अन्य
    अन्य

      पटना आक्रोश-कैंडल मार्च में नालंदा पुलिस पर लगे गंभीर आरोप, मामला LIC अफसर की पीट-पीट कर हुई हत्या का

      "एलआईसी अफसर की हुई पीट-पीट कर हत्या के दौरान उनकी पत्नी एवं परिजनों ने स्थानीय बिहार थाना के थानेदार दीपक कुमार को सत्रह कॉल किया था, लेकिन पुलिस ने कॉल अनसुना कर दिया। परिवार के लोग मदद के लिए लोगो से भी गुहार लगाते रहे, लेकिन दबंग छोटे लाल यादव के आगे किसी ने उनकी मदद नहीं की और सरेआम पीटपीट कर प्रवीण कृष्ण की हत्या कर दी गयी......

      नालंदा दर्पण (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। बिहार के सीएम मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिला नालन्दा के बिहार शरीफ में जमींदार परिवार से ताल्लुक रखने वाले भारत सरकार में एलआईसी अधिकारी प्रवीण कृष्ण की पीट पीट कर हुई हत्या मामले में पटना के कारगिल चौक के पास वैश्य समाज के लोगों ने गुरुवार की देर शाम आक्रोषपूर्ण कैंडल मार्च निकाला।

      Anger candle march in Patna over beating of LIC officer in Bihar Sharif 1इस दौरान परिजनों और बड़ी संख्या में वैश्य समाज के लोगों के साथ मोरवा विधायक रणविजय साहू , सुषमा साहू , प्रेमालोक मिशन स्कूल के निदेशक और प्रख्यात शिक्षाविद व पर्यावरणविद गुरु प्रेम भी मौजूद रहे।

      इस कैंडल मार्च में शामिल लोगों के साथ परिजनों में मृतक प्रवीण कृष्ण की पत्नी, बेटी सुरभी, भाई सुदर्शन कृष्ण व कैप्टन सुजीत कृष्ण सहित परिवार के अन्य लोग ने सरकार और नालन्दा पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

      परिजनों ने हत्यारोपी एलजेपी नेता छोटे लाल यादव समेत अन्य की गिरफ्तारी , परिवार को मुआवजा सुरक्षा के साथ बिहार थाना के थानेदार दीपक कुमार को सस्पेंड करने की मांग कर रहे थे।

      परिवार वालों ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाई है कि बिहार थाना पुलिस अपराधियों से मिली हुई है। हत्याकांड के दौरान परिवार वाले 17 कॉल लगातार पुलिस को करते रहे, लेकिन पुलिस नही रिस्पॉन्स दिया और हत्यारों के चले जाने के बाद पुलिस पहुंचती है।

      परिजनों ने सरकार से मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने और अपराधियों को फाँसी की सजा दिलाने की मांग की है।

      परिवार वालों के मुताबिक जमींदार परिवार से ताल्लुक रखने वाले प्रवीण कृष्ण की 28- 02-2021 को बिहार शरीफ के झिंग नगर में घर के सामने ही एलजेपी नेता छोटे लाल यादव ने अपने समर्थकों के साथ बुरी तरह पीटाई कर निर्ममता पूर्वक हत्या कर दी,  जिसका वीडियो सीसीटीवी फुटेज में देख लोगो का कलेजा कांप जा रहा है। मृतक भारत सरकार में एलआईसी अफसर के रूप में नई दिल्ली में पोस्टेड थे ।

      परिवार वालों ने बताया कि घटना में प्रवीण कृष्ण के साथ ही उनके दो भाई सुदर्शन कृष्ण व कैप्टन सुजीत कृष्ण को भी बुरी तरह मार पिटा था, जो घायल हैं।

      परिवार वालों ने इस हत्याकांड में बिहार थाना की पुलिस की मिलीभगत का आरोप भी लगाया है। जिससे अभी तक हत्यारों को गिरफ्तार नहीं किया गया है। हत्यारे खुलेआम घूम रहे हैं, जिससे परिवार के लोग दहशत और खौफ में जी रहे हैं।

      विधायक रणविजय साहू ने बताया कि हत्यारों ने जिस तरह घटना को अंजाम दिया और अब उसके बाद लोकल थाना पुलिस उनकी मदद कर रही है। जबकि हत्या की वारदात पूरी तरह सीसीटीवी में कैद हो गयी है।Anger candle march in Patna over beating of LIC officer in Bihar Sharif 2

      सबसे अधिक दर्दनाक बात यह है कि अपराधी अभी भी गिरफ्तार नहीं हुए हैं, यहां तक ​​कि पुलिस भी उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। यह घटना झींग नगर, बिहारशरीफ के बिहार थाना में घटित हुई है।

      हत्यारा छोटे लाल यादव पिता रामाशीष यादव जो आपराधिक पृष्ठभूमि के हैं और अन्य आरोपियों में भूषण यादव रामजी यादव, विरमानी यादव के साथ कई भू-माफिया बाके यादव, पिता बाबू लाल गोप, मनोज यादव पिता राम जतन गोप, सुनील कुमार पिता लक्ष्मी नारायण साहा, कृष्ण नंदन प्रसाद उर्फ ​​बिपू पिता अवध प्रसाद सिन्हा, रिंकू कुमार पिता कृष्ण नंदन प्रसाद और 15 अन्य लोग जो सभी आपराधिक प्रवृत्ति के हैं।

      इन सभी लोगों ने प्रवीण कृष्ण और दो भाइयों सुदर्शन कृष्ण व कैप्टन सुजीत कृष्ण पर पत्थरों, छड़ों, लाठी से हमला करते हुए बुरी तरह मारते पीटते रहे। इस दौरान प्रवीण कृष्ण की पीटपीट कर हत्या कर दिया गया। हत्यारों ने प्रवीण कृष्ण को तब तक लगातार पीटते रहे जब तक वे संतुष्ट नहीं हुए।

      यहाँ तक कि शव को भी लाठी छड़ रॉड पत्थरो से कुचला गया । मृतक की पत्नी और दो घायल भाई घटना के चश्मदीद हैं। इसके अलावा पास में लगे कैमरे में पूरी घटना के सीसीटीवी फुटेज मौजूद हैं और फिर भी नालन्दा पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।

      परिवार वालों के मुताबिक चूंकि तीनों भाई सेवा क्षेत्र में हैं, इसलिए उनमें से कोई भी बिहार शरीफ में निवास करने में सक्षम नहीं है, जिसके कारण छोटे लाल यादव ने हमारी पुश्तैनी जमीन हड़पने के इरादे से हमारे परिसर के भीतर एक मंदिर का निर्माण कराया था।

      भू-माफियाओं के इस दबंगई का जब प्रवीण कृष्ण और दोनो भाई सुदर्शन कृष्ण व कैप्टन सुजीत कृष्ण ने इस अवैध निर्माण पर आपत्ति जताई तो इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      Related News