अन्य
    Sunday, July 21, 2024
    अन्य

      महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में ‘सी थ्री’ का प्रयास सराहनीय : हरिनारायण सिंह

      इस कार्यक्रम का उद्देश्य महिला पंचायत प्रतिनिधियों के बीच प्रजनन, मातृत्व, नवजात, शिशु स्वास्थ्य और पोषण से सम्बंधित सेवाओं और अधिकारों के सन्दर्भ में जागरूकता बढ़ाने हेतु जमीनी स्तर पर महिला नेतृत्व को प्रोत्साहन देना है ताकि वे इन मुद्दों से सम्बंधित स्थानीय प्राथमिकताओं और समस्याओं को चिन्हित कर उनकी बेहतरी हेतु कदम उठाने में समर्थ हो सकें...

      चंडी (नालंदा दर्पण/राजू)। चंडी प्रखंड के नालंदा इंजीनियरिंग काॅलेज के पास एक भवन में प्रखंड स्तरीय मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य और पोषण मुद्दो पर सुदृढ़ीकरण हेतु  सेंटर फॉर कैटेलाईजिंग चेंज के द्वारा चैंपियन परियोजना के अंतर्गत प्रखंड स्तरीय संवाद बैठक का आयोजन किया गया।

      nalanda darpan chandi harnaut mla 1इस मौके पर हरनौत विधायक हरिनाराण सिंह,बीडीओ अवधेश कुमार राय,जिला परिषद सदस्य निरंजन मालाकार, पूर्व मुखिया चंद्रभूषण प्रसाद, जदयू नेता अनिल कुमार, चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. पुरूषोतम प्रियदर्शी,अभय कुमार गौरव,परियोजना पदाधिकारी सीओई ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया।

      बैठक को संबोधित करते हुए हरनौत विधायक एवं पूर्व मंत्री हरि नारायण सिंह ने कहा कि स्वास्थ्य एवं पोषण के क्षेत्र में काम करने वाली उन सभी जन प्रतिनिधियों को मेरा सहयोग प्राप्त होते रहेगा।

      जन प्रतिनिधियों को प्रोत्साहित करते हुए उन्होंने कहा की वे भी एक जन प्रतिनिधि हैं फर्क इतना है की एक वार्ड सदस्य एक वार्ड को जबकि एक विधायक एक या एक से अधिक प्रखंडों को प्रतिनिधित्व करते हैं।  महिलाओं के अंदर अभूतपूर्व बदलाव लाने के लिए उन्होंने सी थ्री संस्था द्वारा चलाए जा रहे चैंपियन परियोजना की सराहना एवम् भूरि- भूरि प्रशंसा भी की।

      उन्होंने यह भी बताया की राज्य सरकार, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में अनेक योजनाओं को लागू करने का असर अब जमीन पर फलीभूत हो रहा है।

      जिला समन्वयक, नालंदा के चंदन कुमार  के द्वारा प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए कार्यक्रम के उद्देश्य एवं रुपरेखा पर भी चर्चा की गयी I

      सेंटर फॉर केटलाइजिंग चेंज से आए प्रतिनिधि प्रकाश  रंजन, वरिष्ठ कार्यक्रम पदाधिकारी के द्वारा संस्था का परिचय देते हुए संस्था के विभिन्न कार्यों पर प्रकाश डाला गया I

      उन्होंने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य महिला पंचायत प्रतिनिधियों के बीच प्रजनन, मातृत्व, नवजात, शिशु स्वास्थ्य और पोषण से सम्बंधित सेवाओं और अधिकारों के सन्दर्भ में जागरूकता बढ़ाने हेतु जमीनी स्तर पर महिला नेतृत्व को प्रोत्साहन देना है ताकि वे इन मुद्दों से सम्बंधित स्थानीय प्राथमिकताओं और समस्याओं को चिन्हित कर उनकी बेहतरी हेतु कदम उठाने में समर्थ हो सकें।

      सेंटर फॉर कैटेलाईजिंग चेंज संस्था के द्वारा बिहार के 8 जिलों के 26 प्रखंडों के 300 से ज्यादा ग्राम पंचायतों की 1600 से ज्यादा महिला पंचायत जनप्रतिनिधियों को चैंपियन बनाने का प्रयास किया जा रहा है ताकि मातृत्व स्वास्थ्य एवं पोषण सम्बन्धी मानकों में बेहतरी लाया जा सके।

