों में भी होने लगी है।

    The smell of the spreading of Islampur Pan Research Center the officers of UP took stock 2यही वजह है कि उतर प्रदेश के प्रयाग राज मंडल के प्रयागराज, कौशम्वी, प्रतापगढ, फतेहपुर आदि जिले के 34 कृषि प्रसार अधिकारियों की टीम इसलामपुर पान अनुसंधान केंद्र पहुंचे और हर्बल गार्डन का जायजा लिया।

    इस दौरान केंद्र के प्रभारी एसएन दास ने आगतुंक अधिकारियों को विभिन्न प्रकार के संरक्षित औषधीय पौधों के गुण और क्रोप के केटेरिया के महत्व के साथ किसानों के रुझान से संबंधित विषयों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी।

    श्री दास ने बताया कि औषधीय पौधों का व्यासाय आज समय की मांग है। खासकर इसबगोल की खेती से भारत भी विदेशी मुद्रा अर्जित कर रही है। क्योंकि भारत ही एक ऐसा देश है, जो इसबगोल का निर्यात पूरी दुनिया में कर रही है।

    डा. प्रभात कुमार ने कहा कि लुप्त हो रहे श्याम तुलसी के पौधा को राजगीर की पहाडियों से लाकर संरक्षित किया गया है। इसके वारे में भी आगतुंक अफसरों को विस्तार पूर्वक जानकारी दी।

    इस मौके पर आगंतुकों की टीम में पंकज पांडेय, उदय कुमार सिंह, राकेश सिंह, प्रदीप कुमार, संजय वर्मा आदि के अलावे केंद्र के सहायक तकनीकी डा. अजीत कुमार पांडेय, मुन्ना लाल आदि लोग मौजूद थे।

    Comments

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.