ग्रामीणों ने कालाबाजारी का राशन पकड़ पुलिस को सौंपा

0
597

डीलर के परिवार होने के नाते जिला परिषद सदस्या एवं उनके पति कालाबाजारी में सहयोग देकर बीच बचाव करने में जुटे हैं…

black marketing nalanda 3नालंदा दर्पण (तालीब)।   देश एक ओर जहां कोरोना जैसे वैश्विक महामारी से जूझ रहा है। इससे बचने के लिए किए गए लॉक डाउन में गरीब मजदूरों के बीच दो जून के रोटी की लाल पड़े हैं और सरकार के अलावा सैंकड़ समाज कार्यकर्ता लगातार जहाँ उनकी मदद को आगे हाथ बढ़ा रहे हैं, वहीं बकरा के बिनी कुमारी जनवितरण दुकानदार अनुज्ञप्ति धारी द्वारा लाभुकों के बीच अनाज न बांटकर उसे कला बाजारी करने में लगे हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि डीलर का सहयोग परिवार होने के नाते जिला परिषद सदस्या एवं उनके पति कालाबाजारी में सहयोग देकर बीच बचाव करने में जुटे हैं।

ग्रामीणों ने सोमवार को कालाबाजरी के ले जाये जा रहे अनाज को जुगाड़ गाड़ी सहित धर दबोचा और आनाज को पावापुरी पुलिस के हवाले कर दिया। इधर थानाध्यक्ष प्रभा कुमारी मौके से गाड़ी सहित अनाज को जब्त कर थाने ले गयी।

इस बात की खबर किसी तरह जिलाधिकारी योगेंद्र सिंह तक पहुंच गई और इसका संज्ञान लेते हुए तुरन्त कार्रवाई करने गिरियक अंचलाधिकारी को दिए, जिस पर सीओ चंद्रशेखर कुमार दाल बल के साथ आये और मामले की जांच करते हुए गोदम में रखे अनाज को सील के दिया गया।

black marketing nalanda 2

सीओ ने बताया कि जब्त की गई अनाज में 194 बोरा चाव, 60 बोरा गेहूं और 3 ड्राम किरोसिन तेल है। साथ मे पंजी खाता भी जब्त कर लिया गया है। इधर पुलिस प्रशासन की खबर सुनते ही संचालक नरेश प्रसाद फरार हो गया। 

ग्रामीणों का यह भी आरपो है कि गल्ला कम तौल कर देते हैं और अधिक राशि लेते हैं। साथ ही मांगने पर भी बिल भुगतान सिलिप भी नहीं देते और कहते कि कार्यालय में जमा होता है जिससे लाभुक ग्रामीणों में काफी रोष व्याप्त है।

बता दें कि जब ग्रामीण द्वारा अनाज सहित गाड़ी को पकड़ा और इसकी सूचना दी गयी तो पहले पुलिस आयी और गाड़ी सहित अनाज को थाने लेकर चली गयी। इसके बाद जिलापरिषद सदस्या अनिता देवी के पति अरविंद साव घर-घर जाकर लोगों को कहने लगे कि राशन वितरण कर रहे हैं।

फिर क्या था ग्रामीणों का गुस्सा और फुट पड़ा और महिलाओं ने आकर इसका जमकर विरोध करने लगी कि इतना दिन से नहीं बांट रहा था। आज जब चोरी पकड़ी गई है तो बचने के लिए राशन बांटने का नौटंकी करने लगा। नतीजा ग्रामीण राशन दुकान को बंद कराकर ही दम लिया।