      उन्होंने जन प्रतिनिधियों द्वारा लिए गए सकारात्मक प्रयासों पर प्रकाश डालते हुए कहा की चैंपियन परियोजना से पहले महिला जन प्रतिनिधियों का स्वास्थ्य एवं पोषण पर समझ, जानकारी एवं जुड़ाव ना के बराबर था एवं उनकी पहली प्राथमिकता आर्थिक रूप से जुड़े हुए योजनाओं जैसे हर घर नल का जल एवं सड़क के निर्माण पर ज्यादा था।

      चैंपियन परियोजना ने न केवल महिला जन प्रतिनिधियों को स्वास्थ्य एवं पोषण के प्रति उनकी जिम्मेदारीयों को अहसाह करवाया वरण इन मुद्दों को उनकी प्राथमिकता सूची में लाने में सफल रही है।

      चैंपियन परियोजना ने महिला जन प्रतिनिधियों को घर की चाहरदीवारी से बाहर निकाल कर उनके पद की मर्यादा एवं उनकी जिम्मेदारियों को सफलतापूर्वक एहसास दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है।

      जन प्रतिनिधिगन अब अपने क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले आंगनवाडी केंद्र, स्कूल, स्वास्थ्य केंद्र की निगरानी रखने लगी हैं एवं महिलाओं एवं बच्चों को नियमानुसार सुबिधाओं को दिलाने में अपनी भूमिका निभाने लगी हैं I

      बैठक में नालंदा जिला के चंडी प्रखंड से आयी हुई कुछ चुनिन्दा महिला जन प्रतिनिधियों ने भी मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य एवं पोषण की बेहतरी के लिए किये जा रहे अपने प्रयासों को साझा किया एवं राज्य सरकार एवं नीति निर्माताओं से स्वास्थ्य एवं पोषण सेवाओं की गुणवत्तापूर्ण उप्लाव्धता हेतु अपनी मांग पत्र को सुपुर्द किया।

      जिला स्तरीय संबाद बैठक के दौरान महिला वार्ड सदस्यों ने अपनी बात माननीय सांसद के समक्ष राखी उनमें प्रमुख रूप से श्रीमती बिंदु देवी, प्रतिमा देवी, रेणु देवी, शर्मिला देवी, संगीता देवी, मीना देवी, रुना देवी, कामिनी देवी, एवम् उषा देवी प्रमुख रही।

      कार्यक्रम के दौरान मातृत्व, नवजात, शिशु स्वास्थ्य एवं पोषण की स्थिति में सुधार लाने, उनके उत्कृष्ट योगदान एवं सराहनीय प्रयास के लिए लाने हेतु कुल 8 महिला जन प्रतिनिधियों को भी सम्मानित किया गया।

      श्रीमती रीना देवी, वार्ड संख्या 9, रुखाई पंचायत, वार्ड सदस्य, नालंदा जिला को ‘चैंपियन ऑफ चैंपियंस’ के अवार्ड से भी सम्मानित किया गया I

      कार्यक्रम के अंत में महिला जन प्रतिनिधियों के एक समूह ने डॉक्टर पुरुषोत्तम प्रियदर्शी, प्रभारी, रेफरल अस्पताल, नालंदा ने कहा कि सरकार लगातार स्वास्थय सुविधाओं की बेहतरी हेतु प्रयास कर रही है। कॉरोना की वजह से कुछ सुविधाएं प्रभावित हुई थी, जिन्हें फिर से दुरुस्त कर लिया गया है एवम् अब किसी प्रकार की शिकायत किसी महिला को नहीं होगी यह उनका आश्वासन है।

      मंच संचालन चैंपियन परियोजना के क्षेत्रीय समन्ययक रौशन कुमार द्वारा किया गया। कार्यक्रम के दौरान अन्य क्षेत्रीय समन्ययकों मोहम्मद शमशुल हक, अंजनी कुमारी एवम् अमरजीत कुमार का सराहनीय योगदान रहा।

      संबंधित खबर

      error: Content is protected !!