अन्य
    Sunday, July 21, 2024
    अन्य

      बंगलौर से नहीं पहुंच सका बेटा, भूखमरी की शिकार माँ को बेटी ने दी मुखाग्नि

      बेटी हीरामणी ने बताया कि घर में खाने के लाले पडे है। ग्रामीणों की सहयोग से मां का अंतिम संस्कार किया गया है। अब आगे का कार्य कैसे होगा। यह चिंता सता रही है।

      इसलामपुर (नालंदा दर्पण)। इसलामपुर प्रखंड के अर्जुन सेरथुआ गांव में बीते मंगलवार को स्व. बलिराम महराज की पत्नी गौरी देवी की अचानक मौत को हो गई। जिसके बाद बेटी ने की मुखग्नि देकर अंतिम संस्कार किया। जो कि चर्चा का विषय बन गया है।

      islampur news 2ग्रामीणों के अनुसार गौरी देवी भूखमरी के बीच लंबे अरसे से बीमार चल रही थी। जिसकी देखभाल उसकी बेटी कर रही थी। जबकि बेटा संतन और श्रवण बंगलौर में रहकर अपने परिवार का भरण पोषण करता है।

      मां की अचानक मौत होने के कारण बेटा घर नहीं आ सका। तब बेटी ने ही मां का शव ग्रामीणों के सहयोग से अंतिम संस्कार करने के लिए घाट पहुंची। वहां पर बेटी से मुखग्गिन का कार्य सम्पन्न करवाया गया। तव जाकर शव का अंतिम संस्कार हुआ।

      बेटी हीरामणी ने बताया कि घर में खाने के लाले पडे है। ग्रामीणों की सहयोग से मां का अंतिम संस्कार किया गया है। अब आगे का कार्य कैसे होगा। यह चिंता सता रही है।

      संबंधित खबर

      error: Content is protected !!