23 C
Patna
Wednesday, October 20, 2021
अन्य

    ट्रांसपोर्टर हत्याकांड में प्रखंड प्रमुख समेत 2 आरोपी दोषी करार, 29 को मिलेगी सजा

    Expert Media News Video_youtube
    Video thumbnail
    बंद कमरा में मुखिया पति-पंचायत सेवक का देखिए बार बाला डांस, वायरल हुआ वीडियो
    01:37
    Video thumbnail
    नालंदाः सूदखोरों ने की महादलित की पीट-पीटकर हत्या, देखिए EXCLUSIVE Video रिपोर्ट
    05:26
    Video thumbnail
    नालंदाः नगरनौसा में अंतिम दिन कुल 107 लोगों ने किया नामांकण
    03:20
    Video thumbnail
    नालंदा में फिर गिरा सीएम नीतीश कुमार की भ्रष्ट्राचारयुक्त निश्चय योजना की टंकी !
    03:49
    Video thumbnail
    नगरनौसा में पांचवें दिन कुल 143 लोगों ने किया नामांकन पत्र दाखिल
    03:45
    Video thumbnail
    नगरनौसा में आज हुआ भेड़िया-धसान नामांकण, देखिए क्या कहते हैं चुनावी बांकुरें..
    06:26
    Video thumbnail
    नालंदा विश्वविद्यालय में भ्रष्ट्राचार को लेकर धरना-प्रदर्शन, बोले कांग्रेस नेता...
    02:10
    Video thumbnail
    पंचायत चुनाव-2021ः नगरनौसा में नामांकन के दौरान बहाई जा रही शराब की गंगा
    02:53
    Video thumbnail
    पिटाई के विरोध में धरना पर बैठे सरायकेला के पत्रकार
    03:03
    Video thumbnail
    देखिए वीडियोः इसलामपुर में खाद की किल्लत पर किसानों का बवाल, पुलिस को पीटा
    02:55

    बिहार शरीफ (नालंदा दर्पण )। बहुचर्चित ट्रांसपोर्टर मिश्री गोप हत्याकांड में आरोपित गिरियक प्रमुख समेत दो लोगों को कोर्ट ने दोषी करार दिया है। वहीं साक्ष्य के अभाव में 5 आरोपियों को रिहा कर दिया गया है। सजा निर्धारण पर फैसला 29 सितंबर होगी।

    2 accused including the block head convicted in the transporter murder case 29 will be punished 2
    ट्रांसपोर्टर मिश्री गोप

    जिला एवं सत्र न्यायाधीश डा. रमेश चंद्र द्विवेदी ने हत्या का आरोप सही पाए जाने पर गिरियक प्रमुख रामशरण यादव उर्फ शरण गोप एवं इंद्रदेव यादव को दोषी करार दिया है। वहीं आरोपित रहे उमेश यादव, सुजीत कुमार, विवेक राय, दीपक कुमार, कुणाल कुमार को साक्ष्य के अभाव में रिहा कर दिया।

    इस मामले के 6 आरोपित जेल में बंद थे। वहीं कुणाल कुमार जमानत पर थे। अभियोजन की ओर से 9 लोगों ने गवाही दी थी। आरोपित ने भी बचाव में 3 लोगों की गवाही कराई थी।

    बता दें कि विगत 1 अक्टूबर, 2019 की सुबह करीब 7 बजे सूचक अजय कुमार यादव व भाई विजय कुमार उर्फ धनंजय अपने घर के दरवाजे पर बैठा था। उसी समय उसके पिता मिश्री यादव आ गए, तभी सभी आरोपी ने मिलकर उन्हें घेर लिया और इंद्रदेव यादव के कहने पर लाठी डंडे से मारना शुरू कर दिया। इतने में वे गिर गए। उसके बाद भी सारे आरोपी तब तक पीटते रहे, जब तक उसकी मृत्यु न हो गई।

     

    रात अंधेरे कालाबाजारी में शामिल खाद दुकान का निबंधन रद्द, बीएओ-कॉर्डिनेटर को नोटिश

    समाज के एक प्रतिष्ठित धरोहर थे विजय कृष्ण : उपेंद्र कुशवाहा

    हरनौत विधायक के पैतृक गांव का हाल- ‘मुखिया जी वोट मांगे अयबु त झाड़ू से मारबो’

    चंडी में हत्यारों का राज कायम, यहाँ आए दिन मारे जा रहे हैं महादलित : भाकपा माले

    सूदखोर का कहर: महज 3 हजार की राशि के लिए महादलित की पीट पीट कर हत्या,अनाथ हुए आठ बच्चे

     

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    संबंधित खबरें

    326,897FansLike
    8,004,563FollowersFollow
    4,589,231FollowersFollow
    235,123FollowersFollow
    5,623,484FollowersFollow
    2,000,369SubscribersSubscribe