अन्य
    अन्य

      हैवानियत की हदः दहेजलोलुपों ने गर्भवती काजल को टुकड़ों में काटकर दफन कर दिया

      रेलवे की ग्रुप डी की नौकरी से टीटीई बने पति का लालच बढ़ा

      “ऐसे पति और ससुराल वाले कि…. उनकी हैवानियत को देखकर इंसानियत भी शर्मसार हो जाएं। अपनी ही गर्भवती पत्नी को कई टूकडों में काटकर जमीन‌ के अंदर दफन कर दिया। यह ह्दयविदारक वारदात नालंदा के हिलसा थाना क्षेत्र के नोनिया विगहा गांव की है…

      हिलसा (नालंदा दर्पण)। जिस पति ने अग्नि के सात फेरे लेते हुए साथ जीने-मरने की कसमें खाई थी। उसने एक साल में ही पत्नी को मौत के घाट उतार दिया, वह भी ऐसे ही समय, जब वह उसके बच्चे की मां बनने वाली थी।

      बताया जाता है कि पटना जिले के सलीमपुर निवासी अरविंद सिंह की बेटी काजल कुमारी की शादी नोनिया विगहा के जगत प्रसाद के बेटे संजीत कुमार के साथ पिछले साल 27जून को हुई थी।

      कहा जाता है कि शादी के दौरान संजीत कुमार रेलवे में ग्रुप डी में सेवारत था। लेकिन शादी के बाद उसका प्रमोशन हो गया तो उसका व्यवहार पत्नी के प्रति बदल गया।

      अपने टीटीई होने का घमंड उसके सर चढ़ गया, वह काजल से दहेज के रूप में चार लाख रुपए की मांग करने लगा जिसे देने में काजल के पिता असमर्थ थे। जिसको लेकर उसे बराबर प्रताड़ित भी किया जाता था।

      दहेज के रूप में चार लाख नहीं मिलने से नाराज़ संजीत तथा उसके परिजन ने काजल को मौत के घाट उतार दिया। सिर्फ इतना ही नहीं हैवान पति और परिजन ने काजल के कई टुकड़े भी कर शव को जलाने का भी प्रयास किया।

      जब अपनी बेटी के ससुराल में नहीं होने की शंका हुई तो पिता ने बेटी की खोज खबर ली, तब जाकर इस ह्दयविदारक घटना का खुलासा हुआ।

      पिता अरविंद सिंह ने इसकी सूचना पुलिस को दी। जिसके बाद पुलिस द्वारा कई दिनों तक काफी खोजबीन की। इस दौरान हिलसा के नोनिया विगहा के एक खेत में ही जमीन में दफनाया हुआ शव कई टुकड़ों में बरामद किया गया।

      घटनास्थल से काजल के शव को पेट्रोल छिड़ककर जला देने के भी निशान मिले हैं। वहीं, इस घटना को लेकर मृत काजल के पिता ने पति और उसके ससुराल वालों समेत 5 लोगों पर अपनी बेटी की हत्या का आरोप लगाया है।

      फिलहाल, पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है। लोग इस घटना को सभ्य समाज के लिए कलंक बता रहे हैं।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      Related News