अन्य
    Thursday, July 18, 2024
    अन्य

      डीएम ने जांच पूर्ण होने तक परवलपुर के दो राजस्व कर्मचारी को किया सस्पेंड, सीओ को शोकॉज

      बिहार शरीफ (नालंदा दर्पण)। नालंदा जिलाधिकारी शशांक शुभंकर द्वारा 20 अक्टूबर को अंचल कार्यालय परवलपुर का निरीक्षण किया गया था। निरीक्षण के क्रम में में दाखिल खारिज, परिमार्जन एवं अन्य विषयों से संबंधित कुछ दस्तावेजों की रैंडम जांच की गई थी।

      जमाबंदी वाद के एक मामले में ख़तियानी रकवा 16 के बदले 26 होने के कारण रद्द करने की अनुशंसा की गई थी। जबकि आवेदक से कोई संपर्क नहीं किया गया था, न ही भूमि का भौतिक सत्यापन एवं आवेदक से कागजात की मांग की गई थी। जमाबंदी से संबंधित अन्य वाद में बिना पंजी-ll देखे ही अस्वीकृत करने की अनुशंसा की गई।

      एक अन्य जमाबंदी वाद में दो अलग-अलग विक्रेताओं के कारण अस्वीकृत करने की अनुशंसा की गई जो, नियम के विरुद्ध है।

      जमाबंदी से संबंधित एक अन्य मामले में पिता के नाम से जमाबंदी कायम होते हुए भी आवेदक की जमाबंदी कायम नहीं की गई, जो सुसंगत प्रावधानों के प्रतिकूल है। एक अन्य जमाबंदी वाद में बिना आवेदिका को नोटिस किये ही अस्वीकृत करने की अनुशंसा की गई, जो नियम विरुद्ध है।

      परिमार्जन से संबंधित एक वाद में बिना खतियान देखे, बिना आवेदक को नोटिस किए एवं बगैर भूमि का भौतिक सत्यापन किए ही अस्वीकृत करने की अनुशंसा की गई।

      एक अन्य परिमार्जन वाद में पंजी-ll क्षतिग्रस्त होने के कारण अस्वीकृत किए जाने की अनुशंसा की गई। जबकि प्रावधान के तहत भौतिक सत्यापन कर आवेदक को नोटिस करते हुए कार्रवाई की जानी थी।

      एक परिमार्जन वाद में धारा 144 की गलत व्याख्या कर अस्वीकृत करने की अनुशंसा की गई, जो नियम के विपरीत पाया गया। इसी प्रकार कुछ अन्य मामलों में भी लापरवाही एवं प्रथम दृष्टया अनियमितता पाया गया।

      निरीक्षण के क्रम में दस्तावेजों के रेंडम जांच में स्पष्ट तथ्य के आधार पर पाया गया कि परवलपुर अंचल में राजस्व संबंधी कार्यों के निष्पादन में लापरवाही बरती जा रही है और आवेदकों को बेवजह परेशान किया जा रहा है। अंचल निरीक्षण के दौरान उपस्थित जनप्रतिनिधियों और आम जनों द्वारा भी अंचल के कार्यकलाप के विरुद्ध गहरी नाराजगी व्यक्त की गई।

      इन तथ्यों के आधार पर जिलाधिकारी ने अंचल अधिकारी परवलपुर, राजस्व कर्मचारी (प्रभारी अंचल निरीक्षक) सूर्यकांत चतुर्वेदी तथा राजस्व कर्मचारी संजीव कुमार सिन्हा से 24 घंटे में अपना स्पष्टीकरण समर्पित करने का निर्देश दिया गया है, कि क्यों नहीं उपरोक्त लापरवाही के आलोक में उन पर प्रपत्र ‘क’ गठित कर विभागीय कार्यवाही प्रारंभ की जाए।

      साथ ही निरीक्षण में प्रथम दृष्टया पाई गई अनियमितता की जांच पूर्ण होने तक राजस्व कर्मचारी संजीव कुमार सिन्हा एवं सूर्यकांत चतुर्वेदी (प्रभारी अंचल निरीक्षक) को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है। निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय भूमि सुधार उप समाहर्ता कार्यालय, बिहारशरीफ में निर्धारित किया गया है।

      संबंधित खबर

      error: Content is protected !!