अन्य
    Saturday, March 2, 2024
    अन्य

      राजगीर में स्थापित होगी सम्राट जरासंध की 30-40 फीट ऊंची प्रतिमा

      सीएम नीतीश कुमार की स्वीकृति के बाद कलाकार पहले मोम की प्रतिमा बनाएंगे। उसे देखने के बाद कमियों को दूर करने का प्रयास किया जाएगा। उसके बाद अष्टधातु की प्रतिमा का निर्माण होगा...

      राजगीर (नालंदा दर्पण)। सीएम नीतीश कुमार ने राजगीर में मगध सम्राट जरासंध स्मृति पार्क बनवाने की घोषणा की थी। इस घोषणा को हकीकत में बदलने का कार्य काफी दिनों से चालू है। अब जल्द ही इस पार्क के निर्माण का काम चालू होने की उम्मीद जगी है। जयप्रकाश उद्यान के पास इसके लिए जमीन भी चिह्नित की गयी है।

      इस पार्क में मगध सम्राट जरासंध की भव्य प्रतिमा स्थापित की जाएगी। इसका डिजाइन फाइनल हो गया है। चंद्रवंशी समाज के लोगों ने शुक्रवार को वन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर इसका डिजाइन फाइनल किया। एक-दो दिनों में इस डिजाइन को सीएम नीतीश कुमार की स्वीकृति के लिए भेजा जाएगा।

      उनकी स्वीकृति मिलते ही प्रतिमा के निर्माण का काम शुरू हो जाएगा। इसे आगरा में अष्टधातु से बनाया जाना है। प्रतिमा की निर्माण में करीब तीन महीने लगेंगे। प्रतिमा की ऊंचाई 30 से 40 फीट रहेगी।

      खड़ी अवस्था में होगी प्रतिमा: प्रतिमा खड़ी अवस्था में होगी। एक हाथ में गदा होगा। जमीन पर करीब 30 फीट की लंबाई-चौड़ाई में गोलाकार आधार होगा। इस आधार की ऊंचाई करीब आठ फीट होगी।

      इसके चारों तरफ सम्राट के जीवन से जुड़ीं प्रतिमाएं उकेरी जाएंगी। इसे गोलाकार आधार के ऊपर सम्राट जरासंघ खड़े होंगे। जमीन से इसकी ऊंचाई करीब 40 फीट होगी। प्रतिमा के चारों तरफ 74 लंबा व 64 फीट चौड़ा क्षेत्रफल को विशेष रूप से सजाया जाएगा।

      कई महीनों की मशक्कत के बाद बना डिजाइन: समाजसेवी श्याम किशोर भारती ने बताया कि आगरा के कलाकार राजगीर आए थे। उन्होंने राजगीर में सम्राट से जुड़े स्थानों का भ्रमण किया। उनकी जीवनी के बारे में जानकारी ली। उन्हें सम्राट के जीवन से जुड़े कई चित्र दिखाए गये थे।

      इसी सप्ताह उन्होंने करीब आधा दर्जन डिजाइन बनाकर स्वीकृति के लिए भेजा है। उनमें से एक डिजाइन को फाइनल किया गया। प्रतिमा में महाराज जरासंध को चक्रवर्ती सम्राट के रूप में दर्शाया जाएगा।

      सीएम की स्वीकृति के बाद कलाकार पहले मोम की प्रतिमा बनाएंगे। उसे देखने के बाद कमियों को दूर करने का प्रयास किया जाएगा। उसके बाद अष्टधातु की प्रतिमा का निर्माण होगा।

      देशभर के चंद्रवंशी आएंगे राजगीर: इस पार्क व प्रतिमा के निर्माण से राजगीर में धार्मिक व ऐतिहासिक पर्यटन के क्षेत्र में और वृद्धि होगी। सम्राट जरासंध से चंद्रवंशी समाज की आस्था जुड़ी है।

      देशभर में फैले इस समाज के लोग राजगीर को पूज्य स्थल के रूप में देखते हैं। पार्क के निर्माण से देशभर से लोग यहां पहुंचेंगे। अभी भी काफी संख्या में लोग सम्राट के अखाड़े को देखने के लिए पहुंचते हैं।

      बैठक में ये थे शामिल: बैठक में अखिल भारत वर्षीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय सचिव सह अखाड़ा परिषद राष्ट्रीय महासचिव श्याम किशोर भारती, अखाड़ा परिषद अध्यक्ष मिलन सिंह, अखाड़ा परिषद के जिलाध्यक्ष वीरू चंद्रवंशी, महासभा पदाधिकारी लालो सिंह चंद्रवंशी, महासभा राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य नागेंद्र नाथ सिन्हा, ओम प्रकाश बादल, उपेंद्र कुमार, रवि चंद्रवंशी सहित क्षेत्रीय वन पदाधिकारी अरुण कुमार सहित अन्य मौजूद रहे।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      - Advertisment -
      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!