अन्य
    अन्य

      हरनौतः नरसंडा से घर लौट रहे बराह के अनुज सिंह की गोली मार कर हत्या

      बिहारशरीफ (नालंदा दर्पण)। बदमाशों ने शुक्रवार की देर शाम हरनौत प्रखंड के बराह निवासी 50 वर्षीय अनुज सिंह को गोलियों से छलनी कर हत्या कर दी। अनुज को नजदीक से चार गोलियां मारी गई हैं। तीन गोलियां पेट में मारी गई और एक गोली सिर में मारी गई।

      nalanda darpan harnaut murder crime 2खबर है कि शुक्रवार को नरसंडा से अपनी बाइक से घर लौटने के दौरान हरनौत एनएच 30-ए से जुड़े बराह सड़क पर जदयू नेता अरविद सिंह के रसोई गैस गोदाम के निकट उन्हें रोक कर गोली मार दी।

      इस वारदात को लेकर पुलिस अनुज सिंह के मोबाइल फोन के कॉल डिटेल एवं घटना स्थल के आस-पास के लोकेशन खंगालने में जुट गई है। पुलिस को घटना स्थल से गोली के दो खोखे मिले हैं। कोई चश्मदीद नहीं हेने के कारण हत्यारों की संख्या की जानकारी नहीं मिल पा रही है।

      अनुज सिंह का आपराधिक रिकार्ड रहा है। अपहरण के एक मामले में वह जेल भी जा चुका था। अन्य आपराधिक गतिविधियों में भी उसे संलिप्त रहने की चर्चा आम है। बदमाशों के साथ गिरोहबाजी के लिए भी वह पहचाने जाते थे। हरनौत एवं नरसंडा में जमीन से जुड़े विवाद की बात भी सामने आ रही है। एक हत्या काड में भी अनुज सिंह का हाथ होने की बात बताई जा रही है।

      तीन पुत्रियों के पिता अनुज सिंह की पत्नी अंजू कुमारी वर्ष 2006 में बराह पंचायत समिति सदस्य रहीं हैं। अनुज की पहचान दबंग की रही है। कहा जाता है कि अनुज सिंह नरसंडा में एक विवादित जमीन पर घर बनवा रहे थे। मकान का छत ढलाई होना शेष है।

      चूकि अनुज सिंह की बाइक सामान्य स्थिति की तरह शव के पास खड़ी मिली है। इससे प्रतीत होता है कि हत्यारे इनके परिचय का रहा होगा या किसी बहाने बाइक रुकवाई होगी और बातचीत करने के दौरान गोलिया मारी होगी। इस दौरान अनुज सिंह ने भागने की कोशिश की होगी, क्योंकि खून के निशान सड़क किनारे घास पर मिले हैं।

      इस वारदात को लेकर बिहार शरीफ सदर डीएसपी शिब्ली नोमानी ने बताया कि मामले के उद्भेदन के लिए इलाके का सीसीटीवी फुटेज खंगाला जा रहा है। मृतक का आपराधिक इतिहास रहा है। रजौली में फिरौती के लिए अपहरण का केस भी दर्ज था।  मृतक की पत्नी भूमि विवाद में हत्या की आशंका जता रही हैं।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      Related News