अन्य
    अन्य

      …और मियां बिगहा गाँव में मचा हड़कंप,जब पहुंची आर्थिक अपराध ईकाई की टीम,जानें पूरा मामला

      हिलसा (नालंदा दर्पण )। आज नालंदा जिले के हिलसा के मियाँ बिगहा गाँव उस समय अचानक अफरातफरी मच गई, जब बालू माफियाओं से सांठगांठ के कारण निलंबित डीएसपी पंकज रावत के घर पर बिहार आर्थिक अपराध ईकाई की टीम छापामारी करने पहुंची।

      खबरों के मुताबिक निलंबित डीएसपी के हिलसा नगर स्थित आवास पर भी छापामारी की गई। आर्थिक अपराध इकाई की टीम ने यहाँ दो मकानों पर छापेमारी की। इस दौरान पूरे इलाके में हड़कंप मच रहा।

      दरअसल पंकज कुमार रावत हिलसा नगर के रहने वाले हैं। इनकी पोस्टिंग आरा में थी। तभी परिवहन विभाग, खनन विभाग ने डीएसपी पंकज कुमार रावत समेत विभाग के कई लोगों के खिलाफ आर्थिक अपराध इकाई में मामला दर्ज किया था।

      इसके बाद आर्थिक अपराध इकाई की टीम आज शनिवार को हिलसा पहुंची और उनके पैतृक गृह मियां बिगहा में सघन छापेमारी की। इस दौरान छापामारी टीम को कई अहम सूचनाएं मिली है।

      इस दौरान परिवारवालों से भी पूछताछ की गयी। इस दौरान उनके सौतेले भाई अवधेश रावत को लेकर हिलसा पुलिस कुआं स्थित उनके आवास पर भी गयी। इस दौरान टीम के सदस्यों द्वारा मकान में रहनेवाले लोगों से पूछताछ की और तलाशी भी ली।

      आर्थिक अपराध इकाई के इंस्पेक्टर रामजी प्रसाद ने बताया कि पंकज रावत के ऊपर आर्थिक अपराध इकाई में आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया गया है।  इसी मामले की जांच की जा रही है।

      निलंबित डीएसपी पंकज कुमार रावत के पिता राजेंद्र रावत रेलवे के रिटायर्ड इंजीनियर हैं। उनके आवास पर छापेमारी के लिए भारी संख्या में पुलिस बल को देख गांव वाले भी हैरान रह गए।

      कुछ देर तक तो लोगों को पता ही नहीं चला कि आखिर पुलिस और ईओयू की टीम क्यों आई है। जब इस बात का पता चला कि छापेमारी के लिए टीम पहुंची है तो यह खबर पूरे गांव में आग की तरह फैल गयी। जिसके बाद लोगों की भीड़ उमड़ने लगी।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      Related News